Tuesday, 9 July 2019

भारत का एक ऐसा रहस्यमयी गांव, जहां से रातों-रात गायब हो गए थे 5000 लोग!


 ये ग्राम राजस्थान के जैसलमेर से 18 किलोमीटर दूर है, जिसे कुलधरा ग्राम के नाम से जाना जाता है। लगभग 200 वर्ष पूर्व कुलधरा और इसके आस-पास के गांव पालीवाल ब्राह्मणों से आबाद हुआ करते थे, किन्तु अब यहां मकानों के नाम पर केवल खंडहर हैं और इंसान तो बिल्कुल नहीं है।
बता दें कि, इस ग्राम के वीरान होने के पीछे एक रहस्यमयी कथा मौजूद है। बताया जाता है कि यहां के रियासत के दीवान सालेम सिंह ने गांव के ही एक पुजारी की काफी खूबसूरत बेटी को देखा था। वह उसे हासिल करने हेतु व्याकुल था।
उसने गांव वालों से बोला कि वो पुजारी की बेटी से मेरा विवाह करा दें, नहीं तो वो गांव पर आक्रमण करके उसे बर्बाद कर देगा। सालेम की धमकी के पश्चात पालीवाल ब्राह्मणों के 5000 से अधिक परिवारों ने रियासत छोड़ने का निर्णय लिया एवं रातों-रात गांव खाली करके चले गए।
बताया जाता है कि पालीवाल ब्राह्मणों ने ग्राम को छोड़ते समय यह श्राप भी दे दिया कि यह जगह कभी आबाद नहीं होगी। तब से यह ग्राम वीरान ही पड़ा है। हालांकि यहां अनेक बार लोगों ने बसने का भी प्रयास किया, लेकिन वो सफल नहीं हो पाए।
गांव खाली होने के पीछे एक कथा और प्रचलित है। ऐसा माना जाता है कि सालेम ने ब्राह्मणों के करों तथा लगान में इतनी वृद्धि कर दी कि उनका खेती करना या व्यापार करना काफी  मुश्किल हो गया व इसीलिए वो यहां से पलायन कर गए।
लोग मानते है कि अब यह ग्राम रूहानी ताकतों के कब्जे में है, जो यहां घूमने-फिरने के लिहाज से आने वाले लोगों को अपनी मौजूदगी का एहसास कराती हैं। यहीं कारण है कि यहां रात तो क्या, दिन में भी लोग आने से खौफ खाते हैं।

No comments:

Post a Comment