Sunday, 7 July 2019

इस मंदिर की मिट्टी लगाने से रोगों से मिलता है निजाद, लोगों का लगा रहता है डेरा


उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में रविवार को मां भुवनेश्वरी मंदिर में गठिया बीमारी से निजात पाने के लिये हजारों लोगों ने डेरा डाल दिया है। सुबह से ही लोग इस मंदिर के सरोवर में स्नान कर अनुष्ठान भी कर रहे हैं क्योंकि मान्यता है कि यहां स्नान करने और मंदिर की मिट्टी लगाने से गठिया बीमारी दूर हो जाती है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस स्थान की मिट्टी की जांच करने पर सल्फर की मात्रा ज्यादा पायी गयी। यही रासायनिक तत्व ही बीमारी से निजात दिलाता है।
हमीरपुर से 11 किमी दूर कालपी मार्ग पर स्थित झलोखर गांव में स्थित मां भुवनेश्वरी मंदिर की मिट्टी का  चमत्कार बुन्देलखण्ड क्षेत्र में विख्यात है। इस मंदिर को भुइयांरानी के नाम से भी जाना जाता है। किसी जमाने में यह मंदिर रिहायशी बस्ती से काफी दूर था लेकिन समय बीतने के साथ-साथ अब यह मंदिर घनी बस्ती के क्षेत्र में आ गया है। इसी मंदिर से लगे सरोवर का इतिहास भी सैकड़ों साल पुराना है। यह सरोवर भीषण गर्मी में भी पानी से लबालब रहता है। यह मंदिर पूरी तरह से खुला है क्योंकि इसमें छत भी नहीं पड़ी है। पहले मिट्टी का चबूतरा था जिसकी सीढ़ियां जरूर पक्की करवायी गयी हैं लेकिन चबूतरे का ऊपरी हिस्सा कच्चा है।
चबूतरे में ही नीम के पेड़ से लगी माता रानी की मूर्ति के दर्शन कर पान बताशा चढ़ाने की परम्परा है। बाद में भोजन के रूप में आटे की भौरिया बनाकर खाने की परम्परा है। रविवार को हमीरपुर के अलावा, फतेहपुर, कानपुर देहात, रायबरेली, जालौन, बांदा व मध्यप्रदेश के इलाकों से बड़ी संख्या में लोग मंदिर में माथा टेकने आये हैं। इनमें तमाम लोग गठिया रोग के पीड़ित हैं। मंदिर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को देखते हुये गांव के लोगों ने इंतजाम किया है। मंदिर के पास ही मेला भी लगा है जो देर रात चलेगा।


No comments:

Post a Comment