Friday, 22 June 2018

1500 साल पुरानी मूर्ति का किया सिटी स्कैन, लेकिन निकला कुछ ऐसा की..


आज हम आपको एक ऐसी चीज के बारे में जिसकी सच्चाई के बारे में जानकर आपको भी यकीन नहीं होगा। आज हम एक बौध भिक्षु के बारे में बताने वाले हैं जिसकी सच्चाई सुनकर आपको भी अपने कानों पर यकीन कर पाना बेहद मुश्कल हो जाएगा।

वैसे तो पूरी दुनिया में बहुत तरह के धर्म है और सभी धर्मों की अलग-अलग मान्यताएं है जिसे पूरी तरह से निभाया भी जाता है। एक ऐसा ही धर्म है बौध धर्म जो विश्व के कुछ देशों में ही है लेकिन, इस धर्म की मान्यताएं बहुत ही ज्यादा है।

एशिया के कई देशों में बौध धर्म है। खासकर चीन, थाइलैंड और वियतनाम में आए दिन बौध धर्म से जुड़ी कुछ ऐसी चीजे मिलती है जो काफी ज्यादा रहस्यमयी होती है।ऐसी ही एक मुर्ति मिली है जिसके बारे में बताया जा रहा है कि करीब 1500 साल पुराना है। इस मूर्ति की खोज किया है निदरलैंड के वैज्ञानिकों ने और उनका कहना था कि ये मूर्ती और मूर्तियों से काफी ज्यादा अलग है।

वैज्ञानिकों को इस मूर्ती को लेकर पहले से ही संशय था और जब इस मूर्ती की अच्छे से जांच हुई तो जो सच्चाई सामने आई उसे देखकर वैज्ञानिकों की आंखे खुली की खुली रह गई। वैज्ञानिकों ने इस मूर्ती का सीटी स्कैन कराने का फैसला किया।

जब मूर्ती की सीटी स्केन हुई और जो सच्चाई सामना आई तो लोगों को यकीन कर पाना मुश्किल हो रहा था। दरअसल, सीटी स्केन में पाया गया कि मूर्ती के अंदर एक मम्मी थी जो ध्यान लगाकर बैठी है। जानकारी के मुताबिक, ये बौध भिक्षु खुद को जमीन के अंदर डाल देते थें और सांस लेने के लिए वो बॉस की लकड़ियों का इस्तेमाल किया करते थें।

No comments:

Post a Comment