Thursday, 12 July 2018

गलती से फूटा अंडा,बच्ची को जाति से निकाला,10 दिन तक घर के बाहर गर्मी में अछूत की तरह रही मासूम


बच्चों से अगर कोई गलती हो जाती है तो उसे माफ किया जाता है ना की सजा सुनाई जाती है। लेकिन यहां तो मामला कुछ और ही है। यहां बच्ची की एक छोटी सी गलती की वजह से पंचायत ने उसे ऐसा फरमान सुनाया जिसे आप कभी सोच भी नहीं सकते।

2 जुलाई को खुशबू पहली बार स्कूल गई थी। खुशबू 6 साल की है। जब वह स्कूल पहुंची तो वहां बच्चों को दूध पिलाने की योजना चल रही थी। इस योजना में खुशबू भी शामिल हुई और लाइन में लग गई, लेकिन मासूम से गलती बस इतनी हो गई कि इसका पैर टिटहरी के घोंसले पर पैर चला गया।

पैर पड़ने से एक अंडा फूट गया। अंडा क्या फूट गया मानो बवंडर आ गया। एक अंडा फूटने के बाद हरिपुरा गांव में पंचायत बैठी। बच्ची को जीव हत्या का दोषी मानते हुए जाति से बाहर निकालने का फरमान सुना दिया गया। फरमान सुनाने के बाद घर के बाहर बच्ची रोती-बिलखती रही।

बच्ची ने करीब 10 दिन तक तपती गर्मी में घर के बाहर दिन-रात गुजारे। बच्ची घंटों रोती रहती। रोते-रोते सो जाती। पंचों ने बच्ची के पिता  पर जुर्माना भी लगा दिया। गायों को चारा, मछलियों को आटा, कबूतरों को ज्वार डालने के लिए कहा गया।

No comments:

Post a Comment