Sunday, 16 June 2019

स्कूलों का कर्ज चुकाने के लिए 2 बहनों ने किया ऐसा काम, सोशल मीडिया पर हुई वायरल


नार्थ कैरोलिना में रहने वाली दो बहनें 13 साल की हेली और 11 साल की हन्ना हैगर नींबू पानी का स्टाल लगाकर 41 हजार डॉलर (करीब 28 लाख रुपए) जुटाने की कोशिश कर रही हैं. कई बार ऐसा होता है कि पढ़ने की चाह रखने वालों के पास इतने पैसे नहीं होते कि वो पढ़ सके. उसी के कारण इन दोनों बहनों को ये कदम उठाना पड़ा. इनका मकसद जिले के स्कूलों के उस कर्ज को चुकाना है जो बच्चों के खाने का इंतजाम करते हैं.
हेली और हन्ना की मां एरिन हैगर का कहना है कि पहले यह दोनों बहने अपने दादा के अस्पताल के लिए पैसा जुटाना चाहती थीं, लेकिन जब उनकों पता चला कि जिले के तमाम स्कूल सरकार के 28 लाख के कर्जदार हैं. उसके बाद उन्होंने इस कर्ज को चुकाने का बीड़ा उठाया. जिले के स्कूलों की बात की जाए तो कुल रकम 28 लाख रुपए है. इस बारे में हैगर का कहना है कि अपने बच्चों का पेट भरने के लिए स्कूल सरकार के कर्जदार बन गए. बच्चों के पास खाने के पैसे नहीं थे. स्कूलों ने उन्हें खाना तो दिया पर इस प्रक्रिया में उन पर भारी भरकम कर्ज हो गया.
वहीं इन दोपनो बहनों की मां कहती हैं कि कब तक रकम जुटेगी, वे खुद भी नहीं जानतीं. फेसबुक पर चलाई मुहिम के बाद लोग मदद के लिए आगे आए जिससे उन्हें भी मदद मिलेगी. किसी ने कप डोनेट किए तो किसी ने कोई दूसरी चीज. नींबू पानी के स्टाल पर वे स्नैक भी बेचती हैं, जिससे ज्यादा से ज्यादा रकम जुटा सकें. इसी तरह से वो रकम जुटाने में लगे


67 के हुए 'बॉलीवुड के दा', ऐसा रहा नक्सलवादी से लेकर सुपरस्टार तक का सफर


हिंदी सिनेमा के दिग्गज कलाकार मिथुन चक्रवर्ती के लिए आज का दिन बेहद ख़ास है. बॉलीवुड में 'मिथुन दा' के नाम से ख़ास पहचान रखने वाले अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती का आज जन्मदिन है. आज ही के दिन साल 1952 में उनका जन्म बांग्लादेश में हुआ था. मिथुन द्वारा अभिनय की शुरुआत कला फिल्म मृगया से की गई थी, जिसके लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए पहला राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार भी प्राप्त हुआ था. आइए आज जानते हैं मिथुन दा के 67वें जन्मदिन पर उनसे जुड़ी कुछ ख़ास बातों के बारे में...
कहते हैं कि 'ऐल्टिट्यूड' हो तो माउंट एवरेस्ट जैसा, और ऐटिट्यूड हो तो मिथुन दा जैसा'. एक डाकू वाल्मीकि बन चुका था और एक नक्सलवादी गौरांग था जो सुपरस्टार मिथुन दा बना. जी हां, फिल्म इंडस्ट्री में आने से पहले मिथुन दा एक नक्सलवादी हुआ करते थे. लेकिन अपने भाई की मौत के बाद उन्होंने अपने जीवन को एक सही दिशा दिखाई.
अब बात आती है रेसलिंग की. कोई नहीं जानता था कि 1967 में 'वेस्ट बंगाल स्टेट रेसलिंग चैंपियनशिप' जीतने वाला शख्स एक दिन बॉलीवुड का डिस्को किंग और सुपरस्टार बन जाएगा. उसके बाद तो समय का पहिया कुछ इस तरह से घूमा कि मिथुन दा को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला.
बंगाल की राजधानी कोलकाता से उभरे इस सुपरस्टार ने 1976 से फिल्मों में आना शुरू किया था और पिछले करीब साढ़े चार दशकों में उन्होंने कुल मिलाकर बॉलीवुड की 350 से अधिक फिल्मों में अभिनय कर डाला. बांग्ला, उड़िया और भोजपुरी में भी बहुत सारी फिल्में उनके नाम है. म्यूजिकल फिल्म डिस्को डांसर (1982) से तो उनकी इमेज ही बदल गई थी और उसके बाद दूसरी म्यूजिकल फिल्मों, कसम पैदा करनेवाले की (1984) और डांस डांस (1987) ने उन्हें एक बेहतरीन डांसर के रूप में पहचान दिला दी.


RBI ने बैकों को दिया झटका, इस लापरवाही पर लगेगा भारी जुर्माना


बैंकों को कड़े निर्देश रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने एटीएम में कैश की किल्लत को देखते हुए जारी किए हैं. आरबीआई ने सभी बैंकों को इसको लेकर दिशानिर्देश जारी किया है. सूत्रों के मुताबिक RBI का कहना है कि अगर अब किसी एटीएम में 3 घंटे से ज्यादा कैश नहीं रहेगा तो बैंक पर जुर्माना लगाया जाएगा. जो कि भारतीय लोगो के लिए (RBI) की और से उठाया गया महत्वपूर्ण कदम साबित हो सकता है.
कुछ ही दिनो में अब जब भी एटीएम पैसा निकालने जाएंगे तो वहां नो कैश का बोर्ड नहीं देखने को मिलेगा. कई बार देखा गया है कि जिस एटीएम में पैसे कम निकाले जाते हैं वहां पैसा खत्म होने के बाद कई दिनों तक या ये कहें कि कई हफ्तों तक पैसा नहीं डाला जाता है. इन्हीं समस्याओं को देखते हुए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने इस मामले में कड़ा रुख अपनाया है. जिससे बैंको के रवयै मे सुविधार होने की उम्मीद है.
आपकी जानकारी के लिए बता दे कि बैंकों के पास एटीएम में कितना कैश है उसकी जानकारी के लिए पूरा सिस्टम है. दरअसल, एटीएम में जो सेंसर लगा होता है उसके जरिए बैंकों को रियल टाइम बेसिस पर एटीएम में कितना कैश बचा है, कब तक खाली होने जा रहा है और कितनी रकम डालनी है, इसकी पूरी जानकारी रहती है. रिजर्व बैंक यह चाहता है कि जब बैंकों को एटीएम में कैश के बारे में सारी जानकारी पता है, तो बैंक एटीएम में कैश ना डालने को लेकर बहानेबाजी क्यों कर रहे हैं.छोटे कस्बों और ग्रामीण इलाकों में एटीएम में पैसे की कमी की समस्या सबसे ज्यादा है. ग्राणीण इलाकों से इसको लेकर लगातार शिकायतें मिल रही थीं.  रिजर्व बैंक ने इसी के आधार पर यह सख्त कदम उठाया है. बहुत समय से ग्राहको द्वारा ऐटीएम मे कैंश न मिलने की शिकायत की जा रही थी.


भारत ने अमेरिका को दिया बड़ा झटका, आज से 26 अमेरिकी प्रोडक्ट हो जाएंगे महंगे


भारत ने अमेरिका को तगड़ा झटका देते हुए 28 अमेरिकी उत्पादों पर एडिशनल कस्टम ड्यूटी बढ़ा दी है. आज से इन सभी उत्पादों पर नई कस्टम ड्यूट लागू हो जाएगी. इस सूची में बादाम, अखरोट और दालें भी शामिल हैं. भारत का यह कदम अमेरिकी निर्यातकों को बड़ा झटका दे सकता है, क्योंकि अब उन्हें 28 उत्पादों पर ज्यादा ड्यूटी चुकाना करना होगा.
इससे भारतीय बाजार में ये तमाम अमेरिकी उत्पाद महंगे हो जाएंगे. कई दफा समय सीमा बढ़ाने के बाद आखिरकार भारत ने 29 अमेरिकी उत्पादों पर अतिरिक्त सीमा शुल्क लगाने का निर्णय लिया है. अपने 30 जून 2017 के नोटिफिकेशन को संशोधित करते हुए सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्ट टैक्स एंड कस्टम्स ने शनिवार को बताया है कि संयुक्त राज्य अमेरिका में बने या निर्यात किए जाने वाले 28 उत्पादों पर अतिरिक्त ड्यूटी लगाई जाएगी. इससे पहले 29 प्रोडक्ट्स पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाई जानी थी, किन्तु इसमें से एक उत्पादों को अलग कर दिया है. अमेरिकी उत्पादों पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाने से देश को तक़रीबन 217 मिलियन अमेरिकी डॉलर का अतिरिक्त राजस्व मिलेगा.
अमेरिका ने गत वर्ष मार्च में स्टील पर 25 फीसदी और एल्युमीनियम उत्पादों पर 10 प्रतिशत आयात शुल्क लगाया था. भारत अमेरिका में इन वस्तुओं के मुख्य निर्यातकों में से एक है, जिस वजह से अमेरिका के इस कदम से भारत के राजस्व पर प्रभाव पड़ा. इसके जवाब में ही भारत ने अब 28 अमेरिकी प्रोडक्ट्स पर अतिरिक्त सीमा शुल्क लगाने का फैसला लिया है.


हर 30 साल में अंडे देती है ये चट्टान, जानिए रहस्य!


आज​ हम आपको एक ऐसी खबर के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप दंग रह जाएंगे। दरअसल, हम बात कर रहे है चीन की जो बहुत ही अद्भुत वस्तुओं से भरा पड़ा है। दरअसल, आज हम आपको ऐसी चट्टान के संबंध में बताएंगे जो प्रत्येक 30 साल में अंडे देती है।
यह अंडे पहले तो एक कवच में होते हैं तथा चट्टान इनको सेती है किन्तु थोड़े ही दिनों के पश्चात ये अंडे सतह पर गिर जाते हैं। इस चट्टान ने वैज्ञानिकों का भी दिमाग हिलाकर रख दिया है।
जानकारी के मुताबिक, ये चट्टान चीन के दक्षिण-पश्चिमी में 'गिझोउ' प्रांत में मौजूद है जो लगभग 20 मीटर लंबी तथा 6 मीटर ऊंची है। इसका नाम 'चन दन या' है। जब ये अंडे जमीन पर गिरते हैं तो ग्रामीण इन्हें उठाकर अपने घर ले आते हैं।
ये चट्टान 500 लाख वर्ष पूर्व बनी थी। ये एक काली और ठंडी चट्टान है, जो अनेक इलाकों में आमतौर पर प्राप्त हो जाती है।



इस कपल ने बाथरूम में रचाई शादी, वजह कर देगी हैरान


आज हम शादी को लेकर बात करे तो आपको ये बता दें कि विवाह प्रत्येक किसी की जिंदगी का खास दिन होता है। दरअसल, आजकल बाथरूम में शादी करने की खबर इंटरनेट पर काफी वायरल हो रही है।
बता दें कि, ब्रायन स्कूल्ज एवं मारिया स्कूल्ज ने बाथरूम में विवाह किया है। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि दूल्हे की माता को बाथरूम में सांस लेने में दिक्कत हुई तथा उनको बाथरूम में ही ऑक्सीजन देने का निर्णय लिया गया।
ब्रायन के मुताबिक, हम अदलात के बाहर बैठे थे तथा भीतर जाने का इंतजार कर रहे थे। तभी उनकी माता का कॉल आया और उन्होंने कहा कि उनको सांस लेने में दिक्कत हो रही है। उस समय उनकी माता बाथरूम में ही थी।
देखा कि उनका चेहरा पीला हो चुका था, पसीना आ रहा था एवं वो किसी संग बात भी नहीं कर पा रही थी। मोनमाउथ काऊंटी के अधिकारियो ने ब्रायन की माता को बाथरूम में ही ऑक्सीजन देने का निर्णय लिया।
इसके सम्बन्ध में मॉनमाउथ काउंटी पुलिस कार्यालय ने फेसबुक पर लिखा- जोड़ी माता को लेकर बहुत दुखी थी एवं विवाह को 45 दिन हेतु टालने का निर्णय ले रही थी क्योंकि उन्हें शादी का लाइसेंस लेने में 45 दिन का समय लगता।
अधिकारी महिला को बाथरूम से बाहर नहीं लाना चाहते थे। इसलिए उन्होंने बाथरूम में ही विवाह कराने का निर्णय लिया। न्यायाधीश कैटी गुमर बाथरूम में विवाह हेतु मान गई।



गरीबों की मदद के लिए युवक ने किया ऐसा काम, जानकर रह जाएंगे दंग!


आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। दरअसल, हांगकांग में निवास करने वाले 24 वर्ष के वोंग चिंग-किट अपनी लेम्बोर्गिनी कार से उतरता है।

फेसबुक लाइव वीडियो प्रारम्भ करता है एवं कुछ सेकेंड परिचय देकर छत से लाखों उड़ा डालता है। इंटरनेट पर शख्स का आसमान से उड़ते हुए नोटों का ये वीडियो काफी वायरल हो रहा है।

कहा जा रहा है कि ये आदमी गरीबों लोगों की सहायता हेतु उसने 20 हजार पाउंड लगभग 18 लाख के नोट हवा में उड़ा दिए। रिपोर्ट के अनुसार, शख्स ऐसा करके लोगों की नजर में हीरो बनना चाहता था। रिपोर्ट्स की माने तो आदमी ने अपना पैसा क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन में लगा दिया है।

इस घटना के पश्चात इस युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। किन्तु उसने अपनी गिरफ्तारी को अपने फेसबुक पेज पर लाइव दिखाया। इस वीडियो संग एक फोटो भी शेयर कि गई जिसमें नोटों को नीचे गिरते हुए दिखाया गया। वहीं, युवक का बताना है कि वो अमीरों को लूटकर गरीब लोगों की सहायता करना चाहता है।

जब अदालत में खुद को साबित करने आईं गाय, जज को कुर्सी छोड़ आना पड़ा बाहर


अक्सर आपने इंसानों को अदालत में पेश होते हुए देखा और सुना होगा, हालांकि क्या कभी आपने गाय को भी अदालत में पेश होते हुए देखा है. राजस्थान के शहर जोधपुर में एक ऐसा ही मामला देखने को मिला है, जिसमें एक गाय अदालत में पेश हुई थे और तब जाकर जज ने फैसला भी सुनाया.
मामला कुछइस तरह से है कि शिक्षक श्याम सिंह और कांस्टेबल ओमप्रकाश के बीच गाय के मालिकाना हक को लेकर अगस्त 2018 से ही विवाद जारी था और इस मामले को लेकर मंडोर थाने में केस दर्ज हुआ था. लेकिन थाना प्रभारी ने अपने स्तर पर इस मामले को सुलझाने की पूरी कोशिश की, लेकिन वे इसमें सफल नहीं हो सके.
थाना अधिकारी ने विवाद निपटारे के लिए गाय को बीच में खड़ा किया और फिर एक तरफ शिक्षक श्याम सिंह और दूसरी तरफ कांस्टेबल ओम प्रकाश को खड़ा किया गया औरइन दोनों से गाय को आवाज देने के लिए कहा गया, हालांकि गाय ने दोनों की बातों को ही अनसुना कर दिया. आगे एक पक्ष ने दावा किया  कि गाय जब दूध देती है तो वो अपना दूध खुद पीती है और इसके बाद गाय को मंडोर गौशाला में रखा गया था. जबकि यहां पर सीसीटीवी कैमरा भी लगाए गए थे. लेकिन अंत में यह तरीका भी फेल हो गया. बाद में मामला अप्रैल 2018 में अदालत पहुंचा तो उसे जज के सामने पेश किया गया. लेकिन इस मामले की सुनवाई के लिए न्यायधीश को अपनी कुर्सी से उठकर कोर्ट रूम के बाहर आना पड़ा और उसके बाद उन्होंने गाड़ी में खड़ी गाय के आसपास दोनों फरियादियों को खड़ा किया. बाद में जज द्वारा दोनों पक्षों के बयान दर्ज किए गए.


बिना आधार कार्ड के नही कर सकते यहां शादी, ये है कारण


आज हम बात कर रहे हैं उत्तराखंड के अल्मोडा में स्थित गोलू देवता के प्रसिद्ध मंदिर की जहाँ अब शादी करने के लिए आधार कार्ड जरूरी है। बता दें, इस मंदिर में प्रतिवर्ष करीब 400 शादियां होती हैं, यानी शादियों के सीजन में रोजना करीब छह शादियां यहां होती हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए  मंदिर प्रशासन ने अब यहां होने वाली शादियों से पहले व्यक्ति की पहचान सुनिश्चित करने के लिए आधार कार्ड जरूरी कर दिया है।

नाबालिग शादियों को रोकने के मकसद से मंदिर प्रशासन ने यह कदम उठाया है। स्थानीय मान्यताओं के अनुसार, इस मंदिर में शादी करने से विवाहित जोड़े पर गोलू देवता का आशीर्वाद रहता है। गोलू देवता को कुमाऊं क्षेत्र में न्याय के देवता के रूप में पूजा जाता है। मंदिर के पुजारी और कोषाध्यक्ष हरी विनोद पंत ने बताया कि हर साल यहां बड़ी संख्या में शादियां संपन्न कराते हैं, तो ऐसे में विवाहित जोड़े का नाम और अड्रेस को जांचना मुश्किल हो जाता है। इसलिए आधार कार्ड जरूरी किया गया।

वर्ल्डकप की दीवानगी में इस शख्स ने बना डाले सोने के बैट-बॉल


वर्ल्ड कप 2019 का शबाब चरम पर है. खिलाड़ियों से लेकर फैंस तक में इसके जुनून को महसूस किया जा सकता है. इस समय एक अलग सी ही धूम होती है. कई कई लोग इसके लिए काफी दीवाने होते हैं और जूनून में न जाने क्या क्या कर जाते हैं. इसी जूनून में अहमदाबाद के मनीष सोनी ने वर्ल्ड कप से जुड़ी चीजें जैसे वर्ल्ड कप, स्टम्प, बैट और गेंद सोने की बना डाली. उनकी बनाई चीजों को लोग देखने भी पहुंच रहे हैं. आइये आपको भी बता देते हैं इसके बारे में.
जानकारी के लिए बता दें, तकरीबन 1.5 लाख रुपये की लागत में बनी इन चीजों में 50 ग्राम सोने का इस्तेमाल किया गया है. इसमें करीब 3 इंच का वर्ल्ड कप, 2 इंच का बल्ला और करीब 1 इंच का स्टम्प बनाया गया है. मनीष द्वारा बनाई गई इन चीजों को देखने के लिए क्रिकेट प्रशंसक उनके घर पहुंच रहे हैं. मनीष इसे लोगों को दिखा भी रहे हैं. इन्हें देखकर सभी हैरान हैं.
इस बारे में मनीष का कहना है की बचपन से ही उन्हें क्रिकेट के प्रति लगाव है. वे क्रिकेटर बनना चाह रहे थे लेकिन नहीं बन पाए. अब वे क्रिकेट के प्रशंसक बन गए हैं. इसीलिए उन्होंने सोने की चीजें बनाकर क्रिकेट के प्रति अपनी दीवानगी जाहिर की है.