Monday, 25 May 2020

मध्य प्रदेश सरकार ने हवाई यात्रियों के लिए जारी किए दिशा-निर्देश


लॉकडाउन के चलते हवाई परिवहन ठप पड़ा हुआ था. लेकिन अब देश में सोमवार से हवाई परिवहन शुरू हो रहा है. ऐसे में दूसरे राज्यों से मप्र आने वाले यात्रियों के लिए सरकार ने दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं. इसके तहत मप्र आने वाले यात्रियों का एयरपोर्ट के अराइवल-डिपार्चर एरिया में स्वास्थ्य परीक्षण होगा. थर्मल स्क्रीनिंग में कोरोना के लक्षण पाए जाने पर यात्रियों का कोविड टेस्ट किया जाएगा.
हालांकि, इस दौरान संदिग्ध यात्री को तब तक घर नहीं जाने दिया जाएगा जब तक रिपोर्ट नेगेटिव नहीं आती है. इतना ही नहीं, यात्री को स्व-घोषणा पत्र भरना होगा, जिसमें घर के पते से लेकर संपर्क के नंबर देने पड़ेंगे. भारत सरकार ने लॉकडाउन के वजह से दूसरे प्रदेशों में फंसे यात्रियों को गृह राज्य भेजने का फैसला लिया है.
बता दें की इसे लेकर राज्य सरकार ने तैयारी की है. गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन करने को कहा है. प्रमुख सचिव स्वास्थ्य फैज अहमद किदवई ने बताया है कि एयरपोर्ट पर यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग होगी. इसमें कोरोना के लक्षण पाए जाने पर प्रोटोकाल के तहत कार्यवाही की जाएगी. उन्होंने आगे बताया कि यात्री की जांच में रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो उसे एयरपोर्ट से ही सीधे कोविड अस्पताल पहुंचाया जाएगा. नई नीति के तहत मरीज को तीन दिन बुखार न आने और कोरोना के लक्षण न दिखने पर 10 दिन में छुट्टी मिल जाएगी, पर उसे सात दिन आइसोलेशन में रहने की सलाह भी दी जाएगी. वहीं यात्रियों के मोबाइल में आरोग्य सेतु एप इंस्टॉल कराया जाए. ताकि लगातार मॉनीटरिंग की जा सके.

कोरोना कंट्रोल रूम के 22 कर्मचारी हुए संक्रमित, हेल्पडेस्क में बचे केवल 26 वर्कर


चीन के वूहान शहर से दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस के संक्रमण का प्रकोप भारत में तेजी से बढ़ रहा है. भारत में कोरोना वायरस से सबसे अधिक महाराष्ट्र जूझ रहा है. महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमितों की तादाद 50 हजार के पार पहुँच गई है. कोरोना मरीजों की जल्द से जल्द सहायता करने के लिए BMC के आपदा ​प्रबंधन नियंत्रण कक्ष में 48 कर्मचारियों को रखा गया था, जिसमें से अब तक 22 कर्मचारी कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं.
महामारी की इस घड़ी में अब हेल्प डेस्क में केवल 26 लोग ही बचे हैं. बताया जाता है इन लोगों को रोज़ाना 4000 से ज्यादा कॉल देखनी पड़ रही है, जिसकी वजह से सभी कर्मचारी काफी तनाव में हैं. BMC का आपदा ​प्रबंधन नियंत्रण कक्ष बीएमसी हेडक्वार्टर की दूसरी मंजिल पर स्थि​त है. इस नियंत्रण कक्ष से ही पूरे राज्य में कोरोना मरीजों तक सहायता पहुंचाने का काम किया जा रहा है.
मरीजों को एम्बुलेंस उपलब्ध कराना, अस्पतालों में बेड ​की स्थिति की जानकारी रखना और सं​बंधित अस्पताल से बात कर मरीजों को हर संभव सहायता देना, यहां तक की कोरोना वायरस संक्रमण से सम्बंधित सवालों के जवाब भी इसी नियंत्रण कक्ष से दिए जाते हैं. ऐसे में कम कर्मचारियों पर बोझ बढ़ गया है। 

लॉकडाउन में अमेरिका के इस पार्क का रूप नजर आया कुछ ऐसा


पूरी दुनिया में कोरोना कहर बरपा रहा है और सबसे ज्यादा कोरोना वायरस का कहर जिस मुल्क पर बरपा है वो है अमेरिका. करोड़ों लोगों की तो नौकरियां तक जा चुकी हैं. यहां तक कि 95 हजार से ज्यादा लोगों की तो इस वायरस के कारण अमेरिका में मौत हो गई है. हालांकि वहां अभी भी लॉकडाउन जारी है. बर्शते कुछ एहतियात दी गई है.
हाल ही में एक वीडियो सामने आया है. जी हां, ये अमेरिका के एक पार्क का है. वही पार्क जहां आप-हम दौड़ने जाते हैं. योग करने जाते हैं. अब दुनिया को इस वीडियो से बहुत कुछ सीखने की जरूरत है. खासतौर पर उन लोगों को जो पार्क में घूमने जाते हैं. यह मामला सैन फ्रांसिस्को का है. यहां के Dolores Park का वीडियो है ये.
बता दें की इस वीडियो में दिख रहा है कि पार्क में सोशल डिस्टेंस सर्कल बना रखे हुए हैं. यहां तक कि अमेरिका के अलग-अलग शहरों में ये पैटर्न फॉलो किया जा रहा है. ये वीडियो ड्रोन कैमरा से शूट किया गया है. यहां तक कि लोग अपने-अपने सर्कल में बैठे भी हैं. यहां तक कि पार्क में सोशल डिस्टेंस बनाने का ये तरीका लोगों को काफी पसंद आया है. जाहिर सी बात है कोरोना वायरस के बाद से बहुत कुछ बदलने वाला है. अमेरिका की इस पहल से दुनिया को भी कुछ सीखना चाहिए.

शाहरुख खान की वेब सीरीज बेताल पर लगा कहानी चुराने का आरोप, जानें क्या है पूरा मामला


शाहरुख खान भले ही फिलहाल किसी फिल्म में काम नहीं कर रहे हैं लेकिन वे डिजीटल प्लैटफॉर्म पर धड़ल्ले से काम कर रहे हैं। उनके बैनर रेड चिलीज एंटरटेनमेंट ने करीब हफ्तेभर पहले वेब सीरीज 'बेताल' का ट्रेलर लॉन्च किया था, जिसमें विनीत कुमार और अहाना कुमरा लीड रोल में नजर आए थे। इस वेब सीरीज को 24 मई को नेटफिलिक्स पर रिलीज किया गया है, जिसको दर्शकों से पॉजिटिव रिस्पांस मिल रहा है। हालांकि, रिलीज होते ही ये सीरिज विवादों में फंस गई।
वेब सीरीज से जुड़ी सामने आई खबर में बताया गया कि दो मराठी लेखकों ने बेताल के प्रोड्यूसर्स पर कहानी चोरी करने का आरोप लगाया है। इसकी शिकायत उन्होंने राइटर्स एसोसिएशन में भी दर्ज करवाई है। समीर वाडेकर और महेश गोस्वामी नाम के दो लेखकों का दावा है कि इस वेब सीरीज की कहानी उनकी फिल्म से चुराई गई है। उनका दावा है कि उन्होंने लगभग एक साल पहले अपनी कहानी को रजिस्टर कराया था। वो इसे लेकर रेड चिलीज के पास भी गए थे लेकिन बैनर ने उनसे कोई बात नहीं की थी।
लेखकों ने यह भी दावा किया है कि 'बेताल' के मेकर्स ने केवल कहानी ही नहीं बल्कि कुछ सीन्स भी चुराए हैं। यह मामला कोर्ट में है लेकिन सीरिज पर स्टे नहीं लगा है। अभी तक शाहरुख की कंपनी की तरफ से इस मामले पर कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है।
शाहरुख ने कुछ टाइम पहले ही नेटफिलिक्स के साथ हाथ मिलाया है। उनके बैनर तले बनी 'बार्ड ऑफ ब्लड' रिलीज हो चुकी है, जिसे दर्शकों का अच्छा रिपॉन्स नहीं मिला था। वहीं, 'बेताल' को दर्शकों की तरफ से अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है।

ट्रेन में मुस्लिम महिला ने सरकार के लिए कही ये बात, रेल मंत्री ने शेयर किया वीडियो


कोरोना वायरस की वजह से लगे हुए लंबे लॉकडाउन के कारण देशभर में प्रवासी मजदूर काफी फजीहत का सामना कर रहे हैं। खाने-पीने से लेकर उनके सामने आब रहवास तक की समस्या है रही है। रोजी-रोटी का संकट सामने वह अलग। ऐसे में हर प्रवासी मजदूर की एक ही ख्वाहिश है कि वह जैसे- तैसे अपने घर पहुंच जाएं। ऐसे में इंडियन रेलवे के द्वारा चलाई गई स्पेशल ट्रेनों के जिए मजदूर अपने घरों को पहुंच रहे हैं। एक मुस्लिम महिला ने ट्रेन बैठकर सरकार की मदद और रेलवे प्रशसन की जमकर तारीफ की है। महिला के इस वीडियो को रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शेयर किया है। उन्होंने लिखा कि ऐसे लोगों की प्रतिक्रियां हमारा हौंसला और मनोबल को बढ़ाती है।

दुल्हन को घर में एंट्री दिलाने से पहले अस्पताल लेकर पहुंचा दूल्हा, हर कोई हैरान..फिर सब ने की तारीफ


हरियाणा के एक अस्पताल में परिसर में जब अचानक फूलों से सजी गाड़ी पहुंची तो हर कोई उसको झांककर देखने लगा। सब यही कहने लगे कि आखिर इतनी सजी-धजी गाड़ी यहां कैसे आई है। जब कुछ देर बाद पता चला कि कार से नवविवाहित जोड़ा उतर रहा था। यह दूल्हा-दुल्हन मंडप से सीधे कोरोना टेस्ट करवाने पहुंचे थे।
दरअसल, यह मामला सिरसा के  नागरिक अस्पताल का है। जहां शनिवार के दिन भंगू गांव का युवक पंजाब के लंबी गांव से अपनी दुल्हन लेकर आया था। वह घर जाने के बजाए पहले  जांच के लिए सीधे असपताल पहुंचा था। जहां कुछ लोगों समेत दूल्हे और दुल्हन का कोरोना टेस्ट करवाया।
सिरसा के नागरिक अस्पताल के सीएमओ डॉ सुरेंद्र नैन ने बताया कि लोगों को इन दूल्हा और दुल्हन से कुछ सीख लेना चाहिए। वह घर जाने की बजाए यहां जाच कराने के लिए आए थे। उन्होंने कहा- ऐसे लोग और भी हैं जिनकी अभी अभी शादी हुई है, वह भी अपनी जांच कराएं।
बता दे कि शनिवार को सिरसा जिला प्रशासन से अनुमति लेकर चंद लोग बारात लेकर पंजाब पहुंचे थे।
मीडिया से बात करते हुए नवविवाहित जोड़े का कहना था कि ये हमारा कर्तव्य बनता था। इसलिए हमने यह जांच करवाई है।
आप देख सकते हैं कि सिरस के नागरिक अस्पताल परिसर में किस तरह दूल्हा-दुल्हन कोरना की जांच कराने के लिए जा रहे हैं।
सिरसा सिविल अस्पताल में जब अचानक एक फूलों से सजी गाड़ी पहुंची तो हर कोई झांक-झांककर उसको देख रहा था।

बेबस लड़की से हुआ प्यार, खाना बांटते वक्त लगा दिल और फिर रचाई शादी

 

उत्तरप्रदेश के कानपुर में लॉकडाउन के दौरान ऐसी कई कहानियां सामने आई हैं, जो हैरान करने वाली हैं।यहां लॉकडाउन में फुटपाथ पर खाना बांटने के दौरान एक युवक को भीख मांगने वाली लड़ने से प्यार हो गया। उसके बाद दोनों ने शादी कर ली। ये शादी बतौर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए रचाई गई। इस शादी में कई लोग मोजूद रहे।  नीलम के पिता नहीं हैं और मां हैं जो पैरालिसिस से जूझ रही हैं। नीलम के भाई और भाभी ने उसे मारपीट कर घर से भगा दिया था। उसके पास लॉकडाउन में गुजारा करने के लिए भी कोई साधन नहीं थी। इसलिए वो लिए फुटपाथ पर भिखारियों के साथ लाइन में बैठकर भीख मांगने लगी। ये युवक फुटपाथ पर भिखारियों के साथ बैठने वाली नीलम को रोज खाना बांटता था। फिर उसी के साथ उसने शादी रचाई। दोनों ने सातों जन्म साथ रहने की कसमें खाईं और हमेशा एक-दूसरे का साथ देने का वादा किया। ये शादी एक उदाहरण है सामाजिक सोच बदलने की।

जब तूफान के वजह से फंसा कुत्ता तो लोगों ने इस तरह बचाई जान


बीते दिनों ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्रों में अम्फान तूफान ने काफी तबाही मचाई। 165 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही थीं। यहां तक कि काफी प्रॉपर्टी को नुकसान भी हुआ। चक्रवात की वजह से बड़ी संख्या में पेड़ और बिजली के खंभे गिर गए। खबरों के मुताबिक, 72 से ज्यादा लोगों की तो मौत भी हो गई। इस बीच तूफान के कई वीडियो भी आए, जिसे देख लोगों का दिल दहल गया। पर एक वीडियो और सामने आया। जिसने  इंसानियत की मिसाल पेश की। तूफान में  एक कुत्ता फंस गया था। दो लोगों ने मिलकर उसकी जान बचाई। ट्विटर पर ये वीडियो इशिता यादव ने शेयर किया है। हालांकि ऐसा कहा जा रहा है कि ये वीडियो कोलकाता का है।

ईद के मौके पर इरफान पठान ने कुछ ऐसे दी देशवासियों को मुबारकबाद, शेयर किया VIDEO


दुनियाभर के देशों में आज ईद का त्योहार मनाया जा रहा है. लोग एक-दूसरे को सोशल मीडिया के जरिए भी मुबारकबाद दे रहे हैं. भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व क्रिकेटर इरफान पठान ने भी ईद की शुभकामनाएं सोशल मीडिया के जरिए सभी के साथ शेयर की है. इरफान ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया है जिसमें वो अपने भाई यूसुफ पठान और अपने अब्बा के साथ हैं और सभी देशवासियों को ईद की मुबारकबाद दे रहे हैं. इरफान ने वीडियो में कहा कि इस बार का ईद काफी सिम्पल रहा, हम बेहद ही सादगी के साथ ईद मना रहे हैं. बता दें कि इस समय कोरोना का कहर पूरी दुनिया में बरप रहा है. ऐसे में ईद का त्योहार इस बार बेहद ही सादगी से मनाया जा रहा है. इरफान ने इससे पहले एक वीडियो भी शेयर किया था जिसमें वो सभी फैन्स से घर में रहकर ईद को सादगी के साथ मनाने की अपील की थी. इरफान के अलावा हरभजन सिंह ने भी ट्वीट कर ईद की शुभकामनाएं देश वासियों को दी है. भारतीय कमेंटेटर हर्षा भोगले ने भी ट्वीट कर इस खास मौकें पर सभी को मुबारकबाद संदेश दिया है.

क्वारंटाइन सेंटर पहुंची केंद्रीय मंत्री रेणुका सिंह ने अधिकारियों को धमकाया- अंधेरे कमरे में ले जाकर बेल्ट से मारना अच्छे से जानती हूं


छत्तीसगढ़ के बलरामपुर में केंद्रीय रेणुका सिंह एक क्वारंटाइन सेंटर पहुंचकर वहां दो अधिकारियों को धमकाया. केंद्रीय मंत्री ने अधिकारियों को धमकाते हुए कहा कि मैं अंधेरे कमरे में लेजाकर बेल्ट से अच्छा से मारना जानता हूं. धमकी देते हुए मंत्री का वीडियो भी वायरल हो गया है.
बलरामपुर जिले के रहने वाले दिलीप गुप्ता ने क्वारंटाइन सेंटर में सुविधाओं की कमी को लेकर वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर अपलोड किया था. इसमें आरोप लगाया गया था कि चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर और तहसीलदार ने वीडियो अपलोड करने पर उनके साथ हाथापाई की. इसके बाद केंद्रीय मंत्री रेणुका सिंह ने इसे मामले का संज्ञान लिया और क्वारंटाइन सेंटर जायजा लेने पहुंचीं.
क्वारंटाइन सेंटर का जायजा लेने पहुंची केंद्रीय मंत्री ने वहां अधिकारियों को धमाकाया. उनके धमकाने का वीडियो भी सामने आ गाय है. वीडियो में अधिकारियों से वह कह रही हैं, 'दादागिरी नहीं चलेगी. ये कोई भी अधिकारी ना सोचे कि हमारी सरकार नहीं है. हमने 15 साल सरकार चलाई है. हमने राज्य से भूखमरी, नक्सलवाद और अशिक्षा को भगाया है. इस राज्य में हमने विकास किया है. 2745 करोड़ रुपये हमने दिए हैं. कोरोना से लड़ने के लिए भारत सरकार के पास पैसे और इच्छाशक्ति की कोई कमी नहीं है. भाजपा कार्यकर्ताओं को कमजोर मत समझिए. आप जो भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ भेदभाव कर रहे हैं, भूल जाइए. अंधेरी कोठरी में ले जाकर बेल्ट खोलकर मारना अच्छे से जानती हूं.'

बिहार : प्रवासी श्रमिकों ने क्वारंटाइन सेंटर जाने से बचने की तरकीब निकाली, संक्रमण का खतरा बढ़ा


बिहार के खगड़िया का एक वीडियो सामने आया है जिसमें श्रमिक ट्रेन में सफर पूरा करने के बाद मजदूरों की क्वारंटाइन सेंटर पर जाने से बचने की तरकीब उजागर हुई है. मजदूर ट्रेन के बीच में ही वैक्यूम कर उतर गए. इसके अलावा रेलवे लाइन के बगल से पैदल जा रहे श्रमिक ट्रेन को रुकता देखकर उस पर चढ़ने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग को ताक में रखकर जोरअजमाइश करते हुए दिखे.
मजदूरों को जिन स्पेशल ट्रेनों के जरिए उनके घरों तक पहुंचाया जा रहा है वे ट्रेनें बीच में कहीं नहीं रुकनी चाहिए. बीच में उतरना बिल्कुल मना है. लेकिन फिर भी कुछ मजदूर क्वारंटाइन सेंटर में जाने से बचने के लिए ऐसी हरकतें कर रहे हैं कि जिसकी वजह से कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ गया है. इस बात को एक वीडियो साफ कर रहा है.
बिहार के खगड़िया के वीडियो में रेलवे द्वारा चलाई गई स्पेशल ट्रेन नजर आ रही है. यह ट्रेन प्रवासी मजदूरों को कटिहार ले जा रही थी. जब यह ट्रेन मजदूरों को लेकर खगड़िया से गुजर रही थी तो अचानक रुक गई और सैकड़ों मजदूर ट्रेन से नीचे उतर गए.
यह मजदूर ऐसे हैं जो क्वारंटाइन सेंटर में जाने से बचने के लिए ट्रेन के स्टेशन पहुंचने से पहले ही चेन पुलिंग करके ट्रेन को रोक देते हैं. ट्रेन रुकने पर वे उतरकर पैदल ही अपने-अपने गांव की तरफ निकल जाते हैं. बहुत से मजदूर ऐसे हैं जो चलती ट्रेन से कूदकर उतर जाते हैं.

शराब के नशे में पानी के अंदर भालू से भिड़ गया यह शख्स, जबड़ा पकड़ा और फिर... देखें Viral Video


एक शख्स का भालू से पानी के अंदर लड़ने का वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है. इस वीडियो में आप देखेंगे कि यह शख्स खुद की जान बचाने के लिए भालू के जबड़े को पकड़कर उसे पानी के अंदर डूबाने की कोशिश कर रहा है. डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक यह घटना पोलैंड की है. रिपोर्ट के मुताबिक पोलैंड में हाल ही में कोरोनावायरस लॉकडाउन हटाया गया है. और लॉकडाउन हटने के बाद पौलेंड के वारसॉ चिड़ियाघर को खोला गया. लेकिन इस चिड़ियाघर में जो हुआ वह काफी हैरान कर देने वाला था.
इस वायरल वीडियो में आप देखेंगे कि एक शख्स भालू के पिंजरे के अंदर खड़ा है. भालू इस शख्स को देखते ही उसकी तरफ बढ़ता है, तभी यह आदमी अपनी जान बचाते हुए पानी के अंदर कूद जाता है. भालू भी इस शख्स के पीछे पानी में कूद जाता है. भालू को पानी में देखकर यह आदमी अपनी जान बचाने के चक्कर में भालू का जबड़ा पकड़कर उसे पानी में डूबाने की कोशिश करता है. रिपोर्ट के मुताबिक इस शख्स ने काफी शराब पी रखी थी.
इस वीडियो को ट्विटर पर एक यूजर ने शेयर किया है. इसमें दिखाया गया है कि भालू का पिंजरा टूटा हुआ है, और सामने एक आदमी खड़ा है. इस आदमी को अपने पिंजरा के तरफ देखकर भालू उसके तरफ बढ़ता है तभी यह शख्स घबराकर पानी के अंदर कूद जाता है.
रिपोर्ट के मुताबिक फिलहाल इस शख्स को हॉस्पिटल में एडमिट करवा दिया गया है. क्योंकि भालू से भिडंत में इस शख्स को कई जगह चोटे भी आई हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि यह वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर होने के कुछ ही घंटों को अंदर इसे 32 हजार से अधिक बार देखा जा चुका है. साथ ही लोग इसपर दिलचस्प कमेंट कर रहे हैं.

चीते ने शिकार के लिए लगाई दौड़ तो बारहसिंगा ने ऐसे दिया चकमा, सीधे दौड़ते हुए किया ऐसा... देखें Viral Video


बारहसिंगा और चीते का एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर धूम मचा रहा है. इस वीडियो में चीता, बारहसिंगा का शिकार करने के लिए उसके पीछे दौड़ता हुआ नजर आ रहा है. आपको जानकर हैरानी होगी कि यह वीडियो शेयर होने के कुछ घंटे के अंदर ही वायरल हो गया. इस वीडियो को इंडियन फॉरेस्ट ऑफिसर सुशांता नंदा ने ट्विटर पर 23 मई को शेयर किया था. आपको बता दें कि यह सिर्फ 6 सेकेंड की वीडियो क्लिप है लेकिन इसके व्यूज काफी तेजी से बढ़ रहे हैं.
इस वीडियो क्लिप में बारहसिंगा, चीते से बचने का काफी प्रयास कर रहा है लेकिन परिणाम क्या होगा. यह किसी को पता नहीं क्योंकि यह वीडियो सिर्फ 6 सेकेंड का है.
 इस वीडियो को देखने के बाद लोग दिलचस्प कमेंट करते हुए नजर आ रहे हैं. एक यूजर ने कमेंट करते हुए लिखा, 'पता नहीं क्या होगा, क्योंकि इस वीडियो में यह नहीं दिखाया गया है कि चीता, बारहसिंगा का शिकार कर पाता है या नहीं.'
इस वीडियो को देखने के बाद एक यूजर ने कमेंट किया है कि चीता जमीन पर दौड़ने वाला सबसे तेज जानवर है लेकिन इसका पसंदीदा शिकार बारहसिंगा है.

Sunday, 24 May 2020

'सीएम योगी को बम ब्लास्ट में मार डाला जाएगा... ', धमकी देने वाला कामरान गिरफ्तार


महाराष्ट्र ATS ने उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ को धमकी देने वाले युवक को अरेस्ट कर लिया है। 25 साल के कामरान अमीन ख़ान ने सीएम योगी आदित्यनाथ को जान से मारने की धमकी देने की बात कबूल कर ली है। तकनीकी और ग्राउंड इंटेलिजेंस की सहायता से कामरान को ईस्टर्न मुंबई स्थित चूनाभट्टी क्षेत्र के म्हाडा कॉलोनी से अरेस्ट किया गया। उसने यूपी सोशल मीडिया डेस्क को व्हाट्सप्प कर के सीएम योगी आदित्यनाथ को धमकी दी थी।
उसने शुक्रवार को एक मोबाइल फोन के माध्यम से ये धमकी दी थी। उसने कहा था कि सीएम योगी आदित्यनाथ को एक बम धमाके में मार डाला जाएगा। इसके बाद लखनऊ के गोमती नगर पुलिस स्टेशन में एक FIR दर्ज किया गया था और साथ ही यूपी स्पेशल टास्क फोर्स ने इस मामले में जाँच शुरू कर दी थी। महाराष्ट्र ATS के कालाचौकी यूनिट को यूपीए एसटीएफ से जो सूचना मिली, उस आधार पर कार्रवाई की गई।
डंप डेटा और ह्यूमन इंटेलिजेंस की सहायता से आरोपित के लोकेशन को ट्रेस किया गया। उसने धमकी देने के बाद अपना मोबाइल फोन बंद कर लिया था, किन्तु जैसे ही आरोपित ने इसे ऑन किया, पुलिस को भनक लग गई। उसे गिरफ्तार कर यूपी एसटीएफ के हवाले कर दिया गया है। कामरान को रविवार (मई 24, 2020) को अदालत में पेश किया जाएगा। 

चार बब्बर शेरों के बीच महिला ने दिया बच्चे को जन्म, ऐसा था पूरा मांजरा


लॉकडाउन के चलते हर कोई परेशान है. हाल ही में एक मामला गुजरात से सामने आया है. जो की चौंकाने वाला है. एक गर्भवती महिला ने कई बब्बर शेरों के बीच अपने बच्चे को जन्म दिया है.
जी हां, यह घटना गढड़ा के भाका गांव की है. 20 मई की रात लगभग 10. 20 बजे गढड़ा के भाखा गांव की रहने वाली अफसाना सबरिश रफीक को अचानक लेबर पेन शुरू हो गया. उनकी हालत काफी नाजुक थी. परिजनों ने तुरंत 108 पर फोन किया. एंबुलेंस बुलाई गई. उन्हें एंबुलेंस में अस्पताल लेकर जाया जा रहा था, तभी गिर के गढड़ा से उना के रास्ते में रसुलपरा गांव के पास 4 बब्बर शेरों ने एंबुलेंस का रास्ता रोक दिया.
बता दें की शेर झुंड में थे. लिहाजा एंबुलेंस वही रोक दी गई. कोई बाहर नहीं निकला. रिपोर्ट के अनुसार, लगभग 20 मिनट से ज्यादा एंबुलेंस वहीं खड़ी रही अफसाना ने वहीं शेरों से घिरी एंबुलेंस के बीच ही अपने बच्चे को जन्म दे दिया. हैरानी की बात तो ये है कि इस पूरे वाक्या के दौरान चारों बब्बर शेर एंबुलेंस का चक्कर लगाते रहे. जब बच्चे का जन्म हुआ तो उन्होंने रास्ता छोड़ा. हालांकि, अफसाना ने एक प्यारी सी बेटी को जन्म दिया है. मां और बच्ची दोनों सुरक्षित हैं और अस्पताल में हैं.