Wednesday, 23 January 2019

समुद्र किनारे मिला ऐसा अजीबोगरीब जीव, देखते ही थम गई सभी की सांसे


सभी लोग अपनी छुट्टियों में अक्सर ही समुद्र किनारे एन्जॉय करने जाते हैं ऐसा इसलिए क्योंकि वहां की खूबसूरती लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती है. ऐसे ही हाल ही में न्यूजीलैंड का एक परिवार भी ऑकलैंड के वार्कवर्थ में स्थित पाकिरी बीच पर घूमने गया हुआ था लेकिन इस परिवार ने वहां पर एक ऐसी चीज़ देखी जिसके बाद तो उनके होश उड़ गए.

सूत्रों की माने तो ईव और एडम डिकिंसन के दोनों बच्चों ने उस अजीब सी दिखने वाली चीज के साथ फोटो भी खिंचाई थी लेकिन पहले तो उन्हें ये नहीं पता था कि वो चीज़ आखिर है क्या. बाद में उन्हें ये पता चला कि वो एक जेलीफिश है, जो समुद्र में पानी के तेज बहाव के साथ किनारे पर आ गई थी. आपको बता दें जेलीफिश को एक बहुत ही खतरनाक जीव माना जाता है लेकिन उस जेलीफिश के पास उन्होंने काफी समय बिताया पर उसने कोई नुक्सान नहीं पहुंचाया. इस परिवार ने बताया कि उस बीच के चारो ओर ढेर सारी जेलीफिश पड़ी हुईं थीं.

इस आदमी के हाथ-पैर में उग गई पेड़ की शाखाएं, तस्वीरें देखकर रोंगटे खड़े हो जाएंगे


इस दुनिया में लोगों को कई अजीबोगरीब प्रकार की बीमारिया होती हैं लेकिन हम आपको आज जिस बीमारी के बारे में बता रहे हैं उसके बारे में जानकर आप हैरान हो जाएंगे. हम बात कर रहे हैं बांग्लादेश के रहने वाले अबुल बजनदार के बारे में जिनको एक ऐसी बीमारी है जिससे कि उनका नाम 'ट्री मैन' पड़ गया है. अबुल की उम्र 26 साल है और एक अजीबोगरीब बीमारी के चलते उनके हाथों की अंगुलियों पर पेड़ों की शाखाएं उग आईं है.

इस बीमारी के कारण अबुल के हाथ का वजन करीब 5 किलो हो गया था. अबुल इस बारे में कहते हैं कि, 'जब 10 साल पहले उनकी अंगुलियों पर यह ग्रोथ शुरू हुई थी तो उनको नहीं पता था कि यह इस कदर बढ़ जाएगी. धीरे-धीरे वह कोई भी काम करने में असमर्थ हो गए. अब उनके दोनों हाथों में दर्जनों 2-3 इंच की शाखाएं हैं और पैरों में भी कुछ छोटी-छोटी ग्रोथ हैं. शुरू में बजनदार ने खुद ही यह ग्रोथ काटने की कोशिश की, लेकिन यह बहुत दर्दनाक था.

अबुल के परिवार वाले उनका इलाज करवाने में असमर्थ थे. इस बीमारी के चलते अबुल को काम करना भी छोड़ पड़ गया. सूत्रों की माने तो अब अबुल का इलाज ढाका मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में होगा और हॉस्पिटल ही उनके इलाज का पूरा खर्च उठाएगा.

परेश रावल के बेटे की हुई बॉलीवुड में एंट्री, इस डायरेक्टर ने दिया पहला मौका


बॉलीवुड में इस साल कई स्टार किड्स का डेब्यू होने जा रहा है. इस कड़ी में सीनियर एक्टर परेश रावल के बेटे आदित्य की एंट्री अनुराग कश्यप की फिल्म से होने जा रही है. इस बात को खुद परेश रावल ने कंफर्म किया है.

एक इंटरव्यू के दौरान अनुराग कश्यप ने कहा कि राइटर और असिस्‍टेंट के रूप में रंजन लंबे समय से जुड़े रहे हैं. प्रोड्यूसर अजय राय और मैंने 'गुलाल' और 'देव डी' में साथ काम किया था. मैं पूरी तरह से प्रड्यूसर्स अजय, प्रदीप कुमार और ऐलन मैकएलेक्‍स के साथ इस प्रॉजेक्‍ट में शामिल हूं.

अनुराग कश्यप की फिल्म 'बमफाड़' में आदित्य एक्ट्रेस शालिनी पांडे के अपोजिट नजर आएंगे. इस फिल्म को रंजन चंदेल डायरेक्ट करेंगे. लव स्टोरी पर बनी इस फिल्म में कहानी इलाहाबाद पृष्‍ठभूमि की है. फिल्म के प्रोड्यूसर अजय राय ने का कहना है कि बमफाड़ शब्द उत्तर भारत में बहुत फेमस है. ये शब्‍द हमारे फिल्‍म के कैरक्‍टर्स को रीप्रेजेंट करता है. फिल्म कब रिलीज होगी इसका अभी पता नहीं चल पाया है.

आज लॉन्च होगी नई Wagon R, इन मायनों में मौजूदा कार से होगी अलग


देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी Maruti Suzuki WagonR के नए वेरिएंट को आज यानी 23 जनवरी को लॉन्च करेगी. पिछले दिनों मीडिया में लीक हुई रिपोर्ट के अनुसार अभी कंपनी वैगनआर को सिर्फ 2 पेट्रोल इंजन में लॉन्च कर रही है. नई वैगनआर में 1.0 लीटर और 1.2 लीटर पेट्रोल का इंजन होगा. दोनों इंजन ऑप्शन के V और Z वेरिएंट में AMT गियरबॉक्स मिलेगा. कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी दावा किया जा रहा है कि मारुति सुजुकी नई वैगनआर में CNG मॉडल को अभी नहीं उतारेगी.

कंपनी की ओर से कार के लुक को लेकर कोई आधिकारिक सूचना नहीं आई है. लेकिन कहा जा रहा है कि फ्रंड हेडलैम्‍प का डिजाइन बदला हुआ है. इंटीरियर डिजाइन मौजूदा मॉडल से एकदम अलग है. यह बीज एंड ब्राउन थीम कलर थीम में दिया गया है. सेंटर कंसोल में टचस्‍क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्‍टम लगा है. नया थ्री स्‍पोक मल्‍टीफंक्‍शन स्‍टीयरिंग व्‍हील नया है और इस पर एल्‍यूमीनियम फिनिश दिया गया है. स्‍पीडोमीटर भी अलग तरीके का है. इसे Heartect प्‍लेटफॉर्म पर तैयार किया गया है.

1 अप्रैल से पहले अपनी गाड़ी में करवा लें ये काम, नहीं तो ट्रैफिक पुलिस कर देगी सीज


दिल्ली सरकार ने महिलाओं की सुरक्षा को लेकर एक आदेश जारी किया है. सरकार के आदेश के मुताबिक, सार्वजनिक परिवहन में सुरक्षा के मद्देनजर पैनिक बटन होना जरूरी है. सभी वाहनों में 1 अप्रैल 2019 तक पैनिक बटन जरूर लग जाने चाहिए. ऐसा नहीं होने पर किसी भी वाहन को फिटनेस पेपर नहीं जारी किया जाएगा. सरकारी आदेश के मुताबिक नए वाहनों के लिए यह नियम 1 जनवरी 2019 और पुराने वाहनों के लिए 1 अप्रैल 2019 से लागू होगा. इसलिए पुराने वाहन मालिकों के पास इस काम को करने की आखिरी तारीख 31 मार्च तक है.

दिल्ली में वर्तमान में करीब 1 लाख 10 हजार पब्लिक ट्रांसपोर्ट है. इनमें बस, टैक्सी, स्कूल बस, ग्रामीण सेवा समेत कई अन्य गाड़ियां हैं. नियम के मुताबिक अगर किसी वाहन के पास फिटनेस सर्टिफिकेट नहीं है तो उसे  सीज भी किया जा सकता है.

सोने की कीमत में तेजी का सिलसिला जारी, आज ये रहा 10 ग्राम का भाव


विदेशी बाजारों में कीमती धातुओं की कीमत में गिरावट के रूख के बावजूद स्थानीय बजार में शादी विवाह के मौसम की मांग को पूरा करने के लिए स्थानीय निर्माताओं की लिवाली के समर्थन से मंगलवार को दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना 125 रुपये की तेजी के साथ 33,325 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया. विदेशी बाजार में सोना तीन हफ्ते के निम्न स्तर पर आ गया था. वहीं सिक्का निर्माताओं की ओर से उठाव कम रहने के कारण चांदी 250 रुपये की गिरावट के साथ 39,850 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गई.

बाजार सूत्रों का कहना है कि चालू शादी विवाह के मौसम की वजह से स्थानीय आभूषण विक्रेताओं की लगातार लिवाली से यहां सोने में सुधार दर्ज हुआ. राजधानी में 99.9 प्रतिशत और 99.5 प्रतिशत शुद्धता वाला सोना 125-125 रुपये के सुधार के साथ क्रमश: 33,325 रुपये और 32,175 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया. सोमवार को सोने में 40 रुपये की तेजी आई थी. हालांकि, 8 ग्राम वाली गिन्नी का भाव 25,500 रुपये पर स्थिर रहा।

लगातार 6 दिन बढ़ने के बाद थमी पेट्रोल और डीजल की कीमत, जानें आज का रेट


पेट्रोल और डीजल की कीमत में बुधवार को कोई बदलाव नहीं हुआ. मंगलवार को इसकी कीमत में 20 पैसे तक की बढ़ोतरी हुई थी. मंगलवार को दिल्ली में पेट्रोल 13 पैसे प्रति लीटर महंगा हुआ, वहीं डीजल के दाम में 19 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई थी. देश की आर्थिक राजधानी मानी जाने वाली मुंबई में भी तेल की दामों में वृद्धि हुई थी.

बुधवार को दिल्ली में पेट्रोल और डीजल की कीमत क्रमश: 71.27 रुपये और 65.90 रुपये है. वहीं, चेन्नई, कोलकाता और मुंबई में पेट्रोल के भाव क्रमश: 73.99 रुपये, 73.36 रुपये और 76.90 रुपये प्रति लीटर हैं. इसी तरह तीनों महानगरों में डीजल की कीमत 69.62 रुपये, 67.68 रुपये और 69.01 रुपये प्रति लीटर  है.

अंतरराष्‍ट्रीय वायदा बाजार कच्चे तेल में नरमी आई है, हालांकि ब्रेंट क्रूड का भाव अभी तब 62 डॉलर प्रति डॉलर से ऊपर चल रहा है और डब्ल्यूटीआई भी 53 डॉलर प्रति बैरल के उच्च भाव पर बना हुआ है. कमोडिटी विश्लेषक बताते हैं कि चीन की मंदी की रिपोर्ट के बाद वैश्विक अर्थव्यवस्था के विकास की रफ्तार थमने का अंदेशा है इसलिए कच्चे तेल के दाम में गिरावट आई है.

Tuesday, 22 January 2019

LIC बन गया बैंक, खरीद लिए एक बैंक के 82,75,90,885 शेयर


 आखिरकार LIC बैंक बन गया। LIC (life insurance corporation of india) ने IDBI बैंक के 82,75,90,885 शेयर खरीद लिए हैं। अब आईडीबीआई बैंक में एलआईसी की हिस्सेदारी 51 फीसदी हो जाएगी। इसके साथ ही इस बैंक पर एलआईसी का स्वामित्व हो जाएगा। एलआईसी ने प्रति शेयर 60.73 रुपए के हिसाब से खरीदी है। आई़डीबीआई बैंक पहले ही एलआईसी को बैंक के प्रमोटर के रूप में मान्यता दे चुका है। पिछले साल 7 नवंबर को बैंक के बोर्ड की बैठक में यह मंजूरी दी गई थी। अगले एक साल में LIC और IDBI के बीच सारी व्यवस्थाएं तय कर ली जाएंगी।


आईडीबीआई बैंक के लगभग 1.5 करोड़ रिटेल कस्टमर्स और 18,000 इम्प्लॉइज हैं। रेग्युलेटरी फाइलिंग में बैंक ने कहा कि बैंक की 1800 ब्रांचेस को एलआईसी पॉलिसीज बेचने के लिए टच प्वाइंट्स के तौर पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है।




कई साल से घाटे में चल रहा था आईडीबीआई

आईडीबीआई बैंक पिछले कई सालों से घाटे में चल रहा है और इसे उबारने के लिए सरकार इस बैंक में अपनी हिस्सेदारी को बेचना चाह रही थी। आईडीबीआई की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि एलआईसी ने 51 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने का काम पूरा कर लिया है। बयान में कहा गया है कि बैंक बोर्ड की तरफ से बैंक के सीईओ के रूप में राकेश शर्मा के कार्यकाल का विस्तार कर दिया गया है। केपी नैयर भी बैंक के लिए काम करते रहेंगे। सूत्रों के मुताबिक, एलआईसी के सामने सबसे बड़ी चुनौती होगी कि बैंक के लिए पर्याप्त पूंजी की व्यवस्था होती रहे।

पूंजी की उपलब्धता के हिसाब से आईडीबीआई बैंक की हालत काफी खराब चल रही है। पिछले साल जुलाई-सितंबर तिमाही के परिणाम में लगातार 8वीं बार बैंक को घाटे का सामना करना पड़ा। इस  वजह से बैंक की पूंजी के स्तर पर में लगातार कमी आ रही है और यह स्तर सरकार की तरफ से तय न्यूनतम पूंजी की उपलब्धता से भी नीचे चली गई है। अभी आईडीबीआई बैंक की तरफ से चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के वित्तीय परिणाम की घोषणा नहीं की गई है।



सूत्रों के मुताबिक, बैंक के BAD LOANS की सही तरीके से वसूली नहीं होने की वजह से बैंक के पास पूंजी  की कमी होती जा रही है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के दौरान बैंक का एनपीए रेशियो 30.78 फीसदी था, जो दूसरी तिमाही में बढ़कर 31.78 फीसदी हो गया। बैड लोन के लगातार बढ़ने से रिजर्व बैंक बैंक की स्थिति में सुधार के लिए लगातार प्रयासरत था।


जनवरी के अंत तक हर घर में आ जाएगी बिजली, फिर सरकार देगी इंडक्शन कुकर


देश के हर घर में जनवरी के अंत तक बिजली की पहुंच सुनिश्चित हो जाएगी। इसके लिए सरकार द्वारा शुरू की गई सौभाग्य योजना के तहत 2.44 करोड़ परिवारों को बिजली कनेक्शन मिल चुका है। कुल लक्ष्य 2.48 करोड़ परिवारों तक बिजली पहुंचाने का है। इस काम के पूरा होते ही सरकार ग्रामीण इलाके में इंडक्शन कुकर वितरण का कार्यक्रम शुरू कर सकती है। इंडक्शन कुकर को ग्रीन फ्यूल के रूप में देखा जा रहा है।

बिजली मंत्रालय का मानना है कि इससे कई प्रकार के फायदे होंगे। लकड़ी जैसे जलावन के इस्तेमाल नहीं होने से पर्यावरण को फायदा होगा, वहीं बिजली के अधिक इस्तेमाल से बिजली कंपनियों को भी फायदा होगा। देश में बिजली उत्पादन क्षमता 3.5 लाख मेगावाट से अधिक हो चली है, लेकिन बिजली की मांग उत्पादन क्षमता का 60 प्रतिशत भी नहीं है। बिजली मंत्रालय के मुताबिक, पिछले साल ही इंडक्शन कुकर के वितरण का कार्यक्रम तैयार कर लिया गया गया था। अब देश के हर घर में बिजली पहुंचने के बाद इसे शुरू किया जा सकता है। मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक, गैस चूल्हा से ज्यादा कारगर इंडक्शन कुकर है क्योंकि गैस खत्म होने के बाद गांववालों को सिलेंडर भरवाने की चिंता रहती है और उन्हें शहरों में जाना पड़ता है, लेकिन बिजली से चलने वाले कुकर के इस्तेमाल में ऐसी कोई परेशानी नहीं होगी।


योजना के तहत तय किए गए 100 प्रतिशत घरों के विद्युतीकरण के लक्ष्य को इस माह के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा। आज की तारीख तक इसके तहत 2.44 करोड़ परिवारों को बिजली कनेक्शन उपलब्ध कराया जा चुका है। अधिकारी ने कहा कि हर रोज 30,000 परिवारों को बिजली कनेक्शन उपलब्ध कराया जा रहा है। इस प्रकार बचे हुए करीब चार लाख परिवारों को इस माह के अंत तक बिजली कनेक्शन उपलब्ध हो जाएगा। देश के 100 प्रतिशत घरों तक बिजली पहुंचाना, वर्तमान सरकार का एक अहम लक्ष्य था। हालांकि, इसे दिसंबर, 2018 की तय समयसीमा में पूरा नहीं किया जा सका, लेकिन इसके इस माह के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है। केंद्रीय बिजली मंत्री आरके सिंह की अध्यक्षता में जुलाई, 2018 में राज्यों के बिजली मंत्रियों की शिमला में बैठक हुई। तब सौभाग्य योजना को 31 मार्च, 2019 के वास्तविक लक्ष्य की बजाय 31 दिसंबर, 2018 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था।

कल लॉन्च होगी अब तक की सबसे बड़ी वैगनआर, पहली बार टचस्क्रीन म्यूजिक सिस्टम और स्विफ्ट जैसा इंजन मिलेगा




 मारुति सुजुकी की 2019 न्यू वैगनआर (Wagon R) कल यानी 23 जनवरी को लॉन्च होगी। लॉन्चिंग से पहले इस कार के सभी फीचर्स की डिटेल सामने आ चुकी है। वहीं, कार के इंटीरियर की फोटो भी कंपनी ने अपनी वेबसाइट पर अपलोड किए हैं। कंपनी का कहना है कि पुराने मॉडल से काफी अलग है और अब तक की सबसे बड़ी वैगनआर भी है।

वैगनआर के कुल 7 वेरिएंट्स आएंगे, जो 2 अलग इंजन में होंगे। ये 6 कलर में आएगी। इस कार की प्री-बुकिंग 11,000 रुपए में कर सकते हैं। बुकिंग ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों प्लेटफॉर्म पर हो रही है।

> सुजुकी ने जापान में जो Wagon R लॉन्च की है, उससे इंडिया में लॉन्च होने वाला मॉडल पूरी तरह अलग है।
> न्यू वैगनआर टॉल ब्वॉय डिजाइन में आएगी। कंपनी ने कार का एक्सटीरियर पूरी तरह बदल दिया है।
> इसके फ्रंट में नए फंकी हैडलैंप मिलेंगे। साथ ही, फ्रंट ग्रिल भी पूरी तरह नई कर दी है।
> कार का बैक लुक भी पूरी नया मिलेगा। टेल लाइट्स और बंपर नया मिलेगा।
> मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो इसमें रियर पार्किंग सेंसर, ड्राइवर एयरबैग, ABS के साथ EBD भी मिलेगा।

मारुति पहली बार वैगनआर में टचस्क्रीन वाला इन्फोटेनमेंट सिस्टम देने जा रही है। इसका डिस्पेल साइज 7 इंच होगा। इसमें फंक्शन की दोनों तरफ दी हैं, जो सेंसर से लैस हैं। ये एंड्रॉइड और एपल दोनों को सपोर्ट करेगा। साथ ही, इसमें नेविगेशन का फीचर भी मिलेगा। ये ब्लूटूथ कनेक्टिविटी के साथ आएगा। रिपोर्ट्स की मानें तो इस वैगनआर के न्यू मॉडल की प्राइस 5 लाख रुपए के करीब हो सकती है।