Thursday, 28 June 2018

आज 3000 बहनों का भाई है ये पुलिस इंस्पेक्टर, एक फोन पर ही सारी बहनों तक पहुंचा देता है मदद


हम बात कर रहे हैं इंदौर लौकायुक्त के इंस्पेक्टर रहे सतीश पटेल की जो इन दिनों मंडला जिले के खटिया थाने में टीआई हैं। मूलरूप से  खरगोन के रहने वाले सतीश थाने में ही अपनी बहनों को बुलाते हैं और उनसे राखी बंधवाते हैं। सतीश एक बार का वाकया याद करके बताते हैं कि वो  2015 में राखी के अवसर सिवनी के छपरा थाने में पोस्टेड थे। उस समय राखी के दिन तक मेरी बहन की राखी मुझे नहीं मिल पाई थी। सबके हाथ पर राखी बंधी हुई थी पर मेरी कलाई सूनी पड़ी थी, ये देखकर मुझे बहुत अजीब सा लग रहा था।

उनका ये मैसेज देखते ही देखते वायरल हो गया। लोगों के लिए ये एक बिलकुल अनोखी सी बात थी। मैसेज वायरल होने के बाद ही उनके थाने की दो महिला सबइंस्पेक्टरों ने उनसे पूछा-सर क्या हम आपको राखी बांध सकते हैं। सतीश ने तुरंत अपना हाथ आगे बढ़ा दिया। उस दिन शाम तक करीब 70 महिलाएं, जिनमें कुछ स्कूल और कॉलेज की छात्राएं भी थी राखी, नारियल और मिठाई लेकर थाने आई और उन्होंने सतीश को राखी बांधी।

राखी बांधने वाली हर महिला को सतीश ने अपना मोबाइल नंबर दे दिया और उनसे कहा कि जब भी वो किसी मुसीबत में हों या अपने आसपास कोई क्राइम होता देखें तो अपने इस भाई को सिर्फ एक घंटी कर दें, मै तत्काल आपकी मदद करूंगा।

इसका फ़ायदा ये हुआ कि क्षेत्र में होने वाली कई अपराधिक गतिविधियों की सूचना मिलने लगी, थाने का क्राइम रेट गिर गया और इन बहनों ने फोन पर सूचना देकर कई फरार आरोपियों को भी पकडाया।

No comments:

Post a Comment