Showing posts with label AJab Gajab. Show all posts
Showing posts with label AJab Gajab. Show all posts

Friday, 24 May 2019

न तो दोनों हाथ है और न ही पैर, फिर भी लोगों को जीने का सलीका सिखाता है ये बच्चा



हम जिस बच्चे की बात कर रहे है वो 11 साल के टियो पैनावैंगन है जो जन्म से ही बिना हाथ और पैरों के है। इंडोनेशिया के सियामिस में वो अपने मां-बाप संग रहता है।

वो यहां एक छोटे से पैनावैंगन स्कूल में पढ़ने के लिए जाता है। वो पढ़ने में बहुत तेज है और गणित में सर्वाधिक नंबर लाता है। उसकी अध्यापिका बुदिवती बताती है कि, वह बहुत ही तेज एवं स्मार्ट है।

वो चौथी ग्रेड के अध्याय काफी सरलता से बना लेता है और गणित में गुणन एवं विभाजन करने में तो उसे कोई मात नहीं दे सकता है। हालांकि वो फिलहाल दूसरी ग्रेड में पढ़ रहा है।

वो लिखने में अपने मुख की सहायता लेता है। स्कूल जाने से पूर्व एवं आने के पश्चात उसे प्ले स्टेशन पर गेम खेलना काफी अच्छा लगता है। शुरुआत में इसे सरकार से सहायता प्राप्त हुई थी, जो बाद में बंद हो गई।

इसके संग ही वो अपनी जिंदगी में अपनी उम्र के हिसाब से सर्वाधिक कार्य करता है और आज भी चुनौतियों का सामना कर रहा है।

बैडरूम से आती थी खतरनाक आवाज़ें, पता चला तो कपल रह गए हैरान


कपल जब भी अपने बेडरूम में सोने जाते थे तो उन्हें अजीब-अजीब आवाजें सुनाई देती थीं. उन्होंने इन आवाजों का पता लगाने की खूब कोशिश की, लेकिन वो नाकाम रहे. थक-हारकर उन्होंने एक स्थानीय शख्स से मदद के लिए संपर्क किया. उस शख्स ने भी कपल के बेडरूम की जांच की, लेकिन कहीं कुछ नहीं मिला. बाद में फैसला किया गया कि बेडरूम की दीवार तोड़ दी जाए, शायद उस पार कुछ मिल जाए. इसके बाद जो सामने आया उसे देखकर वो भी हैरान रह गए.

बता दें, उन्होंने जब बेडरूम की दीवार तोड़ी गई तो सामने का नजारा देखकर सभी की आंखें फटी की फटी रह गईं. शख्स ने बताया कि ऐसा खतरनाक नजारा उसने अपनी जिंदगी इससे पहले कभी नहीं देखा था. दरअसल, दीवार के भीतर करीब 80 हजार मधुमक्खियों ने डेरा जमा रखा था और पिछले एक साल से कपल इन्हीं की आवाजें सुनकर डर के साए में जी रहा था. हालांकि बाद में मधुमक्खियों को वहां से हटा दिया गया.

मोटापा के कारण पत्नी ने दिया तलाक, फिर हुआ कुछ ऐसा कि नहीं कर पाएंगे यकीन


मामला जापान से सामने आया है. यहां पर पत्नी को छोड़कर जाने के बाद पति पर इस कदर जुनून सवार हुआ की उसने अपनी जिंदगी को ही बदल लिया है. यहां पर रहने वाले Shirapyon को पांच साल पहले पत्नी ने तलाक दे दिया था. क्योंकि वो ज्यादा मोटा हो गया था. तलाक के बाद युवक ने रोज शाम शराब पीना शुरू कर दिया था. लेकिन जवानी की किसी घटना को याद आने के बाद उन्होंने बॉडी बिल्डिंग करने के का फैसला लिया और मन में ठान दिया की उनको अब मोटापा कम करना है.

बता दें, युवक ने अपना वजन 13 किलो तक कम किया जिसके लिए उन्होंने घंटो जिम में पसीना बहाया औऱ हेल्थी डाइट भी शुरू की. युवक ने वजन कम करके बाज में बॉडी बिल्डिंग कॉन्टेस्ट में भी हिस्सा लिया. उस शख्स का कहना है कि उन्होंने जिंदगी में बहूत मेहनत की और उनके शऱीर में बदलाव के साथ ही उनकी किस्मत का ताला भी खूल गया है. उनकी जिंदगी में भी कई सारे बदलाव आए है. इसके बाद उनको एक नया लाइफ पार्टनर मिल गया है जिसके साथ वो काफी हद तक खूश है.

Thursday, 23 May 2019

महिला ने अपनी बिल्ली की करवा दी प्लास्टिक सर्जरी, और हुआ ये हाल


चीन में एक महिला ने अपनी बिल्ली को खूबसूरत बनाने के लिए एक लाख रुपये खर्च कर दिए. महिला को लगता था कि उसकी बिल्ली खूबसूरत नहीं है और वो चाहती थी कि वो किसी परी की तरह दिखे. इसलिए उसने बिल्ली की ही प्लास्टिक सर्जरी करवा दी. जिस तरह इंसान कर वाता है उसेी तरह ही उसने बिल्ली के साथ भी ऐसा ही कर दिया है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, महिला ने सबसे पहले बिल्ली की आंखों की सर्जरी कराई, जिससे उसकी आंखें किसी इंसान की तरह दिखें.

इसके बाद उसने उसके चेहरे की भी प्लास्टिक सर्जरी कराई. इस मामले के सामने आने के बाद महिला को लोग जानवरों पर अत्याचार का दोषी बता रहे हैं. इस खबर के बारे ने चीनी न्यूज़ चैनल ने ही जानकारी दी है.  इस सर्जरी की वजह से बिल्ली की आंखें सूज गईं और लाल हो गईं. चैनल ने बिल्ली की फोटो भी जारी की है, जिसमें आप साफ देख सकते हैं कि बिल्ली की आंखों के ऊपर टांके लगे हैं और सूजन है. इसके बाद बिल्ली को जानवरो के अस्पताल भी ले जाया गया.

कुत्ते की तरह चलती है ये लड़की, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो


सोशल मीडिया पर कभी-कभी वीडियो सामने आ जाते हैं जिन्हें देखकर हैरानी होती है. आजकल मीडिया पर एक और ऐसा ही वीडियो वायरल हो रहा है जिसे आप भी यहां देख सकते हैं. बता दें, नार्वे की आयला कर्स्टन सोशल मीडिया पर अपने चलने के तरीके को लेकर चर्चा में बनी हुई है. इनके चलने का तरीका ऐसा क्यों हैं इसके बारे में बताने जा रहे हैं हैं.

दरहल, आयला कर्स्टन घोड़े की तरह चलती है चौकाने वाली बात यह है की वह चलने के साथ-साथ दौड़ और घोड़े के समान किसी बाधा को कूद भी सकती है. कर्स्टन ने उनके चलने के अनुभव को शेयर भी किया. उन्होंने कहा, "मुझे ऐसे चलने में कभी चोट नहीं लगी. ना ही कलाई में तकलीफ हुई." कर्स्टन ने कहा कि लोग मेरी इस अनोखी आदत को पसंद कर रहे हैं. इनका ये वीडियो मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है.

बता दें, कर्स्टन ने इंस्टाग्राम पर तीन हफ्ते पहले अकाउंट खोला था, लेकिन उनकी लोकप्रियता तेजी से बढ़ रही है. लोग ट्विटर पर भी उनकी जानकारी शेयर कर रहे हैं।

Wednesday, 22 May 2019

गैरमर्द पसंद आया तो यहां की महिलाएं अपना रिश्ता..


हर देश और जनजाति के अपने कुछ रिवाज होते है जो पीछले कई सालों से चले आ रहे हैं और उन्हें आज भी उसी तरह से माना जाता हैं. लेकिन आज हम बात करने जा रहे है पाकिस्तान की कलाशा जनजाति के बारे में जो अपनी अजीब परंपराओं के चलते हमेशा सुर्ख़ियों में बनी रहती हैं. इनके यहां कुछ ऐसे रिवाज होते हैं जो आपको भी हैरान कर देंगे. आज हम आपको इन्ही की एक ऐसी परंपरा के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके अनुसार शादीशुदा महिला को गैरमर्द पसंद आने पर वह रिश्ता तोड़ सकती हैं और नया नाता जोड़ सकती हैं.

आम तौर पर ऐसा नहीं होता है लेकिन इस जनजाति में ये मान्य है. पाकिस्तान के अफगानिस्तान से सटे सीमा पर सटी कलाशा जनजाति रहती है. यह जनजाति पाकिस्तान के सबसे कम अल्पसंख्यकों की श्रेणी में गिनी जाती है. वहीं पाकिस्तान की जनगणना की रिपोर्ट के अनुसार इस जनजाति के समुदाय में कुल 3,800 लोग ही बचे है जो पाकिस्तान के खैबर-पख्तूनख्वा प्रांत में चित्राल घाटी के रामबुर, बिरीर और बाम्बुराते क्षेत्र में रहते है.

इनकी खास बात ये है कि ये जनजाति अपनी आधुनिक परंपराओं तथा कुछ अजीब परंपराओं के लिए जानी जाती है जैसे इनके समुदाय की महिलाओं को अगर कोई गैरमर्द पसंद आ जाता है तो वो अपने पति का साथ छोड़कर उसके साथ रहने लगती है और इसका कोई विरोध भी नहीं करता है. ये समुदाय हिंदू कुश पहाड़ों के बीचो-बीच रहती है और उनका मानना है की पर्वतो से गिरे रहने की वजह से हमारी सभ्यता और संस्कृति जिन्दा है.

ये जनजाति पुरे साल में तीन त्यौहार मनाते है जिसमे Camos, Joshi और Uchaw शामिल है. इनमें से Camos को सबसे बड़ा त्यौहार मानते है. और ये दिसंबर के महीने में मनाया जाता है. इसी Camos त्यौहार में पुरुष, महिलाएं, लड़के-लड़कियां आपस में मिलते है. इसी में नये रिश्ते भी जुड़ते है और महिलाओ को अगर दूसरा पुरुष पसंद आ जाए तो वे उसके साथ चली जाती है. वही इस समुदाय में अगर किसी की मौत हो जाती है. तो रोने के बजाय खुशी मनाते है और नाचते-गाते और शराब पीते हैं.


भीषण गर्मी से बचने के लिए गाय के गोबर से रंगी कार, देखें


आज हम आपको एक ऐसी खबर के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप दंग रह जाएंगे। दरअसल, गुजरात के शहर अहमदाबाद में एक कार मालकिन सेजल शाह ने गर्मी से बचने हेतु अपनी गाड़ी को ठंडा रखने हेतु गाय गोबर से रंग दिया, जो अब इंटरनेट पर वायरल हो रहा है।

फेसबुक यूजर रुपेश गौरंग दास ने गोबर से रंगीकार की फोटोज शेयर करते हुए लिखा कि, 'गाय के गोबर का इससे ठीक उपयोग मैंने अब तक नहीं देखा।

इस पोस्‍ट पर लोग प्रश्न पूछ रहे हैं कि गोबर की दुर्गंध से बचने हेतु कार के भीतर बैठे लोग कैसे बचते हैं। ये टोयोटा कोरोला कार महाराष्‍ट्र में रमनिकलाल शाह के नाम से खरीदी गई है।

जानकारी के मुताबिक, हिन्दुस्तान में ऐसी मान्‍यता है कि गाय का गोबर दीवारों पर लगाने से वे ठंड में गर्म एवं गर्मी में ठंडी रहती हैं। सैकड़ों सालों से धरती को लेपने हेतु गाय के गोबर का उपयोग किया जाता रहा है।

ये माना जाता है कि गाय का गोबर लगा देने से मच्‍छर घर में प्रवेश नहीं कर पाते है। यहां तक कि गाय का मूत्र का उपयोग जमीन को साफ करने हेतु भी किया जाता है।



अनोखी शादी: इस युवक ने किया बिना दुल्हन के विवाह!


आज हम आपको एक ऐसी शादी के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप दंग रह जाएंगे। दरअसल, गुजरात के साबर कांठा जिले के हिम्मतनगर तालुका के चांपलानार ग्राम का निवासी अजय यानी पोपट का बचपन से सिर्फ यही सपना था कि उसकी भी शादी और उसमें वो सब चीजें शामिल हो जो होनी चाहिए।

बता दें कि अजय एक दिव्यांग हैं। जिसकी वजह से उसकी शादी नहीं हो पा रही थी। ऐसे में वो अक्सर अपने पिता से पूछा करता था कि उसका भी विवाह कब होगा। उसके इन सवाल का पिता के पास कोई उत्तर नहीं होता था।

उसके सपने सुन सौतेली माता की आंखों से आंसू झलक आते थे। अब लड़के को ये सपना पूरा करना था एवं इस रास्ते में दुल्हन का ना मिलना ही बाधा बन रहा था, इसलिए उसने बिना दुल्हन के ही अपना स्वयं का एक विवाह समारोह करने के बारे में सोचा।

उसके सपने को पूर्ण करने हेतु पिता और एवं मामा ने पूर्ण सहायता की। उसके विवाह हेतु बकायदा कार्ड भी छापवाए गए। तत्पश्चात शादी वाले दिन उसने दूल्हे के वस्त्र भी धारण किए एवं घोड़ी पर बैठकर पूरा गांव घूम लिया।

उधर गांव के लोगों ने ऐसी अनोखी शादी को पहली बार देखा। उन्हें इस बात की काफी खुशी हुई कि ऐसे ही सही परन्तु लड़के का सपना अवश्य पूरा हो गया।



ये है दुनिया की सबसे लंबे बालों वाली लड़की, गिनीज बुक में नाम है दर्ज


गुजरात के मोडासा का जिक्र इस वक्त पूरी दुनिया में हो रहा है एवं इसका श्रेय 16 साल की नीलांशी पटेल को  जाता है। इस उम्र में लड़की ने अपने लंबे बालों के कारण गिनीज वर्ल्ड रेकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराया है।

उसके बाल करीब 5 फीट, 7 इंच लंबे हैं। उनका यह कारनामा रेकॉर्ड बुक के 2019 संस्करण का हिस्सा होगा। एक रिपोर्ट के अनुसार, लड़की ने कहा कि 10 साल पहले जब वो 6 साल की थी, तब वह बाल कटाने हेतु गई थी, लेकिन जब हेयर कट हुआ तो उसे ये बिल्कुल पसंद नहीं आया।

उसी समय उन्‍होंने ये निर्णय किया कि आगे से वह कभी हेयरकट नहीं लेगी। आज उनका यहीं फैसला उन्हें पहचान दिला रहा है। वो कहती है कि वह अपने बालों को हप्ते में सिर्फ एक बार धोती हैं और उन्हें संभालने में उनकी माता काफी सहायता करती हैं।

उसने कहा कि वह जब भी अपने बाल धोती हैं तो इन्हें सुखाने में आधा घंटे के वक्त लग जाता है। सूखने के पश्चात उन्हें व्यवस्थित करने में 1 घंटा लगता है।

लड़की के मुताबिक, उन्हें बालों को संभालने में काफी दिक्कत नहीं होती है और न ही उनके बाल किसी कार्य को करने में बाधा बनते हैं। आगे वो बताती है कि वो जब भी खेल में हिस्सा लेती हैं तो अपने बालों को बांध लेती हैं।



बर्गर में मिला था कुछ ऐसा


हाल ही में ऐसा ही एक मामला सामने आया है जिसे हम बताने जा रहे हैं. मामला कुछ ऐसा है कि एक शख्‍स ने बर्गर आर्डर किया था जिसे खाने के बाद उसके मुंह से खून निकलने लगा, इसी की शिकायत उसने कराइ है. आइये जानते हैं इस मामले में क्या हुआ है.

दरसल, पुणे में एक 31 साल के शख्‍स को बर्गर में कांच के टुकड़े मिले, जिससे उसका मुंह लहूलुहान हो गया. रिपोर्ट के अनुसार, उसके गले को काफी नुकसान पहुंचा है. इसके चलते इस व्‍यक्ति को अस्‍पताल में भर्ती कराना पड़ा. जानकारी के मुताबिक, साजिद पठान अपने दोस्‍तों के साथ बर्गर किंग में गए थे. जब उन्‍होंने अपने बर्गर का एक टुकड़ा चबाया, तो उन्‍हें गले में चुभन हुई. थूकने पर पाया कि मुंह से खून भी निकल रहा है साथ ही कांच के टूटे हुए टुकड़े भी निकले. साजिद और उनके दोस्‍त बर्गर में कांच के टूटे हुए टुकड़े पाकर हैरान रह गए.

इसके बाद साजिद और उनके दोस्‍तों ने बर्गर किंग और उसके कर्मचारियों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. पुलिस का कहना है कि शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया गया है।


Tuesday, 21 May 2019

इस कारण शख्स को खुद ही काटना पड़ा अपना पैर...


अमेरिका के नेब्रास्का में 63 साल के किसान कुर्ट केजर का पैर फसल काटने वाली मशीन में फंस गया था. इस दौरान खुद की जान बचाने के लिए उसने खुद ही चाकू से अपना पैर काट डाला. केजर ने बताया कि वह अपने खेत से मक्के को एक से दूसरी जगह ले जा रहे थे. उसी के बाद उनके साथ ऐसा हुआ जिसके बारे में वो सोचा भी नहीं होगा.

बता दें, उसी समय वह ट्रक से बाहर निकले और मक्के को पौधे से अलग करने वाली मशीन में उनका पैर फंस गया. मशीन उनका पैर खींचती जा रही थी. उन्होंने पहले सोचा कि पैर जाने देते हैं, लेकिन फिर उन्हें एकदम से झटका लगा, क्योंकि मशीन उनका पैर खींचने के बाद उन्हें भी खींच रही थी. जान बचाना मुश्किल लग रहा था. इसके बाद उन्होंने जेब से चाकू निकाला और घुटने के नीचे का हिस्सा काट डाला.

आपको हैरानी होगी पैर काटने के बाद वो रेंगते-रेंगते अपने घर पहुंचे. उनका बेटा एडम घर पर था. वह उन्हें अस्पताल लेकर गया।

Monday, 20 May 2019

अजीब है ये लडकियां, बॉयफ्रेंड तक आपस में करती है शेयर


आज हम आपको दो ऐसी लड़कियों के बारे में बताने जा रहे है जिनकी शक्ल एक दूसरे से पूरे तरह से मिलती है और इतना ही नहीं ये दोनों आपस में बॉयफ्रेंड को भी शेयर करती हैं.

आपको जानकारी के लिए बता दें कि इन दोनों लड़कियों के नाम अन्ना और लूसी हैं और इन्हें world’s most identical twins भी कहा जा रहा है. ऑस्ट्रेलिया के पर्थ शहर की निवासी जुड़वां बहनें अन्ना और लूसी ने और अधिक एक जैसी दिखने के लिए कॉस्मेटिक सर्जरी पर 1 करोड़ 76 लाख रुपये भी खर्च किए हैं और उनसे जुडी खास बात यह भी है कि दोनों एक ही ब्वॉयफ्रेंड को ही शेयर करती हैं.

खास बात यह भी है कि जुड़वां बहनों ने लिप फिलर्स, ब्रेस्ट इम्प्लांट्स, फेशियल टैटूइंग और लेजर ट्रीटमेंट पर मोटी रकम उड़ाई है।

Sunday, 19 May 2019

लाखों में बिकी ये छोटी सी कटोरी, जानिए इसकी खासियत


कई बार छोटी छोटी चीज़ें इतनी कीमती होती हैं जिसके चलते उनकी चर्चा बन जाती है. हाल ही में ऐसे ही एक कटोरे की कीमत लगी है जो बेहद ही ज्यादा है. इसके बारे में जानकर आप भी हैरान रह जायेंगे. आज हम ऐसे ही एक कटोरे की बात बताने जा रहे हैं जिसकी चर्चा बनी हुई है.

दरअसल, न्यूयॉर्क में बेहद दुर्लभ कटोरा नीलामी में 35 लाख रुपए में बिका. यह कटोरा 1723-35 के वक्त के राजा योंगजेंग के कार्यकाल से जुड़ा है. बता दें, इसके ऊपर योंगजेंग लिखा हुआ है. ऐसा बताया जा रहा है कि इसका निर्माण राजा के लिए किया गया था. इस कटोरे को 39 साल पहले एक ब्रिटिश व्यक्ति ने 20 पाउंड में चीन में एक एंटिक शॉप से खरीदा था. एंटीक होने के कारण ही इसकी कीमत इतनी है.

सफेद रंग का यह कटोरा 4 इंच का है. इस कटोरे की न्यूनतम बोली 8,000 पाउंड रखी गई थी. लेकिन वह तय कीमत से 5 गुना महंगा नीलाम हुआ. इस बारे में जानकारों का कहना है कि ऑक्शन के वक्त यह लोगों के आकर्षक का केंद्र रहा है. स्वॉर्डर्स फाइन आर्ट ऑक्सनियर्स की गैलरी में इसे देखने के लिए लोगों की लंबी लाइन देखी गई.


यह शादी के बाद टेस्ट करते हैं लड़कियों की वर्जिनिटी, पास ना होने पर होता है ऐसा हश्र...


कंजरभाट समुदाय में शादी के बाद लड़कियों के वर्जिनिटी टेस्ट की परंपरा कई वर्षों से चलती आ रही है और इसमें शादी के बाद लड़की को शादी से पहले के अपने कुंवारे होने का सबूत देना पड़ता है. साथ ही बता दें कि यदि लड़की इस वर्जिनिटी टेस्ट में फेल हो जाती है तो उसे वापस उसके घर भी भेज दिया जाता है और फिर उसकी कभी भी शादी नहीं हो पाती है.

फिलहाल हाल ही में महाराष्ट्र के ठाणे जिले में कंजरभाट समुदाय के एक परिवार ने वर्जिनिटी टेस्ट की इस प्रथा का कड़ा विरोध और सामाजिक बहिष्कार किया है तो मामला पुलिस तक पहुंच पाया है. जानकारी के मुताबिक, हाल ही में गुरुवार को ठाणे पुलिस ने पीड़ित परिवार की शिकायत के आधार पर अंबरनाथ कस्बे के 4 लोगों के खिलाफ महाराष्ट्र जन सामाजिक बहिष्कार निषिद्ध अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया.

शिकायतकर्ता विवेक तामचीकर ने पुलिस से कहा कि उनके समुदाय की जाति पंचायत ने बीते एक साल से उनके परिवार का बहिष्कार कर दिया है क्योंकि उन्होंने समाज की उस प्रथा का विरोध किया था जिसके तहत नवविवाहित महिला को यह साबित करना होता है कि वह शादी से पहले कुंवारी थी या नहीं. विवेक ने इस बारे में पुलिस को बताया है कि यह मामला उस समय सामने आया था जब तीन दिन पहले उनकी दादी का निधन हो गया और पंचायत के कथित निर्देशों के कारण अंतिम संस्कार में उनके समाज का कोई भी सदस्य शामिल नहीं रहा था. सभी ने उनसे दूरी बना ली थी.

आगे विवेक ने आरोप लगाया कि उनकी पंचायत ने समुदाय के सभी सदस्यों को निर्देश दिया है कि वे उनके परिवार के साथ किसी भी तरह का संबंध न रखें. वहीं आपको बता दें कि फरवरी 2019 में महाराष्ट्र सरकार कह चुकी है कि वह जल्द महिला को वर्जिनिटी टेस्ट कराने के लिए बाध्य करने को दंडनीय अपराध की श्रेणी में डालेंगी. वहीं पुलिस ने भी इस प्रथा को गलत करार दिया है.


यह है दुनिया का सबसे अनोखा रेस्टोरेंट, किसी हवाई जहाज की तरह है नजारा


आपको जानकारी के लिए बता दें कि चीन में एक ऐसा रेस्टोरेंट भी मौजूद है जिसका लुक एक जेल जैसा नजर आता है. वहीं इस जेल में बंद किसी कैदी की तरह लोग यहां सलाखों के बीच बैठकर खाना भी खाते हुई नजर आते हैं और यह अनोखा रेस्टोरेंट तियाजीन शहर में स्थित है, जो कि साल 2014 में खोला गया था.

जानकारी के मुताबिक, लात्विया की राजधानी रीगा में एक ऐसा अनोखा रेस्टोरेंट मौजूद है जिसे पूरी तरह से अस्पताल का लुक दिया है और यहां के शेफ डॉक्टर की ड्रेस में जबकि महिला वेटर्स नर्स की ड्रेस पहने हुई नजर आ रही हैं. वहीं यहां आए लोग किसी मरीज की तरह खाना खाते हुई नजर आते हैं. ताइपे शहर में स्थित इस रेस्टोरेंट को एक हवाई जहाज का रूप मिलेगा. साथ ही इसका नाम भी किसी हवाई जहाज के नंबर की तरह A380 रखा हुआ है. हालांकि रेस्टोरेंट के अंदर घुसने पर आपको लगेगा कि किसी विमान में आप घुस गए हो. यहां का नजारा हे कुछ ऐसा है.

Saturday, 18 May 2019

इस मुस्लिम देश में श्रीराम को ही मानते हैं अपना आदर्श, होती है रामलीला


हिन्दू- मुस्लिम के बीच एक अंतर सभी जानते हैं. ऐसे ही रमजान का माह चल रहा है जिसमें हर मुस्लिम बंधू रोजा रखता है और इस्लाम से जुड़े हर काम को करता है जिससे उन्हें नेकी मिलती है. वहीं आपको पता ही है कि भारत में हिंदू धर्म के लोग मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम को अपना भगवान और और उनके जीवन पर लिखी गई ‘रामायण’ को अपने सबसे बड़े धार्मिक ग्रंथ में से एक मानते हैं. लेकिन आपको ये जानकर बेहद हैरानी होगी कि पूरी दुनिया के सबसे अधिक मुस्लिम लोगों की आबादी वाले देश में भी लोग भगवान राम और रामायण के बेहद दीवाने हैं.

यह देश विश्व के मानचित्र पर दक्षिण पूर्व एशिया में स्थित है और इसकी आबादी लगभग 23 करोड़ है. इसका नाम इंडोनेशिया है और यह दुनिया का चौथा सबसे अधिक आबादी वाला देश है. यहां की अधिकतर जनसंख्या मुस्लिमों की हैं. यही नहीं इस देश में एक स्थान है जिसको अयोध्या कहा जाता है और यहां के लगभग सभी मुस्लिम भी भगवान राम को ही अपना आदर्श पुरुष और पवित्र रामायण को ही अपने दिल के करीब मानते हैं.

सिर्फ इतना ही नहीं, रामायण का वहाँ पर इतना अधिक प्रभाव है कि आज भी इस देश के कई इलाकों में रामायण के अवशेष और पत्थरों पर की जाने वाली नक्काशी पर रामकथा के चित्र यहां मिलते हैं. बता दें कि 1973 में इस देश की सरकार ने एक अंतर्राष्ट्रीय रामायण महोत्सव सम्मेलन का आयोजन करवाया था और काफी देशों से रामलीला के कलाकार यहां आए थे. यानि ये एक एकलौता देश है जहां पर रामायण का इतना महत्त्व है.


ये है वो शख्स जिन्होंने दुनिया को दी पहली BLACK HOLE की तस्वीर


कुछ दिन पहले ब्लैक होल की फोटो वायरल हो रही है जिसे सभी ने पहली बार देखा था. अब इसके बारे में सभी जानना चाहते हैं कि फोटो भेजने वाला कौन था. हाल ही में इसकी जानकारी सामने आई है कि वो कौन है. बता दें, आज से 6 साल पहले तक Katie Bouman को ब्लैक होल की ज्यादा जानकारी नहीं थी. 6 साल पहले जब केटी ने इवेंट हाॅरीजन टीम  को जाॅइन किया था तब उनका बैकग्राउंड कंप्यूटर साइंस एंड इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग का था. उन्हें ब्लैक होल के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी. लेकिन EHT का ब्लैक होल प्रोजेक्ट उनके करियर का टर्निंग पाॅइंट साबित हुआ. उन्होंने कुछ ऐसा कर दिखाया जिसे हर कोई नहीं कर सकता.

आज से पहले तक ब्लैक होल की कई कलाकारी प्रस्तुतियां भी सामने आई हैं, लेकिन इन तस्वीरों को केटी बाॅमेन ने वास्तविकता का रूप दिया. 10 अप्रैल 2019 को दुनिया ने ब्रह्मांड में मौजूद रहस्यमयी ब्लैक होल की पहली अद्भुत तस्वीर देखी. ब्लैक होल की इस तस्वीर के लिए 8 लिंक्ड टेलीस्कोप का इस्तेमाल किया गया था. ब्लैक होल की इस तस्वीर में धधकते हुए सुनहरे और काले रंग के रिंग्स नजर आ रहे थे जिसे देखकर भी यकीन नहीं हो रहा  था कि वो वाकई ऐसा ही है. यह विज्ञान और मानव विकास के क्षेत्र में एक बड़ी सफलता है.



भारत का सबसे चर्चित पुल, जिसका आज तक नहीं हुआ उद्घाटन


पूरी दुनिया में ऐसे कई पुल स्थित हैं जो अपनी एक अलग ही पहचान रखते हैं और कहीं-कहीं ये पुल देश की शान भी कहलाते हैं. वहीं ऐसा ही एक पुल भारत में भी बना हुआ है, जो सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि दुनियाभर में काफी  प्रसिद्ध है. साथ ही इसे लेकर हैरानी की बात यह भी है कि इस विश्व प्रसिद्ध पुल का आज तक उद्घाटन भी नहीं हुआ है और यह सब दूर काफी फेमस है.

आपको बता दें कि यह पुल है कोलकाता का हावड़ा ब्रिज और यह हमेशा से कोलकाता की पहचान रहा है. खास बात यह है कि इस पुल को बने के 76 साल हो चुके हैं और द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान दिसंबर 1942 में जापान का एक बम इस ब्रिज से कुछ दूरी पर ही गिर चुका था, लेकिन यह ब्रिज तब भी ज्यों का त्यों ही खड़ा रहा, जैसे आज है.

बीबीसी से मिली जानकारी के मुताबिक, उन्नीसवीं सदी के आखिरी दशकों में ब्रिटिश इंडिया सरकार ने कोलकाता और हावड़ा के बीच बहने वाली हुगली नदी पर एक तैरते हुए पुल के निर्माण की योजना बनाई गई थी और ऐसा इसलिए क्योंकि उस दौर में हुगली में रोजाना कई जहाज आया-जाया करते थे. साथ हे बता दें कि खंभों वाला पुल बनाने से कहीं जहाजों की आवाजाही में रुकावट न आये, इसलिए 1871 में हावड़ा ब्रिज एक्ट पास किया गया था और फिर बाद में 1936 में हावड़ा ब्रिज का निर्माण कार्य शुरू हुआ और 1942 में यह पूरा हुआ था.



ये है वो शख्स जिन्होंने दुनिया को दी पहली BLACK HOLE की तस्वीर


आज से पहले तक ब्लैक होल की कई कलाकारी प्रस्तुतियां भी सामने आई हैं, लेकिन इन तस्वीरों को केटी बाॅमेन ने वास्तविकता का रूप दिया. 10 अप्रैल 2019 को दुनिया ने ब्रह्मांड में मौजूद रहस्यमयी ब्लैक होल की पहली अद्भुत तस्वीर देखी. ब्लैक होल की इस तस्वीर के लिए 8 लिंक्ड टेलीस्कोप का इस्तेमाल किया गया था. ब्लैक होल की इस तस्वीर में धधकते हुए सुनहरे और काले रंग के रिंग्स नजर आ रहे थे जिसे देखकर भी यकीन नहीं हो रहा  था कि वो वाकई ऐसा ही है. यह विज्ञान और मानव विकास के क्षेत्र में एक बड़ी सफलता है.

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की 29 साल की केटी बाॅमेन ने एक ऐसे एलगोरिदम का निर्माण किया जो इस तस्वीर को दुनिया के सामने वास्तविक रूप से लाने में कामयाब रहीं. केटी EHT टीम की अहम सदस्य हैं और कड़ी मेहनत के बाद उन्होंने ब्लैक होल की तस्वीर के लिए डाटा जुटाए और फिर इसे अंजाम दिया।

इस मंदिर की अजीब परंपरा, लोगों पर फेंके जाते हैं आग के गोले


जानकारी के अनुसार यहां एक ऐसी परंपरा निभाई जाती है जिसमें एक-दूसरे पर आग फेंकी जाती है. भक्‍त इसमें अपनी जान की कोई परवाह नहीं करते. बता दें कि यह एक परंपरा है, जिसे उत्‍सव के रूप में 8 दिनों तक मनाया जाता है. यहां के लोगों का कहना है कि अग्नि केलि नाम की यह परंपरा सदियों से चली आ रही है. परंपरा दो गांव आतुर और कलत्तुर के लोगों के बीच होती है. मंदिर में सबसे पहले देवी की शोभा यात्रा निकाली जाती है, जिसके बाद सभी तालाब में डुबकी लगाते हैं. फिर अलग-अलग दल बना लेते हैं.

इन सब के बाद अपने-अपने हाथों में नारियल की छाल से बनी मशाल लेकर एक दूसरे के विरोध में खड़े हो जाते हैं. फिर मशालों जला जाता है. इसके लिए यह परंपरा शुरू हो जाती है. जलती मशालों को एक-दूसरे पर फेंका जाता है. यह खेल करीब 15 मिनट तक चलता है. एक शख्स को सिर्फ पांच बार जलती मशाल फेंक सकता है. बाद में वह मशाल को बुझाकर वहां से हट जाता है. ऐसा ही कुछ होता इस परंपरा में जिसमें किसी को कुछ नहीं होता.