Friday, 27 July 2018

श्मशान से गायब हो गई लड़की की आधी जली लाश,गांव वालों ने सुनी थी रोने की आवाजें


जानकारी के मुताबिक मामला बल्दीराय थाना क्षेत्र के पूरे चेत सिंह मौजा देहलीबाजार का है।गांव निवासी बद्री चौहान की 22 वर्षीय पुत्री आरती की संदिग्ध मौत हो गई।पुलिस को सूचना देने के बजाए बद्री ने आनन-फानन में बेटी का अंतिम संस्कार कर डाला।आरोप है कि ये सभी इतने भयभीत थे कि लाश को अधजली ही छोड़कर चले गए।

फिलहाल बद्री के घर पर ताला लटक रहा है,खुद बद्री पुलिस की हिरासत में हैं।ग्रामीणों की मानें तो आरती का स्वास्थ बिगड़ने से लेकर उसते अंतिम संस्कार तक की उन लोगों को कोई जानकारी नहीं है।हालांकि गांव को लोगो बता रहे हैं कि राखी के दिन परिजनों ने किसी बात को लेकर आरती को मारापीटा जरुर था,जिसमें हुई चीख-पुकार की आवाजें उन्होंने सुनी थी।खबरों के मुताबिक आरती की मौत में विषैले जीव के काटने की थ्योरी तो तैयार की गई है,लेकिन पर्दे के पीछे जो है उसको परिजन और पुलिस लाश को देखने श्मशान जा रही है,तब तक वहां से अधजली लाश को भी हटा दिया गया।क्योंकि अधजली लाश अगर पुलिस के हाथ लग जाती तो उसका पोस्टमॉर्टम होना तय था और लाश के पोस्टमॉर्टम के बाद काली करतूत सामने आ ही जाती।

फिलहाल पुलिस के पिता बद्री की ये थ्योरी गले नहीं उतर रही है।सीओ लेखराज सिंह ने बातचीत में बताया कि आरती के पिता से पूछताछ जारी है और पुलिस मामले के खुलासे के लिए जोर-शोर से जुटी है।सीओ ने बताया कि अधजली लाश की बरामदगी के लिए सिपाही और चौकिदारों को लगा दिया गया है,जल्द ही इसका खुलासा होगा।साओ ने माना कि रातों रात अंतिम संस्कार और फिर मौके से अधजली लाश का गायब होना संदेहास्पद मामला है।

No comments:

Post a Comment