Friday, 13 July 2018

जवानी में कोई अच्छा नहीं लगता, न आप लगते थे और न ही ये सलेब्स. सबूत हैं ये फ़ोटोज़


एक सर्वे के अनुसार 10 प्रतिशत तस्वीरें पिछले 12 महीनों में ख़ीची गई हैं. वजह साफ़ है, इतने सारे स्मार्ट फ़ोन, उसमें शानदार कैमरा, बेहतरीन फ़ोटो फ़िल्टर्स. हर किसी का फ़ोटो ख़ींचने का दिल करेगा. ख़ाली बैठा इंसान सेल्फ़ी ही लेता है. सौ सेल्फ़ी क्लिक करेगा, तो एक दो तो अच्छी आ ही जाएगी. फिर उस सेल्फ़ी पर फ़िल्टर चिपका कर इंस्टाग्राम पर अपलोड कर दीजिए और सबके दिल बटोर लीजिए.

लेकिन आज से 10 साल पहले ऐसा नहीं थे. फ़ोन सबके पास होता था, उस फ़ोन में नाम मात्र का कैमरा भी होता था. जिससे तस्वीर ख़ींची जा सकती थी लेकिन वो अच्छी नहीं होती थी. फिर भी हम उसे डिलीट करने के बजाए रख लेते थे. कुछ लोग फ़ेसबुक पर भी अपलोड कर देते थे. आज जब उन्हीं फ़ोटोज़ को देखते हैं, तो ख़ुद पर हंसी आती है.

दोष सिर्फ़ कैमरे का नहीं है. उस उम्र में न फ़ैशन की समझ होती है, शरीर भी बदलाव के गुज़र होता है. चेहरे पर पिंपल, हल्की-हल्की मूंछें, बेढ़ब बाल, पोज़ देने का सऊर नहीं.

हम जैसे आम इंसान की छोड़िए, जिन्हें हम आज सलेब्रिटी कहते हैं, जिन्हें फ़ैशन आइकॉन मानते हैं, उनकी हालत भी ऐसी ही थी.

No comments:

Post a Comment