Showing posts with label Fashion. Show all posts
Showing posts with label Fashion. Show all posts

Friday, 14 June 2019

अपने काले रंग के कारण ही फेमस है ये लड़की, लाखों हैं फॉलोवर्स


दुनिया में कई तरह के लोग होते हैं और अपने अलग अलग कामों के लिए जाने जाते हैं. वैसे ही लोगों के अलग अलग रंग रूप भी होते हैं जिसके कारण कई वो पहचाने जाते हैं. वैसे तो आज तक आपने कई हसीन, ग्लैमर्स और सुंदर मॉडल और एक्ट्रेस के देखा होगा, जिनक रूप निखरा हुआ होता है और बेहद ही खूबसूरत दिखाई देती हैं. लेकिन आज हम आपको एक ऐसी महिला के बारे में बताने जा रहें हैं जो दुनिया की बेहद काली महिला हैं और बता दें ये कोई आम महिला नहीं हैं इसकी सच्चाई जान कर हैरान रह जाएंगे आप.
दरअसल फ्रांस की रहने वाली ये महिला एक मॉडल के साथ एक एक्ट्रेस भी हैं. इसका नाम खोदिया डियोप हैं. इस महिला को डार्क मॉडल के नाम से जाना जाता हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि इसका रंग काफी डार्क है. इलके अलावा इस मॉडल के चारकोल ब्लैक, डार्की, डॉक्टर ऑफ़ नाइट, मदर ऑफ़ स्टार्स जैसे कई निक नेम हैं. यह मॉडल अपने रंग के लिए पूरे देश भर में फेमस हैं. इसी के चलते उन्हें ये नाम दिए गए हैं. लेकिन फिर भी ये अपनी खूबसूरती से फेमस हैं.
बता दें खोदिया के 105 हजार से भी ज्यादा फॉलोअर्स हैं और इसकी एक मुस्कुराहट ही लोगो के दिलों में घर कर जाती हैं. इसकी अदाएं भी इतनी कातिलाना हैं कि लोग इसके दीवानें बन जाते हैं. इन्हीं सब को देखते हुए इसने मॉडलिंग और एक्टिंग की दुनिया में कदम रखा. खोदिया ने मॉडलिंग की दुनिया में काफी तरक्की की और इनको विश्व की सबसे खूबसूरत मिस वर्ल्ड ब्लैक ब्यूटी गर्ल का अवार्ड मिला और अब ये दुनिया के लिए एक नई मिसाल हैं. खोदियो को अपने इस लुक के लिए एक नयी पहचान मिली और अपने इंस्टा अकाउंट पर ना केवल पहचान मिली बल्कि गोरेपन को सुंदरता से मिथक टूट रहा हैं.


Monday, 3 June 2019

जाने क्या है राज क्यों पहनना पसंद करती हैं लड़कियां टाइट जीन्स


आज के समय में लड़कियों को टाइट जीन्स पहनना काफी अच्छा लगता हैं और इसमें वह काफी खूबसूरत भी दिखती हैं। आज की हर लड़की अपनेे आप को खूबसूरत बनाने और दिखाने के लिए कुछ भी कर सकती हैं मगर क्या आप जातने है कि आखिर लड़कियां टाइट जींस क्यों पहनती है। अक्सर लड़कियों को देखा गया है कि वो टाइट जीन्स ही पहनती हैं। लेकिन ऐसा क्यों है। इसके बारे में हम आपको बता देते हैं। आज हम आपको इसके बारे में बताने जा रहे है जिसको जानकर आप भी चौंक जाएंगे।
फैशन के अनुसार खुद को बदलते रहना यह लोगों का आम नेचर है। फिल्मों में या फिर टीवी सीरियल में जब लड़कियां हीरोइनों को टाइट जींस पहने देखती हैं तो उनका लुक उन्हें बड़ा ही बोल्ड लगता है। अपने आप को भी बोल्ड और सुंदर दिखाने के लिए लड़कियां टाइट जींस पहनने का चुनाव करते हैं।
लड़किया मोटी न दिखे इस वजह से प्लाजो या फिर सलवार सूट नहीं पहन कर फिट जीन्स पहना करती हैं। उस मोटापा को कम दिखाने के लिये वो इस प्रकार के जींस का उपयोग करती है। ताकि वह हर जगह आसानी से रह सके और सामान्य दिखाई दे सकें। जिसके कारण वो टाइट कपड़ें पहनती है।
महिलाओं के जींस इस प्रकार टाइट पहनने का सबसे बड़ा कारण यह है कि वह खुद को स्लिम और हॉट दिखाना चाहती हैं। जिसके कारण वो इस प्रकार के टाइट कपड़े पहनती है।
ये भी पता चला कि लड़किया टाइट जीन्स इस वजह से पहनती हैं क्योकि टाइट जीन्स में पीरियड्स के दौरान पैड लगाने में काफी आसानी होती हैं ।इससे पैड हिलता भी नहीं और पेड़ एक ही जगह स्थिर रहता हैं जिससे काफी आराम मिलता हैं ।


Tuesday, 14 May 2019

जिस लड़की के पैदा होने पर पूरे परिवार को हुआ अफसोस, आज बॉलीवुड में उसका गजब जलवा


हिन्दुस्तान में आज भी कई ऐसे परिवार हैं जो अपने घर में बेटी पैदा होने की ख़ुशी नहीं मनाते हैं. इससे बुरा क्या हो सकता हैं की कई लोग हमारे समाज में ऐसे भी हैं जो बेटियों के पैदा होने से पहले ही उसे माँ की कोख में ही मार देते हैं. ऐसे लोग इस बात से अनजान होते हैं की सब अपनी किस्मत ईश्वर से लिखवा कर लाते हैं. आज हम आपको बॉलीवुड की एक ऐसी ही अभिनेत्री के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें उनके पिता माँ की गोद में ही मार देना चाहते थे लेकिन आज वो मेहनत और लगन के दम पर अपना अलग मुकाम बना चुकी हैं.



आपको बता दें की आज हम जिस मशहूर एक्ट्रेस की बात कर रहे हैं वो कमांडो फेम पूजा चोपड़ा है. जी हाँ बॉलीवुड में एक लीड एक्ट्रेस के तौर पर पूजा ने अपने करियर की शुरुवात विद्युत् जम्बाल के साथ फिल्म 'कमांडो' से की थी. आज पूजा चोपड़ा बॉलीवुड सहित पुरे देश में एक जाना पहचाना नाम है. एक इंटरव्यू के दौरान पूजा ने खुद बताया था की जब वो अपनी माँ की पेट में थी और उनके पिता को मालूम चला था की उनके घर बेटी पैदा होने वाली है तो उन्होनें ने साफ़ बोल दिया था की उन्हें बेटी नहीं चहिये. पूज एके पिता ने उनकी माँ पर काफी दवाब भी बनाया था की वो बच्चा गिरा दें लेकिन उनकी माँ ने ये बात नहीं मानी और लाख विरोध के वाबजूद भी उन्होनें पूजा को जन्म दिया . पूजा के जन्म के बाद उनके पिता ने उनकी माँ को घर से निकाल दिया था और उन्हें देखने तक हॉस्पिटल भी नहीं गए थे.



पूजा ने बताया की इसके बाद तब से लेकर आजतक उनकी माँ ने ही पूजा और उनकी बहन की के देखभाल की है. पिता द्वारा घर से निकाले जाने के बाद पूजा की माँ अपनी दोनों बेटियों के साथ अपने मायके मुंबई आगयी थी. पूजा चोपड़ा ने बताया की उनकी माँ ने उन्हें और उनकी बहन को दुनिया का सामना करने की हिम्मत दी है और इसलिए उन्होनें जाना है की लडकियां किसी से कम नहीं होती है.

3 मई 1986 को कोल्कता में पैदा हुई पूजा ने 2009 में मिस इंडिया वर्ल्ड का खिताब भी अपने नाम किया था और 2011 में उन्होनें मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में भी भाग लिया था जिसमे वो सेमिफिनल तक पहुंची थी. पूजा अपनी सफलता का सारा क्रेडिट अपनी माँ को देती है.

Sunday, 17 March 2019

मुठ्ठीभर होली की राख से ये उपाय करने से जीवन से दूर हो जाती है सारी नकारात्मक शक्तियाँ


होली का त्योहार इस साल 20 और 21 मार्च को है। ऐसा माना जाता है कि होली का त्योहार जीवन में खुशियां और शांति लाता है। रंगों वाली होली से एक दिन पहले होलिका दहन होता है जो इस बार 20 मार्च को है और 21 मार्च को रंगों वाली होली है। वैसे तो रंगों का त्योहार होली पूरे विश्व में किसी भी तरह से मनाई जाती है लेकिन होलिका दहन सिर्फ भारत में ही होता है। बुराई पर अच्छाई की जीत के लिए होलिका दहन का माना जाता है।



रंगों वाली होली केएक दिन पहले होलिका दहन मनाई जाती है और यह फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है। होलिका दहन के अगले दिन रंगों से खेलने की परंपरा होती है जिसे हम धुलेंदी भी कहते हैं। वैसे रंगों वाली होली को धुलंडी नाम से भी जाना जाता है।



भस्म सारी नकारात्मक शक्तियां दूर करता है
होली की पूजा होलिका दहन वाले दिन करते हैं और जब होलिका दहन हो जाता है तो वहां से लोग जलती हुई भस्म अपने घर ले जाते हैं और उस भस्म को अपने पूरे घर में घुमाते हैं। होलिका दहन की भस्म को घर की सारी नकारात्मक शक्तियों को दूर करने के लिए घुमाते हैं।



उसके बाद जब यह भस्म ठंडी हो जाती है तो इसे अपने माथे पर लगा लिया जाता है। शास्त्रों में ऐसा कहा गया है कि भस्म को माथे पर लगाने से व्यक्ति की बुद्धि तेज होती है। इस भस्म में शरीर के दूषित द्वव्य सोखने की बहुत क्षमता होती है। इतना ही नहीं इस भस्म को शरीर पर लगाने से कई तरह के चर्म रोग में दूर हो जाते हैं।



इस भस्म को कुछ लोग तो तांबे या चांदी की ताबीज में डालकर काले धागे के अंदर इसे बांधकर अपने गले में पहनते हैं। ऐसी मान्यता है कि इस भस्म को पहने से व्यक्ति की तरह की नकारात्मक शक्तियों से दूर रहता है और छुटकारा भी पाता है। इसके अलावा अगर यह ताबीज बच्चे अपने गले में पहनते हैं तो उन्हें नजर नहीं लगती है। इसके साथ व्यक्ति पर कई सारी तांत्रिक क्रियाओं का बिल्कुल भी प्रभाव नहीं होता है।

होलिका दहन की पूजा के दौरान इन बातों का जरूर रखें ध्यान-
1. जब आप पूजा कर रहे हैं तो आप पूर्व या उत्तर की तरफ मुंह करके बैठे और होलिका पूजा करने के लिए गोबर से बनी हुई होलिका और प्रह्लाद की प्रतीकात्मक प्रतिमाएं जरूर रखें। इस पूजा में बाकी सामग्री के तौर पर फूलों की माला, मौसमी फल, रोली, गंध, पुष्प, कच्चा सूत, गुड़, साबुत हल्दी, मूंग, बताशे, गुलाल, नारियल, पांच या सात प्रकार के अनाज, नई गेहूं की बालियां और एक लोटा जल यह सब रखें। इसके अलावा जो पकवान आपने होली के लिए बनाए हैं उसे भी पूजा में रखें और उन्हें चढ़ाएं।



2. सारी सामग्री चढ़ाने के बाद आप होलिका केचारों तरफ सात बार परिक्रमा करें फिर जब अग्जि प्रज्जवलित हो जाए तो उसमें जो आप नई गेहूं की बालियां और बाकी फसलों की बालियां लाए हैं उन्हें अर्पित करें फिर जल से अघ्र्य दें।



3. होलिका दहन के लिए सबसे ज्यादा याद रखने वाली बात यह है कि सूर्यास्त के बाद प्रदोष काल में होलिका में अग्नि प्रज्जवलित की जाती है उसके बाद डंडे को बाहर निकाल दिया जाता है। उसके बाद होलिका दहन के दौरान वहां पर मौजूद सारे लोगों काो तिलक लगाएं और फिर प्रसाद दें।





4. उसके बाद होलिका दहन की राख को आप अपने घर ले जाएं और घर के हर दरवाजे पर इसे छिड़कें इससे आपके घर में कभी भी दरिद्रता नहीं आती है और संपन्नता बनी रहती है।

Saturday, 12 January 2019

मांग में कमी आने से सोने और चांदी में बड़ी गिरावट, ये रहा आज का भाव


मांग में गिरावट आने के कारण शनिवार को सोने के भाव में दिल्ली सर्राफा बाजार में बड़ी गिरावट दर्ज की गई. इसी के साथ सोना 33,000 रुपये के स्तर से नीचे चला गया. पीली धातु 155 रुपये कम होकर 32,875 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर पहुंच गया. इसकी अहम कारण यह रहा कि मौजुदा स्तर पर स्थानीय जौहरियों की मांग घटना और वैश्विक संकेतों का कमजोर होना है. औद्योगिक इकाइयों और सिक्का ढलावों का उठाव घटने से चांदी भाव में भी 600 रुपये की गिरावट रही. यह 39,850 रुपये प्रति किलोग्राम रहा.

सर्राफा कारोबारियों के अनुसार कमजोर वैश्विक संकेतों के अलावा हाजिर बाजार में स्थानीय जौहरियों और खुदरा व्यवसायियों की कमजोर मांग से सोना भाव कमजोर हुआ है. दिल्ली सर्राफा बाजार में 99.9 और 99.5 प्रतिशत शुद्धता वाले सोने का भाव 155-155 रुपये घटकर क्रमश: 32,875 और 32,725 रुपये प्रति 10 ग्राम रहा. शुक्रवार को सोना भाव 40 रुपये टूटा था. हालांकि आठ ग्राम वजनी सोना गिन्नी का भाव 25,300 रुपये प्रति इकाई पर बना रहा.