Showing posts with label AJab Gajab. Show all posts
Showing posts with label AJab Gajab. Show all posts

Thursday, 13 August 2020

इस शख्स को बंदर ने सिखाया अच्छा सबक, वीडियो देख नहीं रुकेगीं आपकी हंसी


सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है, इस वीडियो को देख आप अपनी हंसी पर काबू नहीं कर पाएंगे. इस वीडियो में बंदर ने राह चलते शख्स की ऐसी खबर ली है कि व्यक्ति आखिरी तक समझ नहीं पाता है कि उसे ऐसा धक्का किसने दिया है. जब शख्स को कुछ समझ नहीं आता है तो वह भूत-प्रेत की बात मान उठकर आगे की और बढ़ जाता है.
इस वीडियो में साफ़ नजर आ रहा है कि एक शख्स मस्ती में अपने निवास या मार्केट की तरफ जा रहा है. रास्ते के बीच एक बंदर घात लगाए हुए बैठा था. इस वीडियो देख ऐसा ला रहा है कि बंदर की उस शख्स से कोई पुरानी दुश्मनी है. हालांकि, इस वक्त शख्स बंदर से बेखबर रहता है. वह अपनी चाल आगे की और लगातार बढ़ाते रहता है. जब बंदर की नजर उस शख्स पर पड़ती है, तो वह विचार करता है कि आज मौका मिल गया है. आज तो इसे सबक जरूर सीखा के रहूंगा.
इसके बाद जब वह शख्स कुछ कदम आगे बढ़ जाता है. तब वह बंदर तेजी से दौड़कर आता है और शख्स को पीछे से धक्का देकर झट से नौ दो ग्यारह हो जाता है. बंदर के धक्के से शख्स सड़क पर नीचे गिर जाता है. इसके बाद जब वो उठकर खड़ा होता है, और इधर-उधर अपनी नजरें फिराता है. उस वक्त शख्स को चारों और कुछ दिखाई नहीं देता है. वह विचार में पड़ जाता है कि शायद कोई भूत-प्रेत है. उस वक्त वह बिना वक्त गवाएं, वहां से भाग निकलने में ही अपनी भलाई समझता है. यह वीडियो बेहद ही हास्यास्पद है. बता दें की यह वीडियो भारतीय वन सेवा के अफसर सुशांत नंदा ने अपने ट्विटर अकांउट पर साझा किया है. इसके कैप्शन में उन्होंने लिखा है-फेक एनकाउंटर. इस साझा किए गए वीडियो को अब तक 17 हजार से ज्यादा लोग देख चुके हैं.  

गजब की टेक्नोलॉजी से बना है ये हेलमेट, बिना लगाए नहीं होगी आपकी बाइक स्टार्ट, देखें VIDEO

 

सड़क दुर्घटनाओं में ज्यादातर लोगों की मौत दोपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट न पहनने से होती हैं. 2015 से 2016 के बीच 45,500 लोगों की मौत एक्सीडेंट से हुई है. जिसमें से 60% लोग वो हैं जिन्होंने हेलमेट नहीं लगाया था. इन मौतों का आंकड़ा देखते हुए लगता है कि अगर कोई ऐसा हेलमेट आ जाए जिसकों बिना पहने गाड़ी ही ना चले तो एक्सीडेंट में जान गवाने वालों की संख्या में भारी कमी आ जाएगी. आज हम एक ऐसे छात्र के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने ये कारनामा कर दिखाया है.
बीटेक के छात्र हिमांशु गर्ग ने एक ऐसा हेलमेट बनाया है, जिसे पहने बगैर बाइक स्टार्ट ही नहीं होगी. हेलमेट को उतारते ही इंजन खुद ब खुद बंद हो जाएगा. बल्केश्वर के लोहिया नगर निवासी हिमांशु गर्ग आरबीएस कॉलेज का छात्र है. उसने बताया कि मार्च 2014 को उसकी मां जयमाला की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी. वह हेलमेट नहीं लगाए थीं. इसके बाद ही उसने सोच लिया था कि वह कुछ ऐसा कर दिखाएगा, जिससे लोगों की जिंदगी बचाई जा सके. एक साल के प्रयोग के बाद उसने इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस और पल्स सेंसर से लेस एक हेलमेट तैयार किया है.
हिमांशु ने बताया कि हेलमेट की एक डिवाइस को बाइक और स्कूटर के इंजन से जोड़ने पर यह काम करने लगता है. हेलमेट पहनने पर ही बाइक स्टार्ट होगी. अगर, गाड़ी स्टार्ट होने के बाद हेलमेट उतार देंगे तो इंजन खुद ही बंद हो जाएगा. इसके अलावा हेलमेट में ऐसी तकनीक भी है जिसके माध्यम से शराब पीने पर भी गाड़ी स्टार्ट नहीं होगी. मोबाइल चार्ज भी कर सकेंगे. अगर, इस टेकनीक का इस्तेमाल दो पहिया वाहन बनाने में किया जाए तो लोगों को काफी फायदा मिलेगा.

ऑटो रिक्शा चालक मोहम्मद हबीब ने 1.4 लाख रुपये से भरा बैग यात्री को लौटाया

 

ईमानदारी की एक ऐसी मिसाल सामने आई है जिससे साबित होता है कि देश-दुनिया में ईमानदारी और सच्चाई आज भी जिंदा है। हैदराबाद में ऑटो रिक्शा चालक मोहम्मद हबीब ने कोरोना महामारी के बीच ईमानदारी की मिसाल पेश करते हुए 1.4 लाख रुपये से भरा बैग यात्री को वापस कर दिया।
दरअसल, हर दिन की तरह दो बच्चों के पिता मोहम्मद हबीब अपने परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिए अपना ऑटो रिक्शा लेकर घर से निकले। सिद्दीम्बर बाजार क्षेत्र के पास दो महिलाओं को छोड़ने के बाद वह लगभग 2.30 बजे तक तडबन लौट आए। जब वह पानी की बोतल के लिए यात्री की सीट के पीछे देखा तो वहां पर उन्हें एक बैग दिखाई दिया। इस बैग के अंदर क्या हो सकता है, यहीं सोचकर वह वापस वहां गए जहां उन्होंने पिछली यात्रियों को छोड़ा था। वहां पहुंचने के बाद उन्होंने बैग खोला तो उसे देखकर वह दंग रह गए, क्योंकि उसमें बहुत सारे पैसे रखे हुए थे।
इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, ऑटो रिक्शा चालक मोहम्मद हबीब ने बताया कि, “चूंकि यात्रियों का पता लगाने के लिए उसमें कोई चीज नहीं था, इसलिए उन्होंने स्थानीय पुलिस स्टेशन से संपर्क करना सबसे अच्छा समझा।” मोहम्मद हबीब अपनी पत्नी, बेटी और बेटे के साथ हसन नगर में रहता है।
कालापत्थर पुलिस स्टेशन में पुलिस अधिकारियों को जब बैग खोला तो उसमें उन्हें 1.4 लाख रुपये मिले। स्टेशन हाउस अधिकारी (SHO) एस सुदर्शन के अनुसार, आयशा नाम की यात्री ऑटो रिक्शा में अपना बैग भूल गई थी और हबीब के पुलिस स्टेशन पहुंचने से पहले उसने इस मामले को लेकर पुलिस से संपर्क किया था।
एसएचओ ने कहा, “यात्री बैग को भूल गए थे और ड्राइवर ने इसे नहीं देखा था। जब उसने बैग देखा तो उसके बाद वह यात्री को खोजने की बहुत कोशिश की, लेकिन जब वह नहीं मिले तो उसके बाद वह लगभग 4 बजे तक हमारे पास आया। बैग खोने वाली महिला भी तब तक पुलिस स्टेशन पहुंच गई थी।” उन्होंने कहा, “इस मामले में उस समय तक कोई शिकायत नहीं लिखी गई थी। दोनों ने एक-दूसरे को पहचान लिया और नकदी से भरा बैग यात्री को सौंप दिया गया।”
ईमानदारी की मिसाल पेश करने वाले हबीब को महिलाओं ने 5,000 रुपये से सम्मानित किया। वहीं, एसएचओ ने हबीब को शाल और माला पहनाकर सम्मानित किया। हबीब ने कहा, “वे अपना पैसा पाकर बहुत खुश थे। उन्होंने मुझे बहुत धन्यवाद दिया।”

मुंबई में मिला दुर्लभ प्रजाति की व्हेल शार्क का शव, मछुआरों के जाल में फंस गई थी


मुंबई में एक शार्क का शव मिलने से राज्य सरकार सकते में है. बुधवार 12 अगस्त को शहर के सैसन डॉक में एक व्हेल शार्क का शव पाया गया, जिसके बाद राज्य सरकार का फिशरीज डिपार्टमेंट और मैंग्रोव सेल हरकत में आ गए. दोनों विभाग मिलकर इस घटना की जांच कर रहे हैं, कि खतरे में पड़ी इस प्रजाति की मछली की मौत कैसे हुई.
वहीं एक रिपोर्ट के मुताबिक, यह शार्क मछुआरों के जाल में फंस गई थी और इस दौरान उसने जाल से बाहर निकलने की कोशिश की लेकिन असफल रही और उसकी मौत हो गई.
बताया जा रहा है कि यह शार्क 8 मीटर लंबी और करीब 2 हजार किलो वजनी है. ये प्रजाति शार्क मछलियों में सबसे लंबी होती हैं और इन्हें एन्डेंजर्ड स्पेशीज यानी विलुप्ति की कगार पर मौजूद प्रजातियों में रखा गया है.
भारत में व्हेल शार्क को वाइल्डलाइफ एक्ट 1972 के तहत संरक्षित प्रजातियों में शामिल किया गया है और इनके शिकार या पकड़ने को गैरकानूनी माना गया है.
व्हेल शार्क का दुनियाभर में काफी शिकार होता रहा है. इनके शिकार के पीछे बड़ा कारण है इनसे मिलने वाला लिवर ऑइल. इसका इस्तेमाल कई तरह की दवाईयों के निर्माण में होता है. खास तौर पर कैंसर के मरीजों के बनाई जाने वाली दवाओं में इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता है.

सड़क किनारे बच्चे ने की जसप्रीत बुमराह जैसी बॉलिंग, क्रिकेटर ने दिया ऐसा रिएक्शन... देखें Video


टीम इंडिया के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह अपने एक्शन और तेजी गेंदबाजी के लिए फेमस हैं. कई नए बॉलर्स के लिए वो प्रेरणा हैं. दुनिया भर के बच्चे जसप्रीत बुमराह की अनूठी गेंदबाजी की नकल करने की कोशिश करते हैं. भारत, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और पाकिस्तान के बच्चे भारत के सुपरस्टार के एक्शन करने से वायरल हुए.
पिछले साल जसप्रीत बुमराह ने अपनी गेंदबाजी शैली की नकल करते हुए एक ऑस्ट्रेलियाई लड़के की एक क्लिप देखने के बाद रिएक्ट किया था. बुधवार को जसप्रीत बुमराह की जैसी गेंदबाजी कर रहे बच्चे का वीडियो सामने आया. जिसको देखकर जसप्रीत बुमराह हैरान रह गए. उन्होंने बच्चे की तारीफ की. वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है.
बच्चे का बॉलिंग एक्शन बुमराह की गेंदबाजी से इतना मिलता-जुलता था कि वो खुद देखकर हैरान रह गए. उनको इंटरनेट पर बच्चे का वीडियो दिखा और रिएक्ट किया. उन्होंने बच्चे को प्रोत्साहन दिया और ट्वीट को रि-ट्वीट किया.
वीडियो में देखा जा सकता है कि बच्चा सड़क किनारे खड़ा है और जसप्रीत बुमराह के एक्शन की कॉपी करते हुए बॉलिंग कर रहा है.यह वीडियो काफी वायरल हो रहा है. जसप्रीत बुमराह ने लिखा, 'बच्चे का भविष्य उज्ज्वल दिखता है. लगे रहो.'इस वीडियो को 11 अगस्त को शेयर किया गया था