इधर चोट लगी, उधर प्रिंटर से स्किन निकाली और घाव पर लगाने पर चोट हो जाएगी सही


ग्लू गन की तरह दिखने वाला ये गैजेट 3D प्रिंटिंग करता है वो भी इंसान की स्किन की। यूनिवर्सिटी ऑफ टोरेंटो के स्टेम सेल बायोलॉजिस्ट की रिसर्च में इसका रिजल्ट भी सक्ससेफुल रहा है। अब जल्द ही इस स्किन का यूज इंसानों के घाव को भरने के लिए किया जाएगा। यानी इधर चोट लगी उधर प्रिंटर से स्किन निकालकर घाव सही कर दिया गया।


इस प्रिंटर से जो मटेरियल निकलता है उसे बायोइंक कहते हैं। इसके जरिए हूबहू इंसान की नेचुरल स्किन जैसी स्किन निकलती है। जो कोलेजन, स्किन सेल्स बनाने वाले प्रोटीन और घाव भरने में यूजफुल फिब्ररीन से मिलकर बनती है।


रिसर्चर सईद अमीनी नाइक ने इसे पिग और चूहे पर टेस्ट करके भी देखा है। दोनों जगह रिजल्ट पूरी तरह से सेफ रहे हैं। जानकारों का मानना है आने वाले समय में इन 3D प्रिंटर्स से नेचुरल बाल और ब्लड सेल्स भी निकाली जा सकेगी।





Powered by Blogger.