Showing posts with label AJab Gajab. Show all posts
Showing posts with label AJab Gajab. Show all posts

Sunday, 9 June 2019

वजन कम करने के लिए ये महिला इन खतरनाक कीड़ों का करती है उपयोग


लंदन की एक औरत का वजन घटाने का तरीका जान आपका माइंड भी चकरा जाने को है. आइये आपको बता देते हैं इसके बारे में ये महिला कैसे अपना वजन कम करती है.

दरसल, लंदन की ये औरत अपना वजन कम करने के लिए जोंकों से घंटों अपना खून चुसवाती हैं. इस महिला का नाम है एलेक्स बोगातिरिवो जो वजन कम करने के लिए ये डरावना तरीका अपनाती है. एलेक्स अपनी पालतू जोंकों को बॉडी पर घंटो तक चिपकाए रहती है. इस प्रकार एलेक्स का यह दावा है कि उसने जोंकों से खून चुसवाकर अपना 57 किलो वजन कम कर लिया है. इतना ही नहीं वह अपने चेहरे पर भी जोंकों को चिपकाए रखती है. एलेक्स का मानना है कि इससे चेहरे की झुर्रियां कम हो जाती है तथा फेस जवानों की तरह नजर आने लगता है.

जहां जोंक आपकी हालत ख़राब कर सकते हैं वहीं ये दिनभर उन्हें अपने से चिपकाये रखती है. केवल यही नहीं एलेक्स इन जोंकों का प्रयोग स्वयं के मुख में भी करती है।

Saturday, 8 June 2019

यहां एक पत्नी के होते हुए पुरुष करता है दो और शादियां


आज हम ऐसी ही जगह के बारे में बताने जा रहे हैं जहां पर पुरुष तीन शादी करते हैं. महाराष्ट्र में मुंबई से 150 किमी. की दूरी पर देंगंमल गाँव है और इसकी जनसँख्या केवल 500 है. इस गाँव के लोग एक प्रथा का पालन करते हैं जिसके बारे में विश्व में किसी को भी पता नहीं है. इसके पीछे भी एक कारण है जिसके बारे में आपको बता दें.
आपको बता दें, ऐसा केवल इसलिए किया जाता है कि प्रत्येक घर को पर्याप्त पानी मिले. पुरुष पहली पत्नी को तलाक नहीं देता न ही पत्नी की मृत्यु हो चुकी होती है. वह घर में उसी प्रकार रहती है जैसे दूसरी और तीसरी पत्नी. यानि सभी पत्नियां एक जैसे ही रहती है जिसमें किसी को कोई दिक्कत नहीं होती. इन शादियों का मुख्य उद्देश्य यह होता है प्रत्येक घर को पर्याप्त पानी मिल सके.
दरअसल, आसपास के कुएं गर्मियों में सूख जाते हैं जिससे लोगों को पानी नहीं मिलता और पानी लाने के लिए उन्हें मीलों चलकर जाना पड़ता है. 15 लीटर पानी लाने के लिए चलकर जाने और आने में उन्हें लगभग 12 घंटे तक का समय लगता है. इससे घर के काम में बाधा आती है. अत: संतुलन बनाये रखने के लिए वे दुबारा शादी करते हैं. घर में जितने अधिक लोग होंगे उतना की अधिक पानी भरा जाएगा. इसे घर के कामों में संतुलन बनाने में मदद होती है


9 सालों से गर्भवती घूम रही ये महिला, वजन जानकर चौंक जायेंगे


एक महिला 9 महीने तक ही गर्भवती रह सकती है. ये सभी जानते हैं और आम तौर पर कुछ दिन ज्यादा होते होंगे लेकिन कोई भी इससे ज्यादा समय तक गर्भवती नहीं रह सकती. लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि कोई औरत गर्भवती दिखे पर हो नहीं. ऐसा ही एक मामला इंग्लैंड में सामने आया है. जहां बेरियल रोमेन नाम की एक औरत पिछले 9 सालों से गर्भवती नजर आती है पर वो प्रेग्नेंट नही है. आइये जानते है इसका क्या मामला है.
दरसल, बेरियल के बेबी बंप को देखकर लोग उनसे प्रेग्नेंसी से रिलेटेड सवाल भी पूछते हैं और उनका जवाब होता है वे प्रेग्नेंट नहीं है. आपको बता दें, बेरियल एक गंभीर बीमारी से पीडि़त हैं. बेरियल के यूटेरस में फाइब्रॉइड होने के कारण उनका पेट एक प्रेग्नेंट वुमेन की तरह 18 इंच फूला रहता है. इसके लिए बेरियले अनेक देशों के डॉक्टर्स से कन्सल्ट कर चुकी हैं लेकिन लाभ नहीं हुआ. अंत में डॉक्टर्स ने उन्हें यूट्रेस निकलवाने की सलाह दी.
इस बारे में बेरियल बताती हैं कि मैने यूट्रस निकलवाने से मना कर दिया, क्योंकि इसके बाद मैं कभी मां नहीं बन सकती थी. बेरियल ने बताया कि 2012 से मैंने मेडिसिन लेनी शुरू कर दी जिससे फाइब्रॉइड सिकुड़ रहा है और आस है कि यह ठीक हो जाएगा. डॉक्टरों के मुताबित महावारी में रक्तस्राव अधिक होना, दर्द होना और बार-बार पेशाब आना इस बीमारी के लक्षण हैं. इस बीमारी के सटीक कारण के बारे में तो नहीं कह सकते लेकिन यह एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रान होर्मोन से जुड़ा है.इस तरह यदि किसी औरत की मां में ये बीमारी होती है तो बटी में भी ये बीमारी होने की संभावना होती है


एक सूअर इस किसान को बना गया मालामाल, मिली ऐसी चीज़


वैसे तो लगभग हर किसी ने सोने के अंडे देने वाली मुर्गी की कहानी पढ़कर हर किसी के मन में ख्वाहिश आती है. एक शख्स के पास ऐसी मुर्गी तो नहीं आई, लेकिन ऐसा सुअर जरूर मिल गया जो उसे करोड़पति बना गया. उसके पास से कुछ ऐसी चीज़ मिली जिससे करोड़पति हो गया.
दरअसल, सुअर के पेट से शख्स को ऐसी चीज मिली जिसकी दुनिया में काफी मांग है और इसकी कीमत भी लाखों-करोड़ों में है. जब वो इसे लेकर शंघाई गया और वहां इसकी कीमत जानी तो हैरान रह गया. शंघाई में उसे मालूम चला कि पत्थर दिखने वाली इस चीज को Bezoar कहते हैं. 4 इंच के Bezoar की कीमत तकरीबन 4 करोड़ रुपये थी. ये सुनकर तो जैसे उसके होश ही उड़ गए.
इसके बारे में आपको बता दें, Bezoar कुछ जानवरों के अंदर मिलने वाली एक चीज है जो बड़े काम आती है. इससे कई तरह की दवाईयां बनती हैं. इतना ही नहीं, इससे जहर से बचने ते इंजेक्शन भी बनते हैं. कहते हैं कि ये तभी काम का होता है जब आंतों में पाया जाए. किसान ने इसकी बोली लगाने का फैसला लिया है. अब सोचिये उस शख्स के पास अब तक कितना पैसा आ गया होगा.


इन सात रंगों वाले पहाड़ों को देखकर नजर नहीं हटा पाएगे आप


बचपन से ही इंद्रधनुष हम सभी की जिज्ञासा का केंद्र रहा है, हम सभी के मन में यही विचार आता है कि आखिर आकाश में ये 7 रंग कहा से आ जाते है। दरअसल, आज हम आपको एक ऐसी जगह के सम्बन्ध में बताने जा रहे है जहां जाकर आप धरती पर ही इंद्रधनुष के सात  रंग देख सकते है।
बता दें कि ये इन्द्र्धनुष पेरू और पश्चिमी चीन की पहाड़ियों में बना हुआ है। पेरू में उपस्थित ये पहाड़ियां 7 रंगो से बनी हुई है जो इंद्रधनुष का एहसास दिलाती है, इनका नाम औसजेते है।
ये सुंदर सतरंगी पहाड़ किसी का भी ध्यान अपनी तरफ आकर्षत कर लेती है। रंगों की वजह से इन पहाड़ियों को इंद्रधनुष पर्वत के नाम से जाना जाता है।
ये पर्वत बिल्कुल इंद्रधनुष जैसे दिखाई देते है। इन पर्वतों को किसी इंसान ने तैयार नहीं किया है, बल्कि इनके 7 रंग तो कुदरत का करिश्मा है।



नौकरी छोड़ ठेला लगाने पर मजबूर हुआ ये शख्स, जानिए वजह...


तमिलनाडु के करूर में फूड एंटरप्रेन्योर बनने हेतु एक इलेक्ट्रॉनिक्स एवं संचार इंजीनियरिंग डिप्लोमा धारक 18 वर्षीय सी. जैसुंदर ने 2 शीर्ष कंपनियों को छोड़ दिया। अब वो बर्मी व्यंजन को बेचने एवं कुछ लोकप्रिय स्नैक्स को तैयार करने हेतु ठेला लगा रहा है।
शख्स के मुताबिक, "यह एक सचेत विकल्प था तथा मुझे अपने कारोबार पर कोई शर्म नहीं है। जो कार्य मैं अब कर रहा हूं, हमारे देश के अनेक शीर्ष नेताओं ने उससे कहीं ज्यादा पुरुषवादी काम किया था एवं वे अपनी मेहनत से शीर्ष पदों पर पहुंच गए हैं।
व्यक्ति पहले चेन्नई में टेलीफोन कंपनी एयरटेल में शामिल हुए। हालांकि, किराया, खाने के व्यय एवं उनकी संवेदनशील प्रकृति ने उन्हें यह नौकरी छोड़ने और कोयंबटूर में अन्य नौकरी ऑटोमोटिव घटक प्रमुख प्राइसोल लिमिटेड में शामिल होने पर मजबूर किया।
वो एक अनुबंध कर्मचारी के रूप में तमिलनाडु न्यूज प्रिंट एंड पेपर्स लिमिटेड में स्थानांतरित हो गए। शख्स के मुताबिक, उसका मित्र मधु, जो एक भोजनालय चलाता था, उसने उन्हें भोजन तैयार करना सिखाया और अब उसने खुद बताया कि वो अपनी माता संग घर पर व्यंजन बनाता है।
सर्वप्रथम उसने ने अपने स्नैक्स करूर के पास में बेचना प्रारम्भ किया, किन्तु उन्हें सामग्री खरीदने हेतु प्रतिदिन करूर आना पड़ता था। उन्होंने बताया, "तत्पश्चात मेरे दोस्त गोली ने मुझे करूर में अपनी जूस के स्टाल के नजदीक ठेला लगाने की इजाजत दे दी। 


किन्नर के प्यार में पागल हुआ युवक, फिर हुआ कुछ ऐसा...


उत्तरप्रदेश के जालौन जिले में विवाह का एक अनोखा मामला समक्ष आया है। उत्तरप्रदेश के युवक ने मध्यप्रदेश के भिंड जिले में वहीं की रहने वाली एक किन्नर से शादी रचा ली।

बीते 2 साल से चल रहे इस प्रेम संबंध को लेकर युवक के परिवारवाले दोनों के विवाह हेतु तैयार नहीं थे। इसी को देखते हुए दोनों ने भिंड जिले की एक कोर्ट में विधिवत विवाह रचा लिया। दोनों ने इसके पूर्व मेहगांव के एक मंदिर में 7 फेरे भी लिए।

खबरों के अनुसार, उत्तरप्रदेश के जालौन जिले के कुठोंद थाने के हदरूक ग्राम में जीवन बिताने वाले गोविंद सिंह सेंगर 2  वर्ष पूर्व रिश्तेदार के यहां शादी समारोह में अनुष्का किन्नर से मिलकर उसे बहुत चाहने लगा।

अनुष्का कानपुर देहात में जीवन गुजारती है। इस दौरान गोविन्द के इस प्यार के बारे में उसके परिवारवालों को पता चल गया। परिजन इस विवाह हेतु नहीं माने।

किन्तु वो दोनों एक साथ जीवन बिताना चाहते थे, इसलिए उन्होंने अपने भिंड जिले के अमायन के रहने वाले एक परिवार से संपर्क किया। इसी के पश्चात दोनों ने मेहगांव में विधिवत विवाह रचा लिया।

इन अनाथ बेज़ुबानों को ये गाय पिलाती है अपना दूध


सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेज़ी से वायरल हो रहा है, जिसमें एक गाय को कुत्ते के छोटे-छोटे बच्चों को दूध पिलाते देखा जा सकता है। बताया जा रहा है इन पिल्लों की मां एक गाड़ी की चपेट में आने से मर गई थी और ये मासूम पिल्ले भूख से तड़प रहे थे। तभी इस गाय ने अपना दूध इन पिल्लों को पिलाया। ये गाय कुत्ते के चार बच्चों की मां बनकर उनकी भूख मिटाती दिख रही है और उन्हें अपना दूध पिला रही है।
ये भावुक कर देने वाला वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो रहा है। इसे लोग जमकर शेयर कर रहे हैं। ये ईश्वरीय वरदान ही है कुत्ते के बच्चों की परवरिश गाय कर रही है। लोगों को ये किसी चमत्कार से कम नहीं लग रहा है।
इस अजीब घटना से सहयोगी और समावेशी होने की हमें सीख मिलती है। ऐसे वाकये हमें इंसानियत के पाठ पढ़ा जाते हैं। इस वीडियो को  देखकर आपके चेहरे पर भी एक भीनी सी मुस्कान आ जाएगी। यहां देखें वीडियो:
ये वीडियो यूपी का बताया जा रहा है, हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हुई है। लोग इस वीडियो को खूब पसंद कर रहे हैं।


भारतीय रेल ने अपने जुगाड़ से पटरी पर ट्रक को दौड़ा दिया, वीडियो वायरल


 एक वीडियो सोशल मीडिया पर इन दिनों तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें भारतीय रेल का एक अनोखा जुगाड़ू कारनामा देखने को मिल रहा है। इस जुगाड़ को देख आप भी हैरत में पड़ जाएंगे। 
आपने रेल की पटरी पर इंजन और रेलगाड़ी चलते हुए तो कई बार देखी होगी। लेकिन क्या कभी आपने रेल ट्रैक पर कोई ट्रक चलते हुए देखा है, नही ना, लेकिन हाल ही में सोशल मीडिया पर एक ऐसा ही वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें रेल की पटरी पर ट्रक चल रहा है। ये देखने में जितना दिलचस्प है उनता ही काबिले-तारीफ भी। वीडियों को लाखों बार फेसबुक पर देखा जा चुका है।
भारतीय रेलवे ने अपनी टैक्नोलॉजी के जरिए रेल ट्रैक पर ट्रक चलाया है जो पटरी पर बिजली और अन्य विकास से संबंधित कार्य करता है। इस टावर वैगन का आविष्कार जल्दी काम खत्म करने के लिए किया गया है। रेलवे ने अपने काम को आसान बनाने के लिए ये जुगाड़ यंत्र बनाया है। 
जानकारों की माने तो ये ट्रक की शक्ल में एक तरह की रेल ट्रैक ट्रॉली है। रेलवेकर्मी इसकी सहायता से बिजली के तार लगाने का काम करते है। ये ट्रक रेल की पटरी पर तेजी से दौड़ता है। जिससे काम तेजी से पूरा हो रहा है। हालाकिं इसकी जरुरतों को देखते हुए इनकी संख्या पहले से बढ़ा दी गई है।
रेलवे ट्रक की खासियत की बात करे तो इसे सड़को पर भी चलाया जा सकता है साथ ही इसकी पार्किग में भी आसानी से हो जाती है।
वही मोदी सरकार जल्द ही रेलवे ट्रैक का काम खत्म करने के लिए इनकी संख्या में वृद्धि करने पर विचार विमर्श कर रही है।  साथ ही इस अनोखे ट्रक को रेलवे लाइन के रखरखाव के काम में भी प्रयोग लाने की सोच रही है।


Friday, 7 June 2019

भूतिया बन चुका है ये अस्पताल, पास से भी नहीं गुज़रते लोग


आज हम ऐसी एक जगह के बार में बताने जा रहे हैं. आपको बता दें, अमेरिका के न्यूटन में बना हुआ एक हॉस्पिटल पिछले बीस सालों से बंद है. लोगों का कहना है कि इस वीरान हॉस्पिटल के कॉरिडोर में एक लड़की घूमती नजर आती है. इस हॉस्पिटल का नाम फेयरफील्ड हिल्स स्टेट है. यहां व्हाइट गाउन में एक लड़की घूमती दिखाई देती है. आइये जानते हैं आगे मामला.
बताया जाता है कभी ये अस्पताल मानसिक रूप से बीमार लोगों के इलाज के लिए जाना जाता था. अक्सर ऐसी घटनाएं ऐसे अस्पतालों में ही होती हैं. लेकिन बाहर से इस हॉस्पिटल को देखकर इस बात का अंदाजा लगाना मुश्किल है कि अंदर भूतों का बसेरा होगा. समय के साथ अस्पताल में रखे सामान धीरे-धीरे खराब होने लगे हैं. यहां की छत जगह-जगह से खराब हो गई है. वहीं, खिड़की-दरवाजों पर की गई पेंटिंग का रंग उड़ गया है. यानि ये पूरा एक भूतिया अस्पताल बन चुका है.
फेयरफील्ड अमेरिका का ऐसा वीरान हॉस्पिटल है जहां लोगों ने एक लड़की को भटकते हुए देखा है. लोगों को विश्वास है कि यहां भूत रहते हैं. इस अस्पताल के फोटोज 27 वर्षीय ड्रयू थॉमस ने खींचे थे।

मस्जिद के बाहर लड़कियों का डांस, हो गई बैन


सोशल मीडिया पर कई तरह के वीडियो सामने आते रहते हैं और उनमे कई तो ऐसे होते हैं जिन्हें देखकर लोग कुछ भी करने लगते हैं यानि उन्हें वो बेहद ही पसंद आता है और कुछ वीडियो को लोग बैन कर देते हैं. इस वक्त मलेशिया की एक मस्जिद के बाहर ‘सेक्सी डांस’ करती हुई दो लड़कियों का वीडियो काफी वायरल हो रहा है. वीडियो में दिख रहा है कि दो लड़कियां मस्जिद के बाहर बनी बाउंड्री वॉल पर चढ़कर डांस कर रही हैं और वहां मौजूद कुछ लोग उनका वीडियो बना रहे हैं. वीडियो तो वायरल हो गया है लेकिन इसे पर बन भी लगा दिया गया है.

बता दें, वीडियो में दिखने वाली मस्जिद मलेशिया के साबाह राज्य की राजधानी कोटा किनाबालू में स्थित है और यहां हर साल लाखों की संख्या में पर्यटक आते हैं. इसमें रिपोर्ट्स के मुताबिक डांस करने वाली दोनों लड़कियां भी पर्यटक ही हैं. वीडियो वायरल होने के बाद लोकल मुस्लिम समूह के अंदर काफी गुस्सा है. फिलहाल मस्जिद की तरफ से वहां पर्यटकों के आने पर बैन लगा दिया गया है।

Thursday, 6 June 2019

यहां पैदा हुआ दुनिया का सबसे अनोखा बच्चा, जानकर रह जाएंगे दंग


आज हम आपको एक ऐसे बच्चे के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। दरअसल, जापान में पैदा हुआ विश्व का सबसे कम वजनी बच्चा अब बाहरी दुनिया में आने हेतु तैयार है।
जानकारी के मुताबिक, जब ये बच्चा पैदा हुआ था तब उसका वजन मात्र 258 ग्राम था। उसने बीते वर्ष पैदा हुए जापान के एक दूसरे लड़के का रिकॉर्ड भी तोड़ डाला जिसका वजन सिर्फ  268 ग्राम था।
बता दें कि बच्चे को इस सप्ताहांत मध्य जापान में नगानो चिल्ड्रेंस अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी। तोशिको ने गर्भधारण के पश्चात उच्च रक्तचाप की परेशानी  के चलते 24 सप्ताह और पांच दिन के पश्चात रयुसुके सेकिये को जन्म दे दिया था।
जब बच्चा पैदा हुआ तब उसकी लंबाई 22 सेंटीमीटर थी और चिकित्सकों ने उसे अति गहन चिकित्सा कक्ष में रखा था। उन्होंने उसे दूध पिलाने हेतु ट्यूब की मदद ली। वे कभी-कभी मां का दूध पिलाने हेतु रुई का उपयोग भी करते थे।
लगभग 7 महीने बाद बच्चे का वजन 13 गुना बढ़ गया एवं अब वो 3 किलोग्राम का है। बच्चे की माता ने मीडिया को बताया कि, जब वो पैदा हुआ तो वह बहुत छोटा-सा था और ऐसा लगता था कि यदि उसे स्पर्श करेंगे तो वह टूट जाएगा। मैं इससे काफी चिंतित थी।


इस शख्स ने पेश की मानवता की मिसाल, खुद को खतरे में डालकर बचाई सांप की जान


आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। दरअसल, शनिवार को इंदौर के झलारिया ग्राम के बिरला स्कूल में लोगों ने एक सांप को देखा।
डरे हुए कर्मचारियों ने भय की कारण सांप पर कीटनाशक फेंक दिया। जिसके असर से सांप अचेत हो गया एवं वहीं सुस्त पड़ गया। बाद में ग्रामीणों को मालुम हुआ कि जिस सांप पर उन्होंने कीटनाशक डाला है वो विषैला नहीं है।
इसके संग ही वो घोड़ा पछाड़ मूल का था जो करीबन 100 की गति से रेंग सकता है तथा इसमें जहर नहीं पाया जाता है। सांप के अचेत होने के पश्चात वहां के लोगों को सोशल मीडिया की मदद मालुम हुआ कि आयकर विभाग के अफसर शेर सिंह गिन्नारे सांप पकड़ने में काफी माहिर हैं।
ग्रामीणों ने शीघ्र उनसे संपर्क किया तत्पश्चात वो स्कूल पहुंचे। उन्होंने स्कूल पहुंचकर तुरंत सांप का उपचार शुरू किया। उन्होंने स्ट्रॉ की सहायता से खुद के मुंह में पानी रखकर स्ट्रॉ के अन्य सिरे से सांप के मुख में पानी छोड़ा एवं धीरे-धीरे दबाव बनाने लगे। दबाव में सांप ने उल्टियां कर दी, जिससे विषैला कीटनाशक बाहर निकल गया एवं सांप मौत के मुंह में जाने से बच गया।


क्या आपने कभी देखे हैं इस तरह के ड्रैगन मुर्गे


ड्रैगन मुर्गों के बारे में आपने शायद आज से पहले नहीं सुना होगा. लेकिन बात करें मुर्गों की तो आपने इनके बारे तो सुना ही होगा और देखे भी होंगे. ये मुर्गे आपके लिए आम बात हैं. लेकिन जिसके बारे में हम बताने जा रहे हैं वो आम से बढ़कर हैं. आपको बता दें, ये खास ब्रिड के मुर्गे सच में ड्रैगन जैसे नजर आते हैं. ऐसा इनकी टांगों की वजह से होता है जो जरूरत से ज्यादा मोटी होती हैं, इतने कि आपको यकीन नहीं होगा. आइये पको भी बता देते हैं इन मुर्गों के बारे में.

दरअसल, मुर्गे की ‘डॉन्ग टाओ’ नाम की ये ब्रीड वियतनाम में मिलती है.‘डॉन्ग टाओ’ नस्ल के पैर इतने मोटे होते होते हैं कि आपको ऐसे पैर किसी अन्य पक्षी के नहीं देखने को मिलेंगे. मुर्गों की यह नस्ल वियतनाम के हनोई से 30 किलोमीटर दूर खोआय चाउ जिले में पाई जाती है. इस ब्रीड की खासियत ये होती है कि ये मुर्गी हो या मुर्गा, सबका वजन 6 किलो होता है.

आज से पहले इस तरह के मुर्गे आपने भी नहीं देखे होंगे. इस वियतनामी चिकन कर ब्रीड की टांगे किसी भी आम इंसान की कलाई से भी मोटी बताई जाती है।

इस कंपनी में लगी कर्मचारियो की लॉटरी, झोला भर-भर कर ले गये कैश


चीन की एक स्टील कंपनी ने अपने कर्मचारियों के बीच 163 करोड़ रुपए बोनस के तौर पर बांट दिए, लेकिन हैरानी की बात ये है कि कंपनी ने ये बोनस कैश में बांटे, यानी 163 करोड़ रुपए कंपनी ने कैश के रुप में अपने कर्मचारियों को दिए. इसके बाद हर कर्मचारी खुश दिखाई दिया जिससे ये स्वाभाविक है. इस कंपनी ने 7 सालों में अपने कर्मचारियों को 1630 करोड़ रुपए बोनस के तौर पर बांट चुकी है. इस साल भी कंपनी ने अपने 5000 कर्मचारियों को 163 करोड़ रुपए बांटे हैं.

फंगदा की सेल्स से सालाना आय 82000 करोड़ रुपए है. जिसकी वजह से कंपनी ने अपने कर्मचारियों को बंपर बोनस बांटे हैं. कंपनी ने अपने हर कर्मचारी को करीब 3.50 लाख रुपए कैश के तौर पर दिया. कंपनी ने केवल अपने कर्मचारियों को बल्कि अपने रिटायर हो चुके वर्कर्स को भी बोनस दिया है. इस बोनस की रकम का वजन करीब 2 टन से भी ज्यादा था.

मामा करते थे बच्ची की रेप,मां कहती थी किसी को बताना मत,वरना…


आधुनिक जमाने मे लोगों की मानसिकता का स्तर लगातार गिरता जा रहा है. जिसके चलते रिश्तों की डोर कमजोर होती जा रही है। आए दिन हमारे सामने ऐसी खबरे आती रहती है जो मानवता का शर्मसार करने वाली होती है। अगर आज के जमाने की बात करे तो रिश्तों मे विश्वास जैसी कोई चीज ही नहीं रह है. लोग आए दिन रिश्तों का कत्ल करते नजर आ रहे है।आज हम आपको एक ऐसा ही रिश्तों को शर्मसार कर देने वाला मामला बताने जा रहे है जिसके बारे में जानकर आपको हैरानी होगी।सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ये मामला  गाजियाबाद से सामने आया है।यहां पर मोदीनगर थाने में पहुंची 10 साल की बच्ची ने अपने मामा पर आरोप लगाया है कि वो उसका रेप करता था। जब इस बात का उसने विरोध किया तो उसके साथ बेरहमी से मारपीट की गई। बच्ची के शरीर पर लगे चोटो के निशान देखकर थाना प्रभारी हैरान रह गए।उसके बाद उन्होंने तुरंत बच्ची के पिता को थाने बुलाया और अपनी बेटी की व्यथा सुनकर पिता के भी पैरों तले जैसे जमीन ही न रही. वहीं इस मामले में उसके बाद पिता ने आरोपी के खिलाफ शिकायत देकर नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई। इस मामले में थाना प्रभारी संजीव कुमार शर्मा ने बताया कि केस दर्ज कर बच्ची का मेडिकल कराने के बाद पिता को सौंप दिया गया है। वहीं आगे पुलिस आरोपी मां को पकड़े के लिए जुटी हुई है। बताया जा रहा है कि ये ऐसा पहला ही मामला नहीं है इससे पहले भी ऐसे कई मामले सामे आ चुके है। फिलहाल इस मामली की पुलिस जांच कर रही है।.


जब औरत ने किसी बच्चे को नहीं, छिपकली को किया पैदा!


आज हम आपको एक ऐसी खबर के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। खबरों के मुताबिक, 'इंडोनेशिया' के ओइन्यून्टो में जीवन बिताने वाली डेबी नाम की एक औरत पूरे 8 महीने की प्रेग्नेंसी के पश्चात अकस्मात हुए लेबर पेन के पश्चात जब उसने अपनी कोख में पल रहे बच्चे को पैदा किया तो काफी अचरज करने वाला दृश्य दिखाई दिया।

बता दें कि औरत ने इंसान के बच्चे की जगह पर एक छिपकली के बच्चे को पैदा किया। इस खबर को सुनने के पश्चात वहां के उपस्थित लोगों के बीच काफी खलबली सी मच गई। जब ये खबर ग्राम के बाहर पहुंची तो जांच हेतु एक टीम को वहां भेजा गया।

वहां पर उपस्थित एक औरत डेबी ने जांच दल के लोगों को कहा कि 8 महीने पूरे हो जाने के पश्चात इस महिला ने अस्पताल दूर होने की वजह से एक अनुभवी दाई जोसफाइन वाडु को डिलीवरी हेतु अपने घर बुला लिया था।

दाई के वहां पहुंचने के पश्चात जब डीलेवरी हुई तो इस औरत के पेट से खून एवं सफेद पदार्थ निकला और इसके संग ही एक छिपकली के बच्चा भी बाहर निकलकर आ गया।

जिससे भयभीत होकर हो शीघ्र समझ गई कि यह मामला कुछ अजीब है, उसनें शीघ्र जाकर ग्राम के स्वास्थ्य केंद्र को इस घटना के  संबंध में अवगत कराया।

Wednesday, 5 June 2019

जब औरत ने किसी बच्चे को नहीं, छिपकली को किया पैदा!


आज हम आपको एक ऐसी खबर के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। खबरों के मुताबिक, 'इंडोनेशिया' के ओइन्यून्टो में जीवन बिताने वाली डेबी नाम की एक औरत पूरे 8 महीने की प्रेग्नेंसी के पश्चात अकस्मात हुए लेबर पेन के पश्चात जब उसने अपनी कोख में पल रहे बच्चे को पैदा किया तो काफी अचरज करने वाला दृश्य दिखाई दिया।
बता दें कि औरत ने इंसान के बच्चे की जगह पर एक छिपकली के बच्चे को पैदा किया। इस खबर को सुनने के पश्चात वहां के उपस्थित लोगों के बीच काफी खलबली सी मच गई। जब ये खबर ग्राम के बाहर पहुंची तो जांच हेतु एक टीम को वहां भेजा गया।
वहां पर उपस्थित एक औरत डेबी ने जांच दल के लोगों को कहा कि 8 महीने पूरे हो जाने के पश्चात इस महिला ने अस्पताल दूर होने की वजह से एक अनुभवी दाई जोसफाइन वाडु को डिलीवरी हेतु अपने घर बुला लिया था।
दाई के वहां पहुंचने के पश्चात जब डीलेवरी हुई तो इस औरत के पेट से खून एवं सफेद पदार्थ निकला और इसके संग ही एक छिपकली के बच्चा भी बाहर निकलकर आ गया।
जिससे भयभीत होकर हो शीघ्र समझ गई कि यह मामला कुछ अजीब है, उसनें शीघ्र जाकर ग्राम के स्वास्थ्य केंद्र को इस घटना के  संबंध में अवगत कराया।


सोशल मीडिया पर काफी चर्चा में हैं इस अंडे का फंडा


आज हम भी आपको एक ऐसी ही जानकारी देने जा रहे हैं, जिसने इन दिनों सोशल मीडिया पर हलचल मचाई हुई है. दरअसल ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड शहर में एक एग फार्मर को एक अंडा मिला. अब अंडे से क्या चमत्कार हो सकता है इसके बारे में आपको बताने जा रहे हैं.
ऐसा अगर आप सुनेंगे तो यही कहेंगे कि इसमें कौनसी बड़ी बात है, लेकिन आगे की बात चौंकाने वाली है. लेकिन आपको बता दें कि यह अंडा सामान्य आकार के अंडे से तीन गुना बड़ा और भारी है. इसका वजन 176 ग्राम है, जबकि आम तौर पर यह 58 ग्राम तक होता है. इसके अलावा इसे फोडऩे पर इसके अंदर से एक और अंडा निकला. यानि ये काफी कम पाए जाते होंगे या फिर नहीं पाए जाते होंगे.
स्टॉकमैंस एग्स के मालिक स्कॉट स्टॉकमैन ने स्टाफकर्मियों को बुलाकर उनके सामने यह अंडा तोड़ा तो हर कोई हैरान रह गया. स्कॉटमैन ने कहा कि जब हमने अंडे को फोड़ा तो हमें लग रहा था कि अंदर से 4 जर्दी निकलेंगी. उल्लेखनीय है कि स्टॉकमैन वर्ष 1923 से फार्म चला रहे हैं, लेकिन उन्होंने पहली बार ऐसा अंडा देखा है. इस फार्म में मुर्गियां रोजाना औसतन 50 हजार अंडे देती हैं.


इस मंदिर में सोने से महिलाओं के साथ होता है ये चमत्कार


हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के सिमस गांव में माता सिमसा मंदिर दूर दूर तक प्रसिद्ध है. जहां मंदिर के फर्श पर सोने से नि:संतान महिलाओं की गोद भर जाती है. कहते हैं कि खुद देवी मां उनको सपनों में आकर संतान होने का आशीर्वाद देती है. इसलिए दूर-दूर से हजारों नि: संतान महिलाएं इस खास फर्श पर सोने के लिए मंदिर में आती हैं. यहां के लोगों का भी यही मानना है कि यहां पर सिर्फ सोने से ही वो गर्भवती हो जाती हैं.
बता दें, ये मंदिर संतानदेही और संतानदात्री के नाम से भी प्रसिद्ध है. यहां सलिन्दरा उत्सव नवरात्र मनाते हैं. जिसका अर्थ है सपने आना. इस दौरान महिलाएं दिन रात मंदिर के फर्श पर सोती हैं. कहते हैं कि ऐसा करने से वो जल्द प्रेग्नेंट हो जाती हैं. दावा किया जाता है कि देवी मां सपने में महिला को फल देती हैं तो उस महिला को संतान का आशीर्वाद मिल जाता है