Sunday, 1 July 2018

अमरीश पुरी के जीवन में आखिर ऐसा क्या हुआ कि बन गए सबसे बड़े विलेन!


बॉलिवुड के खूंखार विलेन अमरीश पुरी का आज बर्थडे है। इनका जन्म 22 जून 1932 में पंजाब के जालंधर में हुआ था। इन्होंने अपने फिल्मी करियर की शुरूआत मराठी सिनेमा से की थी। अपने दम पर अभिनय की दुनिया में छाप छोड़ने वाले  अभिनेताओं में अमरीश पुरी का नाम भी शुमार किया जाता है।

इनके जीवन के कई किस्से बेहद ही दिलचस्प हैं, आइए आपको बताते है इनके जीवन की कुछ अनसुनी दास्ता। दरअसल, अमरीश पुरी का हीरो बनने का सपना था, इसी सपने के साथ वह मुंबई पहुंचे लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। इनकी किस्मत भी इन्हे हीरो नहीं बल्कि विलेन के रूप में कामयाबी दिलाना चाहती थी और ऐसा हुआ भी।

बताया जाता है कि फिल्मों में आने से पहले अमरीश पुरी सरकारी नौकरी किया करते थे, वे ए ग्रेड के अफसर बन चुके थे जब उन्हें फिल्मों में आने का ऑफर मिला। बताया जाता है कि अमरीश पुरी नौकरी करने के साथ-साथ थिएटर भी ज्वाइन किया था। कहा जाता है कि वह अपनी नौकरी छोड़कर अपना सारा समय थिएटर को ही देना चाहते थे, लेकिन इनके दोस्तों ने उन्हें ऐसा नहीं करने दिया।

हालांकि जब उन्हें फिल्मों का ऑफर मिलने लगा तब उन्होंने नौकरी से इस्तिफा दे दिए। बताया जाता है कि जब वह 22 साल की उम्र में हीरो के लिए ऑडिशन देने गए तो प्रोड्यूसर ने कहा कि उनका चेहरा बहुत पथरिला है और उन्हें वहां से जाने को कह दिया। हालांकि इसके बाद भी उन्होंने अपने मनोबल को कभी टूटने नहीं दिया और वह लगातार कोशिश करते हैं।

ऐसे में किसी का भी मनोबल टूट सकता है लेकिन इन्हे कोई फर्क नही पड़ा औऱ अपने फिल्मी करियर में आगे बढ़ते रहे, हालांकि उन्होंने अपनी पहाच कभी हीरो को तौर पर कायम नहीं की, लेकिन इस बात में कोई दो मत नहीं की अमरीश पूरी से बेहतरीन कोई दूसार बॉलीवुड में विलेन नहीं हुआ।

अपने फिल्मी सफर में अमरीश पूरी ने कई सारी सुपरहिट फिल्मों में काम किया, जिनमें से अधिकाशां में वह विलेन की भूमिका में दिखे, हालांकि परदेश और डीडीएलडी के सथ कई ऐसी फिल्में भी हैं जिसमें उन्होंने पॉजेटिव रोल करते हुए भी काफी लोकप्रियताएं हासिल की।



No comments:

Post a Comment