Tuesday, 12 June 2018

बिना पैरों के कोहराम मचाने फिर तैयार हुआ 'शेर, नक्सलियों के सिर पर काल बनकर मंडराएगा


6 महीने पहले हुए लैंड माईन ब्लास्ट ने CRPF के इस शेर के पैर छीन लिया था। लेकिन कड़ी मेहनत से ये शेर अब फिर से  जाग गया है।  CRPF का यह घायल शेर जल्द ही जंगल में खुद की वापसी करने वाला है। जंगल में वापसी के बाद वह खुद से बेहतर सैकड़ों शेरों को तैयार करने के मिशन में जुट जाएगा।

कमांडो रामदास का खौफ इस कदर नक्‍सलियों के दिलों दिमाग में छा चुका था कि वे किसी भी कीमत में कमांडो रामदास को अपने रास्‍ते से हटाना चाहते थे। एक दिन ऐसा आया, जब‍ CRPF का यह शेर चूक गया। और हादसे में इसने अपने दोनों पैर खो दिए। मेरा पैर जमीन में लगते ही एक जोरदार धमाका हुआ। मैं कई फुट उझलता हुआ दूर जा गिरा। पैरों से लगातार खून बह रहा था।

टांगों में इस कदर जख्म था कि इससे ही अंदाजा लगाया जा सकता था कि अब पैर पूरी तरह खराब हो चुके हैं। कमाडो को नई कृत्रिम टांगे दी गईं। महज एक महीने में नई टांगों पर चलने लगा था। जिसके बाद कमांडो ने कहा - साहब मैंने अपनी टांगे 208 कोबरा बटालियन में गवाई है, अब मैं पूरी जिंदगी 208 कोबरा बटालियन के साथ जंगलों में रहूंगा।

क्योंकि मैं उनकी षडयंत्र को फेल करने के लिए चक्रव्यूह तैयार कर सकता हूं। बटालियन में आने वाले नए कमांडो को अपने से बेहतर तैयार कर सकता हूं। मेरी बात सुनकर साहब थोड़ा मुस्कुराये, फक्र के साथ मेरी तरफ देखते हुए बोले, ठीक है। अब मैं जंगल में वापसी के लिए पूरी तरह तैयार हो गया हूं।

No comments:

Post a Comment