Wednesday, 11 July 2018

बच सकती थी 'तारक मेहता' के डॉ. हाथी की जान, अगर नहीं होती ये छोटी सी लापरवाही


'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' में डॉ. हाथी का किरदार निभाकर फेमस हुए कवि कुमार आजाद आज हमारे बीच नहीं हैं। हालांकि उनकी एक्टिंग हमेशा फैन्स की यादों में मौजूद रहेगी। वह एक लोकप्रिय कवि भी थे और कई साल से इस शो से जुड़े हुए थे। सोमवार दोपहर उनका कार्डिएक अरेस्ट से निधन हो गया। डॉक्टर ने कहा कि अगर डॉ. हाथी को पहले लाया जाता तो उनकी जान बच सकती थी।

आज तेज बारिश के बीच मुंबई में डॉ. हाथी का अंतिम संस्कार किया जाएगा। जिस अस्पताल में उन्हें भर्ती किया गया वहां के हेड रवि हिरावनी ने बताया कि आजाद को करीब दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर हॉस्पिटल लाया गया था। उनकी धड़कनें सुनाई नहीं दे रही थी इसलिए फौरन उन्हें इमर्जेंसी में ले जाया गया और उन्हें सीपीआर देने की कोशिश की गई।

उन्होंने बताया, 'कवि कुमार आजाद की ECG बिल्कुल फ्लैट थी और हमने तभी आते ही उन्हें मृत घोषित कर दिया था। कवि कुमार आजाद 37 साल के थे। कवि कुमार आजाद को पिछले दो तीन दिन से सांस लेने में दिक्कत हो रही थी जिसके इलाज वो पास को किसी लोकल अस्पताल में करा रहे थे। डॉक्टर ने बताया हम उनकी जान बचा सकते थे यदि उन्हें उसी वक्त हॉस्पिटल लाया जाता जब उन्हें सांस की समस्या शुरू हुई थी।

No comments:

Post a Comment