Saturday, 13 July 2019

ईमानदारी की मिसाल, 200 रुपए की उधारी लौटाने 30 साल बाद औरंगाबाद आया केन्‍या का सांसद


महाराष्ट्र के औरंगाबाद में ईमानदारी की एक मिसाल नजर आई है। केन्‍या का एक शख्स 30 साल के पश्चात केवल 200 रुपए की उधारी चुकाने के लिए अपने परिवार संग लाखों रुपए खर्च कर औरंगाबाद में एक आदमी के यहां आया।
पैसा लौटाते ही केन्या का परिवार काफी भावुक हो गया। उसने भारतीय मित्र को 30 साल पूर्व सहायता करने के लिए गले से लगा लिया। विशेष बात यह है कि केन्या निवासी जब इतने वर्षों के पश्चात पैसे लौटाने औरंगाबाद वापस तो वह एक सांसद बन चुका था।
दरअसल, केन्या से आए इस आदमी का नाम रिचर्ड टोंगी है। वो औरंगाबाद में मैनेजमेंट की पढाई करने आया था। साल  1985 से 1989 तक वह औरंगाबाद में रहा। यहां के मौलाना आलाद कॉलेज में उसने पढ़ाई की थी।
काशीनाथ गवली की किराना की दुकान कॉलेज के नजदीक थी। वहां से रिचर्ड अपनी आवश्यकता का सामान खरीदता था। अनेक बार रिचर्ड के पास पैसे नहीं होते थे तो काशीनाथ उसे उधार देते थे। ऐसे में दोनों के मध्य भरोसे का रिश्ता कायम हो गया। ऐसा करीबन चार वर्ष तक चला।
पढ़ाई के पश्चात रिचर्ड केन्या वापस चला गया। वहां जाकर वह राजनीति में सक्रिय हो गया। सांसद भी बना एवं केन्या के विदेश मंत्रालय का उपाध्यक्ष भी बना। अपने इस 30 वर्ष की यात्रा में उसे अनेक बार भारत आकर काशीनाथ से मिलने की लालसा हुई। अबकि बार वो केन्या के मंत्रीगण संग भारत आया।
पहले काशीनाथ रिचर्ड को भूल चुके थे किन्तु रिचर्ड ने उन्हें सब  याद दिलाया। उनके 200 रुपये के बदले 19 हजार रुपये वापस किए। रिचर्ड एवं उनकी पत्नी मिशेल टोंगी ने काशीनाथ तथा उनके परिजनों को केन्या आने का न्योता दिया है।




No comments:

Post a Comment