Thursday, 14 June 2018

रेलवे का चौंकाने वाला कारनामा, यात्री को दिया सन् 3013 का टिकट


वैज्ञानिक किसी तरह इंसानों की आयु बढ़ाने में लगे हैं. लेकिन लगता है कि कि सफलता रेलवे के हाथ लगी है क्योंकि उसने एक आदमी को एक हजार साल बाद का टिकट जारी किया.

सत्तर वर्षीय विष्णु कांत शुक्ल, हिंदी के प्रोफेसर हिमगिरी एक्प्रेस में बैठकर अपने शहर सहरानपुर से जौनपुर जा रहे थे. जौनपुर में उनके दोस्त की बीवी का देहांत हो गया था. मतलब कि ये एक अर्जेंसी थी. ये 2013 की बात है.

ट्रेन में जब टीटी ने उनका टिकट चेक किया तो पता चला कि टिकट में यात्रा की तारीख़19.11.3013 लिखी हुई है.

देखा जाए तो ये कोई बहुत बड़ी बात नहीं थी क्यूंकि अक्सर ऐसी टाइपिंग की गलतियां हो जाती हैं. लेकिन जैसा कि लोग कहते हैं कि भूल होने से कोई दिक्कत नहीं, मगर वही अगर सुधारी न जाए तो आपदा बन जाती है. तो ऐसा ही कुछ इस केस में भी हुआ.

टीटी ने इसे रेलवे की भूल मानने से इनकार कर दिया और बुजुर्ग प्रोफेसर को ही दोष देने लगा. कहा कि ये टिकट फेक है. और साथ ही उम्र, ओहदे का ख्याल रखे बिना उन्हें बीच के स्टेशन पर ही उतार दिया.

No comments:

Post a Comment