Friday, 17 May 2019

यहां मंदिर जाने से पहले करनी होती है चौकीदार की पूजा


आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। दरअसल, हिमाचल प्रदेश के कुल्लू शहर में ब्यास और पार्वती नदी के संगम के नजदीक एक ऊंची पहाड़ी के ऊपर बिजली महादेव मंदिर मौजूद है।

यहां कि मान्यता एवं श्रद्धालु कहते है कि ये घाटी एक विशालकाय सांप का रूप है। इस सर्व का वध भगवान शिव ने किया था। जिस जगह पर मंदिर है वहां शिवलिंग पर प्रत्येक  12 साल में भयंकर आकाशीय बिजली गिरती है।

बिजली गिरने से मंदिर का शिवलिंग खंडित हो जाता है। यहां के पुजारी खंडित शिवलिंग के टुकड़े जमा कर मक्खन संग इसे जोड़ देते हैं। थोड़े ही महीनों के पश्चात ये शिवलिंग एक ठोस रूप में तब्दील हो जाता है।

भगवान शिव बिजली से किसी जान, पैसों को नुकसान नही पहुचाना चाहते थे। भोलेनाथ लोगों की रक्षा हेतु इस बिजली को अपने ऊपर गिरवाते हैं। इस कारण भोलेनाथ को यहां 'बिजली महादेव' के नाम से जाना जाता है।

No comments:

Post a Comment