Thursday, 15 August 2019

13 साल के समर्पण को मोदी सरकार ने दिया जीवन रक्षक पदक,कोबरा सांप को पकड़कर बचाया था 40 बच्चों को


मध्यप्रदेश के पिपलौदा के समर्पण मालवीय को मोदी सरकार ने जीवन रक्षक पदक से सम्मानित किया है। यह पदक बहादुरी और वीरता के लिए बच्चों को भारत सरकार की ओर से दिया जाता है। समर्पण को यह पदक कोबरा सांप से 40 बच्चों का जीवन बचाने के लिए दिया गया है। इस पदक के लिए देशभर से 48 लोगों का चयन हुआ था।
दूसरों के जीवन के लिए अपने जीवन को दाँव पर लगाने वाले पिपलौदा के नन्हे हीरो समर्पण मालवीय पर प्रदेश को गर्व है। कोबरा को पकड़कर 40 बच्चों की अनमोल जिंदगियों को बचाने के लिए भारत सरकार द्वारा जीवन रक्षक पदक के लिए चुने जाने पर हार्दिक बधाई। मेरा आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ है।
समर्पण उर्फ समर मालवीय सांप पकड़ने में माहिर हैं। इनके पिता गणेश मालवीय सरकारी शिक्षक है। पिता कई सालों से शौकिया तौर पर सांप को पकड़ते हैं। दो साल पहले पिपलौदा के आंगनवाड़ी केंद्र में कोबरा सांप घुस गया था। उस वक्त केंद्र में 40 बच्चे थे। समर्पण ने बताया जब वह आगनवाड़ी केंद्र गया तो पता नहीं था वह कौन-सा सांप है। पिता उसके साथ नही थे। समर ने खेल-खेल में सांप पकड़ लिया व जंगल में छोड़ आया। पिता को जब यह बात पता चली तो उन्होंने उसे डाटा।
आंगनवाड़ी के बच्चों का जीवन बचाने के लिए समर को भारत सरकार के जीवन रक्षा पदक से सम्मानित किया गया। पिता ने बताया यह पदक भारत के राष्ट्रपति की ओर से भोपाल में राज्यपाल द्वारा दिया जाएगा। अभी कोई तारीख तय नहीं हुई है लेकिन केंद्र सरकार के गृह सचिव का पत्र उन्हें मिला है। आर्मी में देश सेवा का सपना है समर का, पुलवामा शहीदों के परिजनों को देगा राशि-समर का सपना इंडियन आर्मी में चयनित होकर देश की सेवा करने का है। पिता ने बताया अवाॅर्ड में जो राशि मिलती है वह पुलवामा में घायल हुए शहीदों के परिजन को ही देंगे।


No comments:

Post a Comment