Wednesday, 1 August 2018

36 साल में एक बार खिलता है नागपुष्प,दर्शन करने वाले हर इंसान पर हमेशा कृपा बनाए रखते हैं महादेव


वृक्ष, पौधों और फूलों में शारीरिक और मानसिक रोगों को दूर करने की क्षमता के अलावा वास्तुदोष मिटाने की क्षमता भी होती है। फूलों के बारे में कहा जाता है कि वे आपका भाग्य बदलकर आपके जीवन में खुशियां भरने की क्षमता रखते हैं।

आज हम आपको उस फूल के बारे में बताने जा रहे हैं जो स्वयं महादेव ने पार्वती को दिया था। यह फूल अमरनाथ की गुफा में अमर कहानी सुनाने से पहले शिव ने पार्वती को दिया था। उस वक्त इस फूल को वरदान मिला कि जो भी इस फूल को देखेगा उसे महादेव की पूजा का फल लगेगा।

नागपुष्प हिमालय की चोटियों में पाया जाने वाला नाग के आकार का फूल होता है। जो केवल 36 सालों में केवल एक बार खिलता है। इस फूल की खास बात होती है कि यह केवल रात में खिलता है। और नाग की जैसी आकृतियां बनती है। यह फूल सुगंधित होने के साथ-साथ शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है। और इसमें नाग जैसी 42 पंखुड़ियां पाई जाती है। इस फूल से अनेक शारीरिक रोग ठीक हो जाते है। और यह पहली बार हिमालय के पर्वतों में देखा गया था।

इस फूल को आप घर में लाकर अपना जीवन बदल सकते हैं। जीवन में खुशियां भर सकते हैं। आप अपने गार्डन या गमलों में इस फूल लगाकर अच्छा महसूस करेंगे। अच्‍छा महसूस करने से ही घर का माहौल बदलने लगता है और जीवन में खुशियां आती है। एक छोटी सी चीज भी आपका जीवन बदल सकती है।

No comments:

Post a Comment