Friday, 29 June 2018

मछुआरे के बिस्तर के नीचे 10 साल तक पड़ा रहा पत्थर, जांच हुई तो एक झटके में कमा लिए 670 करोड़ रुपए


फिलीपींस के एक मछुआरे की किस्मत रातों-रात बदल गई। वह एक झटके में ही अरबपति बन गया। ऐसा उसके पलंग के नीचे रखे एक पत्थर की वजह से हुआ। मछुआरा पहले 34 किलोग्राम वजनी पत्थर को साधारण समझ रहा था। लेकिन बाद में वह बेशकीमती मोती निकला। इस पत्थर की कीमत 670 करोड़ रुपए आंकी गई थी। हैरत की बात है कि ये पत्थर मछुआरे के बिस्तर के नीचे करीब 10 साल तक पड़ा रहा था।

- फिलीपींस के पलावन आइलैंड में रहने वाला यह मछुआरा 2006 में एक समुद्र में मछलियां पकड़ रहा था। तभी वह वहां आए समुद्री तूफान में फंस गया।
- उसकी जान एक पत्थर के कारण बच पाई, जिससे टिककर उसने तूफान के गुजरने का इंतजार किया। जब तूफान थम गया तो उसने पत्थर को देखा। वह दो फीट का सफेद रंग का खूबसूरत पत्थर था। मछुअारा इसे लकी चार्म मानकर अपने घर ले आया। उसने 10 साल तक पत्थर को अपने पलंग के नीचे रखे रखा।

एक दिन मछुआरे के घर में आग लग गई। तब उसने पत्थर को पलंग के नीचे से निकाला। तभी एक टूरिस्ट ऑफिसर एलीन सिंथिया मगैय की नजर इस पत्थर पर पड़ी। उसने मछुआरे को बताया कि ये कोई साधारण पत्थर नहीं है। यह दरअसल एक विशालकाय मोती था, जिसकी कीमत करीब 670 करोड़ रुपए आंकी गई थी। इस तरह मछुआरा एक झटके में ही अरबपति बन गया।
- यह मोती 6.4 किलो वजनी ‘पर्ल ऑफ अल्लाह’ से कई गुना बड़ा था। 'पर्ल ऑफ अल्लाह' को अब तक का सबसे बड़ा मोती माना जाता था, जिसकी कीमत चार करोड़ डॉलर है।

No comments:

Post a Comment