Saturday, 30 June 2018

सिर्फ एक शर्त पर मुकेश अंबानी से शादी के लिए तैयार हुई थीं नीता.. घबरा गया था सबसे अमीर इंसान


दरअसल, नीता एक मिडल क्लास फैमिली से ताल्लुक रखती थीं और अपना खर्चा चलाने के लिए 800 रुपए महीने की सैलरी पर एक स्कूल में पढ़ाती थीं। नीता को बच्चों को पढ़ाने का बेहद शौक था। उन्हें डर था कि शादी के बाद शायद उनका ये शौक उनसे छिन न जाए। बहुत साल पहले एक इंटरव्यू में नीता ने बताया कि उन्होंने मुकेश के सामने शर्त रख दी कि अगर वो उन्हें शादी के बाद भी उन्हें स्कूल में पढ़ाने की इजाजत देते हैं तो ही वो शादी के लिए हां करेंगी।

मुकेश अंबानी के हां करने के बाद ही नीता ने शादी के लिए हामी भर दी और अमीर खानदान की बहू बनने के बाद नीता ने प्राइवेट स्कूल में पढ़ाना जारी रखा। नीता ने भारत में हुए 1987 के वर्ल्डकप का एक मजेदार किस्सा इंटरव्यू में बताया था। नीता ने बताया कि एक स्टूडेंट के मां-बाप ने उन्हें वर्ल्ड कप मैच की टिकट लाकर दी थी और मैच देखने का ऑफर किया, लेकिन उन्होंने इससे इनकार कर दिया था।

लेकिन उसी मैच में नीता अंबानी स्टेडियम के प्रेसिडेंट बॉक्स में वीआईपी सीट में बैठी हुई थी और जब स्टूडेंट के पैरेंट्स ने देखा तो वो चौंक गए। जब उन्होंने नीता के वहां मौजूद होने का कारण पूछा तो पता चला कि उनके बेटे की टीचर कोई आम महिला नहीं, बल्कि अंबानी खानदान की बहू है। दरअसल, भारत में हो रहे इस वर्ल्डकप को रिलायंस ग्रुप ही स्पॉन्सर कर रहा था।  कुछ समय बाद ही नीता ने टीचिंग जॉब छोड़ दी और फैमिली बिजनेस पर फोकस शुरू कर दिया।

No comments:

Post a Comment