Thursday, 2 August 2018

चमत्कार! नीम के पेड़ में लगी आग, ना तो पेड़ की पत्ती झुलस रही, न ही फायर ब्रिगेड से आग बुझ रही




उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले के कडा धाम के गंगा किनारे हनुमान घाट/श्मशान घाट पर लगे एक नीम के पेड़ मे सुबह से आग की ऊंची-ऊंची लपटे निकल रही है। चौकाने वाले बात यह की पेड़ से गैस की तरह निकल रही आग की लपटों से धुआं नहीं निकल रहा है। और तो और आग की लपटों की बीच पेड़ की पत्तियां भी नहीं झुलस रही है।

दिन में कई बार बारिश भी हुई लेकिन आग की लपटों का निकलना बंद नहीं हुआ। फायर ब्रिगेड की टीम भी घंटों की मेहनत के बाद आग बुझाने में नाकामयाब रही। नीम के पेड़ से निकल रही आग की लपटों को देखने के लिए सकड़ों लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई। पेड़ से निकल रही आग के बारे मे हर कोई अपनी अपनी दलील दे रहे हैं। तमाम लोग इसे चमत्कार भी कह रहे हैं।

कडा धाम मे गंगा किनारे हनुमान घाट पर पिछले दो साल से शमशान घाट भी बना दिया गया है। हनुमान मंदिर के ठीक सामने बने श्मशान घाट पर हर दिन कई शवों की अंत्योष्ठी होती है। रविवार की सुबह रिमझिम बारिश के बीच घाट पर अंतिम संस्कार करने पहुंचे कुछ लोगों ने नीम के पेड़ से आग की लपटे निकलते देखा। पहले तो किसी ने इस पर अधिक तवज्जो नहीं दिया लेकिन आग की लपटे बढ़ी तो लोगो का ध्यान उस तरफ गया। नीम के पेड़ से पांच जगहों से आग की तेज लपट निकल रही है। हैरत की बात कि आग की लपटों के साथ कहीं से भी धुआं नहीं निकलता दिखाई दिया।

पेड़ से निकल रही लपटों से पत्तियां भी नहीं झुलस रही है। इस दौरान कई बार बारिश भी तेज हुई लेकिन आग नहीं बुझ सकी। स्थानीय लोगों ने फायर बिग्रेड को सूचित किया। मौके पर पहुंची फायर बिग्रेड की टीम आग पर काबू नहीं पा सकी।

पेड़ मे लगी आग सुबह से शाम तक नहीं बुझी तो सैकड़ों लोगों की भीड़ वहां जुट गई। जीतने लोग उतने तरह की बाते होने लगी| तमाम लोग इस घटना को चमत्कार मान रहे हैं। हनुमान मंदिर के महंत का कहना है कि हनुमान मंदिर के नीचे शवों की अंत्योष्ठी करने से माना कराते है लेकिन कोई नहीं मानता, इसी कारण यह दैवीय आपदा आई है।


No comments:

Post a Comment