IPL में कैबिनेट मंत्री ने किया कुछ ऐसा,आग बबूला हो गईं प्रीति जिंटा, कहा नेता होगा अपने घर का


दरअसल, एमपी के शिक्षा मंत्री ने मैच देखने के लिए मैनेजमेंट से वीवीआईपी पास की मांग की थी। मंत्री जी पूरे परिवार के साथ मैच देखने आए लेकिन मैनेजमेंट ने उन्हें गैलरी के पास दिए। बस फिर क्या था मंत्री जी का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया। मंत्री जी ने आव देखा ना ताव और विवेकानंद स्कूल से होकर गुजरने वाले स्टेडियम के दो गेटों पर ताला लटकवा दिया। वहीं, उन्होंने स्कूल में होने वाली पार्किंग भी बंद करा दी। मंत्री जी ने फौरन ये ऐक्शन लिया।

इसके बाद प्रीति जिंटा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपना गुस्सा जाहिर किया। प्रीति ने एमपी के मंत्रियों और नेताओं के काम करने के तरीके पर भी सवाल खड़े कर दिए। प्रेस कॉन्फ्रेंस में साफ झलक रहा था कि प्रीति जिंटा काफी गुस्से में थीं।

साथ ही टीम मैनेजमेंट ने ये भी बताया कि हर मैच के लिए अधिकारी कम से कम ६०, से ७०, लाख रुपये की टिकट की मांग करते हैं। जाहिर है कि प्रीति जिंटा की टीम का अभी प्लेऑफ में पहुंचना तय भी नहीं है और बाहरी चीजें भी उन्हें खासा परेशान कर रही हैं।

Powered by Blogger.