Thursday, 14 June 2018

तेज़ टाइपिंग करने वालों की घट रही हैं महत्वता, वौइस् कमांड ने ली टाइपिंग की जगह


आज कल दुनिया नए-नए कारनामे नए आविष्कार करने में व्यस्त है. लेकिन उसके बावजूद लोग इतने फ़ास्ट हैं कि कंप्यूटर भी कही न कही खुद को स्लो महसूस करने लगा है. दरअसल, यहां बात हो रही है तेज़ टाइप करने वाले लोगों की, जिन्होंने सभी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर रखा है.



तेज़ टाइप करने वालों को देखकर लोग बड़ी जल्दी इम्प्रेस हो जाते हैं. लोग यही सोचते हैं कि काश हम भी इतनी तेज़ टाइपिंग कर पाते. लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जिस काम के बारे में हम इतना समय खर्च कर रहे हैं दिमाग पर ज़ोर दे रहे हैं, आने वाले समय में यह कला विलुप्त हो जाएगी.



जी हाँ, डिजिटल एक्सपर्ट्स ने बताया कि साल 2022 के आते-आते लोग आवाज़ से कमांड देकर सभी चीज़ों को सर्च करने लगेंगे. वौइस् कमांड धीरे-धीरे टाइपिंग की जगह ले लेगा, लेकिन इसका मतलब य्रह बिलकुल भी नहीं है कि टाइपिंग की ज़रूरत ही ख़तम हो जाएगी. समय के साथ-साथ तेज़ टाइपिंग करने वालों की ज़रूरत अब धीरे-धीरे काम होती जा रही है क्योंकि अब इसकी रफ़्तार के मुकाबले इतने इंटरेस्टिंग नहीं रह गए हैं.

No comments:

Post a Comment