Friday, 10 August 2018

बिना मिट्टी के घर की छत पर खेती करके लाखों रुपए कमा रहे हैं पार्थ, तरीका बहुत ही आसान है


गाजीपुर जिले के मिर्जापुर गांव के निवासी हैं पार्थ जिन्होंने खेती में क्रांति लाने के लिए काफी प्रयास कि। पार्थ ने हाइड्रोपोनिक जिसे बिना मिट्टी की खेती भी कहते हैं उसके तकनीक विकसित कर टमाटर की खेती की मिसाल कायम की है।

आज के समय पार्थ के मॉडल को देखकर गाजीपुर जिले में लगभग सभी घरों में उनके मॉडल से टमाटर की खेती हो रही है। इस तकनीक के बारे में पार्थ को वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विवि में पढ़ाई के दौरान पता चला था, लेकिन टमाटर की खेती की योजना वहां सफल नहीं हो पाई, लेकिन पार्थ ने इस तकनीक के उपयोग से इसे सफल कर दिखाया।

पार्थ को अब तक तीन बार राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। पहली बार 2007 में तत्कालीन राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने उन्हें बेस्ट एनसीसी कैडेट ऑफ इंडिया के अवार्ड से सम्मानित किया था। वहीं, दूसरी बार प्रतिभा पाटिल ने स्काउटिंग के लिए 2009 में सम्मानित किया। हाइड्रोपोनिक तकनीक विकसित करने के लिए 2015 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी पार्थ को प्रेसिडेंट रोवर अवार्ड से सम्मानित कर चुके हैं।

No comments:

Post a Comment