Monday, 10 June 2019

जीवाजी यूनिवर्सिटी के छात्रों ने आम के पत्तों से शराब बनाई, यह डायबिटीज के साथ फैट भी घटाएगी



जीवाजी यूनिवर्सिटी में हेल्थ सेंटर के छात्रों ने आम के पत्तों से शराब बनाई है। इसमें 8 से 12% तक अल्कोहल हाेगा। इसके बावजूद यह डायबिटीज की रोकथाम के साथ ही फैट कम करने और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में कारगर होगी।

शराब को बनाने में 45-50 दिन तक का वक्त लगा। इसे ग्लूकोज, कार्बोहाइड्रेट और पेप्टॉन प्रोटीन के किण्वन से बनाया जाता है। जेयू प्रबंधन अब इसे लाेगाें तक पहुंचाने के लिए किसी कंपनी के साथ अपने फार्मूले का एमओयू साइन करने का प्रयास कर रहा है।


आम के पत्ताें से शराब तैयार करने का फार्मूला जेयू के हेल्थ सेंटर प्रभारी प्रो. जीबीकेएस प्रसाद और शाेध छात्रा रुपाली दत्त के साथियाें ने तलाश किया है। इसमें आम के पत्तों में पाए जाने वाले मैंगो फेरीन तत्व की महत्वपूर्ण भूमिका है जाे तमाम बीमारियों की रोकथाम में मददगार हाेता है। खास बात यह है कि आम के पत्ते पूरे साल उपलब्ध रहते हैं, जिससे यह शराब किसी भी सीजन में बनाई जा सकती है।




 आम के पत्तों की शराब में मैंगो फेरीन होता है, इससे डायबिटीज की रोकथाम होती है। शरीर का फैट कम होता है। इसमें एंटी वैक्टीरियल गुण भी होते हैं।
 गैलिक एसिड, पैरासिटिन, कैटाइचिन, इपि कैटाइचिन शरीर के ऊतकाें काे क्षतिग्रस्त नहीं होने देता।
 एस्कॉर्बिक एसिड रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। इसमें कैल्शियम भी होता है जो हडि्डयों के लिए लाभदायक होता है। 

No comments:

Post a Comment