Friday, 12 April 2019

...तो इसलिए ट्रैक्टर के अगले दो पहिए पिछले के मुकाबले होते है छोटे


आज हम ट्रैक्टर को लेकर बता करे तो आपको ये बता दें कि आपने ट्रैक्टर को तो अवश्य देखा होगा। जो हमारी खेती-बाड़ी में काफी मददगार होते है। किन्तु आपने इन सबके साथ ही कभी ये गौर किया है कि ट्रैक्टर के दोनों पहिए समान नहीं होते है मतलब ट्रैक्टर के आगे के दो पहिए पीछे के दोनों पहियों से काफी छोटे होते है।

बता दें कि ऐसा आमतौर पर उन ट्रैक्टरों संग होता है जिनके पीछे के पहिए इंजन से जुड़े हुए होते हैं। अगले पहिए केवल दिशा देने का कार्य करते हैं। भारी पहियों को मोड़ने हेतु अधिक ताकत की आवश्यकता होगी।

टू व्हील ड्राइव में पीछे के पहिए चलायमान होते हैं। चूंकि ट्रैक्टर को ऊबड़-खाबड़ भूमि पर चलना पड़ता है इसलिए उसके चलायमान पहिए बड़े टायरों वाले होते हैं। फोर व्हील ड्राइव ट्रैक्टर भी होते हैं, जिनके चारों पहिए समान आकार के होते हैं।

इस स्थिति में स्टीयरिंग फ्रंट व्हील से नहीं होती बल्कि आगे एवं पीछे के पहियों के मध्य में एक जोड़ ऐसे लगाया जाता है जिससे ट्रैक्टर को दिशा दी जा सके।

No comments:

Post a Comment