Thursday, 18 May 2017

सबसे बड़ी कामयाबी, खुदाई मे 11 करोड़ वर्ष पुराना डायनासोर के पूरा शरीर का जीवाश्म मिला।


यह धरती करोड़ो वर्षो से अपने अंदर अनेकों रहस्यों को समेटे हुई है, कुछ रहस्य ऐसे जीवों के भी हैं जो समय के साथ विलुप्त हो गए। हम सभी जानते हैं कि करोड़ों वर्ष पहले इस धरती पर डायनासोर का राज हुआ करता था, जो किसी आपदा के कारण इस धरती से हमेशा के लिए विलुप्त हो गए। शोधकर्ताओं और वैज्ञानिकों को ऐसे बहुत से डायनासोर के जीवाश्म मिले जिससे मालूम चला कि इस धरती पर कभी डायनासोर का राज हुआ करता था, जो काफी बड़े हुआ करते थे। लेकिन अभी तक उन्हें डायनासोर का कोई ऐसा जीवाश्म नहीं मिला जो पूरी तरह से संरक्षित हो।


लेकिन एक डायनासोर का जीवाश्म इतनी अच्छी तरह से संरक्षित मिला है जो एक मूर्ति की तरह है, इसे कनाडा के एक म्यूजियम में अनावरण किया जा रहा है। डायनासोर का यह जीवाश्म लगभग 11 करोड वर्ष पहले की है जिसे 'चार पायदानों वाला टैंक' कहा जाता है। अब तक का, यह खोज बहुत ही दुर्लभ खोज है। नेशनल ज्योग्राफिक रिपोर्ट के अनुसार यह बख्तरबंद पौधे-भक्षक अपनी तरह का सबसे अच्छा संरक्षित जीवाश्म है। इसे श्वान फंक (Shawn Funk) द्वारा खोजा गया था, जब वे 21 मार्च 2011 में कनाडा के उत्तरी अल्बर्टा में फोर्ट मैकमुरे के पास मिलेनियम खान में खुदाई कर रहे थे। खुदाई करने के दौरान उन्हें एक ऐसा चट्टान मिला जिसमें से कुछ अजीब बाहर निकल रहा था, उन्होंने इसे करीब से देखा तो पाया कि यह किसी तरह का कोई जीवाश्म है।


उन्होंने इस चट्टान को पियाऑटोलॉजी के रॉयल टाइरेल संग्रहालय को भेजा। उन्होंने अगले 6 साल तक इस 1,100 किलोग्राम वजनी चट्टान पर काम किया। धीरे-धीरे करके उन्होंने इसके अंदर से जीवाश्म को उजागर किया। संग्रहालय के अनुसार, यह त्वचा और कवच सहित दुनिया में सबसे अच्छा संरक्षित बख्तरबंद डायनासोर है, और अब तक नाक से कुल्हे तक का काम पूरा हो गया है। अनुसंधान और प्रदर्शन के लिए इस नमूने को तैयार करने में 7,000 घंटे लग गए। शोधकर्ताओं को डायनासोर के इस जीवाश्म से अब तक जो कुछ पता चला है कि कैसे प्राचीन प्राणी खुद का बचाव करने के लिए चपटा कवच का इस्तेमाल करते थे। यह जीवाश्म डायनासोर की एक नई प्रजाति का है जो कि क्रेटेशियस अवधि के मध्य में लगभग 11 करोड और 12 केरोड वर्ष पूर्व के बीच रहते थे। यह जीव औसत से करीब 18 फीट लंबा और 1,300 किलो तक वजनी होते थे। इनमें दो 20 इंच लंबे स्पाइक्स शामिल थे जो उनके कंधे से निकल आए थे।


शोधकर्ताओं का मानना है कि यह बख्तरबंद पौधे -भक्षक अब पश्चिमी कनाडा के मध्य लुम्बरे मे होते थे जो किसी समय मे नदी के एक बाढ़ ने इसे बहा कर खुले समुन्द्र मे कर दिया। लेकिन डायनासोर के अंडरसिया दफन ने इसके कवच को अति सुंदर रूप से संरक्षित रखा है। इस विशेष नमूने के जीवश्मित अवशेषों को कितनी अच्छी तरह से संरक्षित किया है कि त्वचा के अवशेष अभी डायनासोर की खोपड़ी के साथ उबड़ कवच प्लेटो को ढका हुआ है। अब तक के जितने भी जीवाश्म मिले हैं उसमें डायनासोर के सिर्फ कंकाल ही मिले थे, लेकिन इस डायनासोर के जीवाश्म त्वचा और हड्डियों के साथ हैं। हालांकि, डायनासोर की हड्डियों तक पहुंचने के लिए बाहरी परतों को नष्ट करने की आवश्यकता होगी।


सबसे बड़ी कामयाबी, खुदाई मे 11 करोड़ वर्ष पुराना डायनासोर के पूरा शरीर का जीवाश्म मिला। -
The biggest achievement, the fossils of the entire body of dinosaurs, 11 million years old, were digged.

PLEASE LIKE AND SUBSCRIBE