Saturday, 14 July 2018

ATM से पैसे निकालने वाले को पता होना चाहिए 3 से 7 दिन वाला नियम,आपकी ही भलाई है


ATM से आज हर इंसान पैसा निकालता है, ऑनलाइन बैंकिंग करते हैं। आपको फ्रॉड या अनाधिकृत ट्रांजैक्‍शन को लेकर 3 से 7 दिन का नियम जरूर याद रखना चाहिए। भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंक अकाउंट होल्‍डर्स या कस्‍टमर के हितों की रक्षा के लिए इस बारे में 6 जुलाई सर्कुलर में कहा गया है  कि अकाउंट से अनाधिकृत ट्रांजैक्‍शन या फ्रॉड होने पर कस्‍टमर को क्‍या करना चाहिए जिससे उसका नुकसान न हो और बैंक उसके पैसे की भरपाई कर दे।

रिजर्व बैंक के सर्कुलर के मुताबिक अगर आपके बैंक अकाउंट से अनाधिकृत  ट्रांजैक्‍शन या फ्रॉड हुआ है तो आपको बैंक से किसी भी माध्‍यम से इसकी सूचना मिलने के तीन दिन के अंदर बैंक को इसके बारे में जानकारी देनी होगी। अगर आप ऐसा करते हैं तो इस मामले में आपकी जीरो लायबिलिटी होगी। अगर अनाधिकृत  ट्रांजैक्‍शन या फ्रॉड आपकी गलती या लापरवाही से नहीं हुआ है तो बैंक आपके नुकसान की पूरी भरपाई करेगा।

अगर बैंक अकाउंट बेसिक सेविंग बैंकिंग डिपॉजिट अकाउंट यानी जीरो बैलेंस अकाउंट है तो आपकी लायबिलिटी 5,000 रुपए होगी। यानी अगर आपके बैंक अकाउंट से 10,000 रुपए का अनाधिकृत  ट्रांजैक्‍शन हुआ है तो आपको बैंक से 5,000 रुपए ही वापस मिलेंगे। बाकी 5,000 रुपाए का नुकसान आपको वहन करना होगा।

अगर आपका सेविंग अकाउंट है और आपके अकाउंट से अनाधिकृत  ट्रांजैक्‍शन हुआ है तो आपकी लायबिलिटी 10,000 रुपए होगी। यानी अगर आपके अकाउंट से 20,000 रुपए का अनाधिकृत  ट्रांजैक्‍शन हुआ है तो बैंक से आपको 10,000 रुपए ही वापस मिलेंगे। बाकी 10,000 रुपए का नुकसान आपको उठाना होगा।

No comments:

Post a Comment