Showing posts with label Fitness. Show all posts
Showing posts with label Fitness. Show all posts

Friday, 6 September 2019

मुंह में पड़ते हों छाले तो करें ये 5 घरेलू उपाय

 मुंह में छाले हो जाना एक आमफहम बीमारी है। हर आदमी को कभी न कभी ये छाले जरूर होते हैं। कई बार ये छाले अपने आप खत्म हो जाते हैं, पर कई बार लंबे समय तक बने रहते हैं और बहुत तकलीफ देते हैं। ऐसे में दवाई लेना जरूरी हो जाता है। कुछ लोगों को मुंह के छाले बहुत जल्दी-जल्दी होते हैं। छाले हो जाने पर कुछ भी खाना मुश्किल हो जाता है। खासकर, नमकीन और मसाले वाली चीजें तो एकदम नहीं खाई जातीं। ये छाले किसी न किसी संक्रमण की वजह से होते हैं। कई बार विटामिन बी कॉम्पलेक्स की कमी के चलते भी मुंह में छाले हो जाते हैं। ये विटामिन बी कॉम्पलेक्स के कैप्सूल खाने से ठीक हो जाते हैं। पर वाइरस के संक्रमण के चलते होने वाले छाले जल्दी नहीं ठीक होते। छाले की समस्या होने पर कुछ घरेलू उपाय अपना कर भी इनसे राहत पाई जा सकती है। जानते हैं घरेलू उपायों के बारे में।

1. नारियल का तेल
छाले होने पर वहां नारियल का तेल लगाने से राहत मिलती है। नारियल का तेल माइक्रोब्स को खत्म करने में कारगर पाया गया है। इसके अलावा, यह इन्फेक्शन को फैलने से रोकता है और दर्द-जलन में भी राहत देता है। प्रभावित हिस्से पर रूई के फाहे से नारियल तेल दिन में तीन-चार बार लगाना चाहिए।

2. शहद
मुंह के छाले में शहद भी बहुत फायदेमंद होता है। शहद सूजन और जलन को कम करता है। जहां छाले हों, वहां शहद लगा कर कुछ देर तक छोड़ देना चाहिए और बाद में कुल्ला कर लेना चाहिए। दिन में दो-तीन बार शहद का इस्तेमाल करने से राहत मिलती है।

3. अदरक
छाले होने पर अदरक काफी फायदा करता है। अदरक के रस को  छालों पर लगाना चाहिए। यह बैक्टीरिया को मार देता है। अदरक घाव को भी सुखाता है। छाले होने पर अदरक का रस पानी में डाल कर पी सकते हैं या ऐसे भी अदरक के छोटे टुकड़े को चबा सकते हैं। इससे राहत मिलेगी।

4. लहसुन का पेस्ट
छाले होने पर लहसुन का पेस्ट लगाने से भी काफी फायदा होता है। लहसुन का थोड़ा-सा पेस्ट तैयार कर लें और उसे छालों पर लगाएं। इसमें एंटी-बायोटिक गुण होते हैं, जिनसे छाले सूख जाते हैं। दिन में दो बार छालों पर लहसुन का पेस्ट लगाना काफी है।


सिर्फ 4 मिनट के वर्कआउट से शख्स ने किया 13 किलो वजन कम..


सिर्फ 4 मिनट की वर्कआउट में क्या आप अपना वजन कम कर सकते हैं. सम्भव तो है लेकिन थोड़ी मेहनत करनी पड़ेगी. पर वही बात आती है कि 4 मिनट बेहद ही कम होते हैं. ऐसे ही एक शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं. इसमें 4 मिनट में अपना काफी वबजन कम किया है जापान में रहने वाला एक व्यक्ति इन दिनों अपने सिर्फ चार मिनट के वर्कआउट को लेकर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस व्यक्ति ने सिर्फ चार मिनट वर्कआउट करके 13 किलो वजन कम लिया है. जानते हैं इसके बारे में.
दरअसल, हिरांगी सेंसेई नाम से ट्विटर चलाने वाले इस शख्स का कहना है कि चार मिनट के इस वर्कआउट ने वह कमाल किया जो जिम में एक घंटे के सेशन में उसे मिलता था. यानि अगर आप भी वजन कम करने के लिए गंभीर हैं तो इस तरह कर सकते हैं. हिरांगी ने इस साल मार्च में ट्विटर पर अपनी एक फोटो डाली थी जिसमें उसका पेट भी बाहर निकला था और वह काफी अनफिट लग रहा था. इस फोटो के साथ उसने वादा किया था कि कुछ महीनों में वह पूरी तरह से फिट होकर अपनी फोटो दोबारा ट्विटर पर डालेगा. इसके बाद उसका हालिया तस्वीर में बाहर निकले पेट की जगह सिक्स पैक एब्स ने ली है और मसल्स भी पहले से स्ट्रॉन्ग हैं.
हिरांगी सेंसेई का कहना है कि इस बदलाव की वजह है ताबाता वर्कआउट, जिसमें चार मिनट तक कड़ा वर्कआउट करके पांच महीनों में वह इतना फिट हुआ है. चार मिनट के उसके वर्कआउट में 20 सेकंड में बर्पीज के आठ सेट, फिर 10 सेकंड का आराम और बाद में इसी पैटर्न को 4 मिनट तक फॉलो करके एक्सरसाइज करना शामिल है.
अपने इसी वर्कआउट के बारे में हिरांगी ने बताया, इस वर्कआउट से मेरा बॉडी फैट 18.2 फीसदी कम हुआ है. मेरा वजन पांच महीने में 13 किलो कम हुआ है, पहले मैं 72 किलो का था और अब 59 किलो का फिट युवक हूं. हालांकि मैंने वर्कआउट के साथ अपनी डाइट में भी बदलाव किया था. मैंने डाइट में फ्रेश फ्रूट्स लिए और ग्रिल्ड मीट और करी राइस भी खाए. इस सबके साथ ही वजन कम करने को लेकर मेरा दृढ़-निश्चय भी काम आया.

Sunday, 25 August 2019

उड़े हुए बाल इस फल की मदद से आएंगे वापिस, जानिए कैसे


 आजकल की दौड़ती-भागती लाइफ में अकसर लोग अपने बालों पर उतना ध्‍यान नहीं दे पाते जितना अपने ड्रेसिंग स्‍टाइल पर देते हैं। जिससे लोगो के बाल बहुत तेज़ी से गिर रहे है, कई सारे उपाय करने के बाद बाल गिरने रुक तो जाते है लेकिन फिर कुछ समय बाद दुबारा से बाल गिरने लगते है और गंजेपन का सामना करना पड़ रहा है। क्या आप जानते है की आप एक ऐसे फल के इस्तेमाल से अपने बालो को गिरने से रोक सकते है और जो बाल गिर गए है उनको फिर से वापस ऊगा सकते है।

सीताफल आयर्वेद में इस फल को प्रकार की औषधि के रूप में इस्तेमाल करने को बताया गया है ये फल खाने में बहुत अच्छा होता है सिर्फ बालो के लिए ही फायदेमंद नहीं है शरीफा और भी बहुत से लाभकारी उपयोग है आइये जाने क्या है शरीफे के फायदे...
सीताफल में प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट विटामिन सी बहुत ज्यादा मात्रा में होता है। विटामिन सी में शरीर की रोगों से लड़ने वाली शक्ति यानी इम्युन सिस्टम को बढ़ाने की क्षमता होती है तो हर दिन एक बार सीताफल खाइए और भगाइए दूर बीमारियों को।
क्या आप अक्सर कमजोरी महसूस करते हैं? सीताफल आपकी यह परेशानी दूर कर सकता है। जो इंसान पतला होता है उसको शरीफे का सेवन करना चाहिए इसको खाने से दुबलता दूर होती है और शरीर मोटा होता है।

अगर आपके बदन पर कही भी कोई भी कैसा भी फोड़ा होता है तो आप सीताफल के पत्तो को पीस कर उस जगह पर लगाए फोड़ा ठीक हो जायेगा।

अगर आपके शरीर में जलन की शिकायत है तो आप शरीफे के जुड़े का शरबत बनाये और पिए रहत मिलेगी।
बालो का गिरना सबसे बड़ी समस्या है ये सीताफल के बीजो को पीस कर और इसमें थोड़ा सा बकरी का दूध मिलकर बालो में लगाए बालो का गिरना रुक जाएगा और गिरे हुए बाल वापस आ जाएंगे।

-जुओ की शिकायत है तभी आप शरीफे के बीज को पीस कर सर पर लगा ले और सर को एक कपडे से बांध ले सुनह उठकर सर धो ले जुओ की समस्या ख़त्म हो जाएगी।
सीताफल को रात में खुले स्थान पर रख दें। रातभर ओस में भीगने के बाद सीताफल को काटकर खाने से शरीर की गर्मी कम होती है।




इस जड़ में है इतनी शक्ति कि इसे सिर्फ मुंह में रख लेने से ही कई रोगो का हो जाता हैं सर्वनाश


मुलेठी एक गुणकारी जड़ी बूटी है। ये स्वाद में मधुर, शीतल, पचने में भारी, स्निग्ध और शरीर को बल देनेवाली होती है। अगर हम सभी लोगों में कई लोगों ने मुलेठी खाया होगा और नहीं भी खाया होगा तो आपको बता दें कि आप इसे खाना शुरू कर दें इससे आपको कई सारे लाभ होंगे। आपको बता दें कि मुलहठी खांसी, जुकाम, उल्टी व पित्त को बंद कर देता है। मुलेठी अम्लता में कमी व जख्मों में लाभकारी है। मुलेठी कैल्शियम, ग्लिसराइजिक एसिड, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटीबायोटिक, प्रोटीन और वसा के गुणों से भरपूर होती है। इसका इस्तेमाल आंखों के रोग, मुंह के रोग, गले के रोग, दमा, दिल के रोग, घाव के उपचार के लिए सदियों से किया जा रहा है। आइये जानते है इसके फायदे ...

-गले की खराश, गला बैठना: आपको बता दें मुलेठी के मात्र चबाने से ही आपकी ये समस्‍या समाप्‍त हो जाएगी और यह आपकी आवाज को भी मधुर भी बनाता है।

अगर आपके सीने में जलन हैं और खाना भी सही तरीके से नहीं पच रहा है तो मुलेठी को मुंह में रखकर चूसना होगा इससे आपको सीने की जलन और खाना ना पचने की समस्या में राहत मिलेगी।

-यह स्वाद में मधुर होने के कारण प्रायः सभी बच्चे बिना झिझक के इसे चाट लेते है।

-मुलेठी बुद्धि को भी तेज करती है। अतः छोटे बच्चों के लिए इसका उपयोग नियमित रूप से कर सकते हैं।

-यह हल्की रेचक होती है. अतः पाचन के विकारों में इसके चूर्ण को इस्तेमाल किया जाता है। विशेषतः छोटे बच्चों को जब कब्ज होती हैं, तब हल्के रेच के रूप में इसका उपयोग किया जा सकता है।

-छोटे शिशु कई बार शाम को रोते हैं. पेट में गैस के कारण उन्हें शाम के वक्त पेट में दर्द होता है, उस समय मुलहठी को पत्थर पर घिसकर पानी या दूध के साथ पिलाने से पेटदर्द शांत हो जाता है।

-खांसी, जुकाम में कफ को कम करने के लिए मुलहठी का ज्यादातर उपयोग किया जाता है।

-बढ़े हुए कफ से गला, नाक, छाती में जलन हो जाने जैसी अनुभूति होती है, तब मुलहठी को शहद में मिलाकर चटाने से बहुत फायदा होता है

-बड़ों के लिए मुलहठी के चूर्ण का इस्तेमाल कर सकते हैं। शिशुओं के लिए मुलहठी के जड़ को पत्थर पर पानी के साथ 6-7 बार घिसकर शहद या दूध में मिलाकर दिया जा सकता है।



Thursday, 15 August 2019

सेब खाने के बाद कभी न खाएं ये चीज, वरना फायदे की जगह तगड़ा नुकसान पक्का



अक्‍सर देखा जाता रहा है कि जब भी किसी को स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी समस्‍याये होती है तो उन्‍हें फलों का सेवक करने को कहा जाता है। अधिकांश लोगा तो सेब का प्रयोग करते है क्‍योंकि सेब स्‍वास्‍थ्‍य के लिये काफी लाभप्रद रहता है। माना जाता है कि रोज सुबह एक सेब खाने से आने वाली बीमारियों से शरीर को लड़ने की ताकत मिलती है। डॉक्‍टर भी सेब खाने की सलाह देते है, पर सेब खाने के पश्‍चात कुछ ऐसी चीजे है जिन्‍हें भूलकर भी नही खाना चाहियें।


आपकी जानकारी के लिये बता दें कि सेब हमारे शरीर को स्‍वास्‍थ रखने में सहायक बनते है क्‍योंकि सेब में  कई पोषक तत्व विटामिन और खनिज मौजूद होते हैं जो छोटी मोटी बीमारियों से हमारा बचाव करते हैं इसके साथ ही यह बहुत सी बीमारियों को भी नष्ट करने की क्षमता रखता है। जानकारी के लिये बताते चले कि सेब खाना लाभकारी अवश्‍य होता है पर से ब खाने के पश्‍चात कुछ ऐसी चीजे उन्‍हे नही खाना चाहियें वरना सेहत पर काफी बुरा प्रभाव पड़ सकता है, जिन चीजों की आज हम बात कर रहे है वो कुछ इस प्रकार से है…..


रात के समय सेब खाने से बचें : अगर आप सुबह के समय सेब का सेवन करते हैं तो इससे आपके शरीर को काफी लाभ मिलता है, परंतु अगर आप रात के समय सेब का सेवन करेंगे तो इससे शरीर को नुकसान पहुंचता है, विशेषकर उन व्यक्तियों को जो अस्थमा से पीड़ित है उनको अधिक नुकसान पहुंचता है।


मूली का सेवन : अगर आप सेब खाने के तुरंत पश्चात मूली का सेवन करते हैं, तो इससे आपके शरीर पर सफ़ेद दाग पड़ सकते हैं, सेब खाने के पश्चात मूली का सेवन करने से त्वचा संबंधित परेशानियों का सामना करना पड़ता है इसलिए आप सेब खाने के बाद मूली का सेवन मत कीजिए।


दही का सेवन : आप भूल कर भी सेब खाने के पश्चात दही का सेवन मत कीजिए क्योंकि दही की तासीर ठंडी होती है जो आपके शरीर में कफ को बढ़ाने में सहायक होती है ऐसी स्थिति में अगर आप सेब खाने के तुरंत पश्चात दही का सेवन करेंगे तो आपके शरीर में कफ बढ़ेगा इसलिए आप इन बातों का ध्यान रखें।


पानी : अगर आप सेब का सेवन करते हैं तो उसके तुरंत पश्चात भूलकर भी पानी का सेवन मत कीजिए सेब खाने से कम से कम 1 घंटे पश्चात ही आपको पानी पीना चाहिए यदि आप सेब खाने के तुरंत पश्चात पानी का सेवन करते हैं तो इससे आपके शरीर में कफ बनता है।


खट्टी चीजों का सेवन : सेब का सेवन करने के पश्चात भूलकर भी खट्टी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए यदि आप ऐसा करते हैं, तो इससे आपके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ेगा अगर आप सेब खाने के तुरंत पश्चात खट्टी चीजों का सेवन करेंगे तो इससे आपके पेट में गैस बनने की समस्या शुरू हो जाएगी जिससे आपको काफी परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

Wednesday, 14 August 2019

पांच मिनट में हो जाएं फिट


फिटनेस को लेकर महिलाएं सबसे ज्यादा लापरवाह रहती हैं। हालांकि अगर महिलाएं घर से लेकर बाहर के कार्यों की सभी जिम्मेदारियां निभा रही हैं, तो उनके लिए फिटनेस की अहमियत और भी बढ़ जाती है। बस, जरूरत है अपने लिए दिन में मात्र 5 मिनट का समय निकालने की।

1. मॉर्निंग वॉक करें : हर दिन सुबह 15 से 20 मिनट की सैर से पूरे शरीर के जोड़ों को सुचारु रूप से कार्य करने की क्षमता मिलती है। इससे ह्रदय रोग सहित अन्य बीमारियों से भी बचा जा सकता है।

2. पेल्विक ब्रिजिंग : फर्श पर सीधे लेटकर, घुटने मोड़कर, हाथों को बाहर की तरफ निकालें। इसके बाद कमर को सीधे रखते हुए, ब्रिज के आकार में उठाएं। ऐसी स्थिति में 3 से 5 सेकेंड तक रहें। इसके बाद सामान्य स्थिति में आ जाएं। यह प्रक्रिया तीन से पांच बार करें।

3. सिट टू स्क्वैट : सीधे खड़े होकर, हाथों को शरीर से बाहर, आगे की ओर निकालकर, कुर्सी पर बैठने की मुद्रा में आएं। इस स्थिति में तीन से पांच सेकेंड तक रुकें। इसके बाद सामान्य अवस्था में आ जाएं। यह क्रिया तीन से पांच बार करें। इससे मांसपेशियां मजबूत होती हैं।

4. आसान एक्सरसाइज करें : कुर्सी पर पीठ लगा कर सीधे बैठें। घुटने से पैर को सीधा करें और इस स्थिति में तीन से पांच सेकेंड रहें। इसके बाद पैर सीधा कर लें। यह क्रिया बारी-बारी दोनों पैरों से 4-5 बार करनी होगी।

5. लेग रेज : सीधे लेटकर घुटने को सीधा रखते हुए, पूरी टांग को 30 डिग्री तक सीधा उठाएं। इस स्थिति में 3 से 5 सेकेंड रखें और टांग वापस नीचे ले जाएं। यह प्रक्रिया तीन से पांच बार करें।

6. हील रेज : पंजों के बल सीधे खड़े हो जाएं। ऐसी स्थिति में तीन से पांच सेकेंड तक रुकें। 3 से 5 बार यही प्रक्रिया दोहराएं।


Tuesday, 13 August 2019

लीची जैसा दिखने वाले इस फल के फायदे जानकर आप भी रह जाये दंग


लीची की तरह नजर आने वाले रामबुतान फल के बारे में काफी कम लोग जानते हैं। दक्षिण-पूर्व एशिया में बहुतायत पाया जाने वाला रामबुतान स्वादिष्ट और गुणकारी फल है। अकेले ऑस्ट्रेलिया में इसकी 50 से ज्यादा प्रजातियों की पहचान की गई है, जिनमें से 15 की व्यापारिक रूप से खेती की जाती है। ये फल दिखने में लीची की तरह ही होता है। इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन सी, कॉपर, प्रोटीन, आयरन पाया जाता है। 100 ग्राम रामबुतान फल में सिर्फ 84 कैलोरी पाई जाती हैं। इसके अलावा इस फल में एंटीऑक्सीडेंट गुण भी मौजूद हैं, जो शरीर से फ्री रेडिकल्स को बाहर निकालने में मदद करते हैं। इस फल के सेवन से कई गंभीर बीमारियों से बचा जा सकता है।
पाचन स्वास्थ्य में सुधार।  रामबुतान में मौजूद एंटी बैक्टीरियल गुण आंतों में मौजूद विषैले जीवाणुओं को मारने का काम कर सकते हैं। रामबुतान दस्त से भी आपको निजात दिला सकता है। इसमें मौजूद फाइबर पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। यह पाचन तंत्र को ठीक बनाए रखने के साथ-साथ कब्ज को रोकने का काम भी कर सकता है।
त्वचा के लिए फायदेमंद- रामबुतान फल का बीज त्वचा को हेल्दी बनाने के काम करता है। इसके बीजों से बने पेस्ट को चेहरे पर लगाने से स्किन के दाग-धब्बे दूर होने के साथ त्वचा में निखार भी आता है। ये फल त्वचा को हाइड्रेट करने का काम भी करता है। रोजाना चेहरे पर इसके बीज का पेस्ट लगाने से त्वचा कोमल और मुलायम बनती है। साथ ही लंबे समय तक त्वचा पर झुर्रियां भी नहीं पड़ती हैं।
हड्डियों को मजबूत बनाता है- फास्फोरस से भरपूर रामबुतान फल हड्डियों के लिए बहुत लाभदायक होता है। फास्फोरस पाया हड्डियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसके सेवन से लंबे समय तक हड्डियां मजबूत रहती हैं।
डायबिटीज में फायदेमंद- एक चाइनीज अध्ययन के अनुसार रामबुतान के छिलके एंटी-डायबिटिक गुणों से समृद्ध होते हैं।  जो डायबिटीज की बीमारी में फायदेमंद साबित होते हैं।
कामोत्तेजक के रूप में:  माना जाता है कि रामबुतान प्रजनन क्षमता को भी बढ़ा सकते हैं, कुछ स्रोत के अनुसार रामबुतान की पत्तियां कामोत्तेजक के रूप में काम कर सकती हैं। माना जाता है कि पत्तियों को पानी में डुबोकर सेवन करने से कामोत्तेजना बढ़ाने वाले हार्मोंस सक्रिय हो जाते हैं। लेकिन इसे साबित करने के लिए कोई शोध उपलब्ध नहीं है। इस उद्देश्य के लिए रामबुतान का उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर करें।




Tuesday, 30 July 2019

जानें छोटी से इलाइची किस तरह देती है आपको सेहत के लाभ



इलाइची आपकी कई परेशानियों को दूर कर सकती हैं. ये सेहत में कई तरह के लाभ देती है.  अकसर लोग सोचते हैं कि छोटी इलायची यानी हरी इलायची ठंडी होती है. लेकिन आपको बता दें, हरी इलायची भी बड़ी इलायची की तरह ही गर्म तासीर की होती है. इसमें मिठास होने के कारण इसे चाय और मीठे व्‍यंजनों में भी इस्‍तेमाल किया जाता है. आज हम इसी के बारे में बताने जा रहे हैं कि इसके क्या लाभ हो सकते हैं. 

पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नेशियम जैसे खनिज पदार्थों से भरपूर इलायची दिल की धड़कन को सही रखने में सहायता करती है.

आयुर्वेद में इलायची की तासीर गर्म मानी गई है, जो कि बॉडी को गर्मी देने का काम करती है, इसलिए इसके सेवन से आपके शरीर पर ठंड का प्रभाव कम होता है.

इलायची के सेवन से सांस लेने की समस्या जैसे अस्थमा, तेज जुकाम और खांसी से राहत मिलती है. साथ ही यह फेफड़ों की परेशानी दूर करने में भी बहुत ही सहायता करती है.

मानव शरीर में कई सारी बीमारियां उच्च रक्तचाप के कारण जन्म लेती है, यदि आप नियमित रूप से दो से तीन इलायची का सेवन करें तो रक्तचाप नियंत्रित करने में सहायता मिलेगी.

इलायची का उपयोग न केवल व्‍यंजनों में स्‍वाद को बढ़ाने के लिए किया जाता है, बल्कि इससे पाचन तंत्र भी दुरुस्‍त रहता है. इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं, जो मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने का काम करता है.

यदि आप तनाव की समस्या से घिरे रहते हैं, तो इलायची का सेवन आपके लिए लाभकारी हो सकता है. ऐसा देखा गया है कि इलायची चबाने से हार्मोन में तुरंत बदलाव देखने को मिलता है और आप तनाव से मुक्त हो जाते हैं.


Friday, 19 July 2019

बाजार में आए जामुनी आम, मधुमेह के रोगी भी कर सकते है सेवन!


आज हम आम को लेकर बात करे तो आपको ये बता दें कि ये एक ऐसा फल है जिसे आप हर मौसम में बड़े ही चाव से सेवन करते है। आपको ये जानकर हैरानी होगी कि अब के रोगी भी आम का सेवन कर सकते है। जिससे आपका बल्ड शुगर भी बिल्कुल नहीं बढ़ेगा। आपको बता दें कि आज की एक ऐसी किस्म तैयार की गई है। जिसमें आम एवं जामुन का कॉम्बिनेशन है। इंटरनेट पर  जामुनी रंग का आम काफी अधिक वायरल हो रहा है। जो कि ब्लड शुगर के मरीजों हेतु बहुत लाभदायक है। अब ये आम हिंदुस्तान में भी उत्पन्न हो रहा है।
जानिए साधारण आम जैसे जामुनी आम खाने के भी बेहतरीन फायदे...
जामुनी आम में भरपूर मात्रा में पोटैशियम एवं अनेक तरह के एंटी ऑक्सीडेंट मौजूद होते है। जो कि आपके दिमाग को हेल्दी रखने में सहायता प्रदान करता है।
जामुनी आम में पोटेशियम एवं सोडियम काफी ही कम मात्रा में पाया जाता है। जो कि आपके ब्लड प्रेशर को भी कंट्रोल रखता है।
इस आम में काफी मात्रा में विटमिन ई पाया जाता है। जो कि आपके कोलेस्ट्रॉल को ठीक रखने में सहायता करता है।
इसमें काफी मात्रा में विटामिन सी के साथ-साथ ऐसे एंटी ऑक्सीड़ेंट मौजूद होते है। जो कि आपको बॉडी को इंफेक्शन से कई दूर रखता है।
इस आम को खाने से आपका ब्लड शुगर भी कंट्रोल रहेगा।



Friday, 12 July 2019

तुलसी का पानी पीने से बढ़ता है शरीर का ऑक्सीजन लेवल, होते हैं अन्य कई सारे फायदे


रोज़मर्रा की जिंदगी में, बाजार या फिर ऑफिस जाते समय हर कोई भारी प्रदूषण के संपर्क में आता हैं| ऐसे में जहरीली गैस और गाड़ियों से निकलने वाला धुआँ हमारे साँसो के जरिये हमारे शरीर के अंदर जाता हैं तो कई तरह की सांस संबंधी परेशानियाँ खड़ी करता हैं| दरअसल इस तरह प्रदूषण सिर्फ बाहर निकलने पर ही नहीं बल्कि हमारे घर के आस-पास भी कई ऐसी चीजें हैं जो प्रदूषण को जन्म देती हैं| जिसकी वजह से व्यक्ति अस्थमा, सिरदर्द रहना, खांसी, आंखों की रोशनी कमजोर होना, फेफड़ों में इन्फेक्शन होनी कई तरह की परेशानियों का सामना करता हैं| हालांकि कुछ एहतियात बरत कर हम खुद को स्वस्थ्य रख सकते हैं| ऐसे में आइए जानते हैं कुछ उपायों के बारे में जो हमे स्वस्थ्य रखने में कारगर हो सकती हैं|

यदि तुलसी के पत्ते से बने काढ़े का नियमित सेवन किया जाए तो इससे आप प्रदूषण के असर को कम कर सकते हैं| काढ़े बनाने के लिए, तुलसी के 10 पत्ते, जरा सी अदरक, गुड़ और दो कालीमिर्च डालकर एक गिलास पानी के साथ उबाल लें और जब यह पानी उबाल कर एक चौथाई रह जाए तब इसे छान ले और ठंडा कर पी ले|

तुलसी ऐसा पौधा हैं जो पूजनीय तो हैं ही, इसके अलावा इसके अंदर कई तरह के औषधीय गुण भी पाएँ जाते हैं| यह कई तरह की बीमारियों से निजात दिलाता हैं और इसके साथ ही यह आपके त्वचा में निखार भी लाता हैं| बता दें कि तुलसी एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल होती है, इसीलिए यह त्वचा संबंधी बीमारियों को दूर करती है और रक्त को साफ करती हैं और इसकी वजह से चेहरे की चमक बढ़ जाती है|

यदि आप चाहती हैं कि कम पैसो में आपके शरीर में आक्सीजन की मात्रा बनी रहे हैं तो इसके लिए आप अनुलोम-विलोम, कपालभांति, भस्त्रिका प्राणायाम और ओम का जाप करे| इन्हें मात्रा 15 मिनट करने से आपके शरीर का आक्सीजन लेवल ठीक रहता हैं और इसकी वजह से आप अंदर से काफी रिलैक्स महसूस करते हैं|


Thursday, 4 July 2019

बीजेपी नेता की बेटी की हैरान कर देने वाली तस्वीरें हो रही है वायरल, आप भी देखें


बीजेपी के नेता और पूर्व मिनिस्टर जय नारायण व्यास की बेटी   सपना व्यास पटेल की कई तस्वीरें सामने आई है। जो किसी एक्ट्रेस से काम नहीं है। वह दिखने में काफी खूबसूरत भी हैं।
1989 में पैदा हुईं सपना अभी मॉडल के तौर पर वर्क कर रही है। साथ ही वो बॉलीवुड मूवीज में बतौर एक ट्रेनर के तौर पर वर्क भी करती है।
बता दें कि वह एक फिटनेस ट्रेनर, यूट्यूब, मॉडल है। 19 साल की उम्र में सपना का वजन 83 किलो था। लोग उनके मोटापे को लेकर उनका मजाक उड़ाते थे। लेकिन बाद में उन्होंने 1 साल के अंदर 30 किलो वजन कम कर लिया था।
आज सपना एक प्रोफेशनल सर्टिफाइट ट्रेनर है। सोशल मीडिया पर सपना की बहुत फैन फॉलोइंग है वह समय-समय पर लाइव आकर अपने फैंस से बात करती हैं सपना के इंस्टाग्राम पर 18m से भी ज्यादा फॉलोअर्स है।
फिटनेस ट्रेनर सपना व्यास पटेल में अपनी फिटनेस पर बहुत ज्यादा मेहनत की है जहां गए पहले काफी ज्यादा मोटी हुआ करती थी और अब वह बॉलीवुड की लगभग सभी अभिनेत्रियों में से सबसे ज्यादा फिट दिखाई पड़ती है। 
सपना बेहद ही दयालु है और वह हमेशा अपने फैंस से सोशल मीडिया पर बात करती रहती हैं और उन्हें स्वस्थ रहने की टिप्स देती रहती हैं!


Monday, 24 June 2019

बिना ऑपरेशन के भी गुर्दे की पथरी को कर सकते हैं गायब, अपनाये ये आयुर्वेदिक तरीके


आजकल की खराब जीवनशैली और पानी की कमी की वजह से किडनी स्टोन अर्थात पथरी की समस्या बहुत होने लगी हैं। गुर्दे की पथरी, यह काफी दर्द भरी होती है। पथरी का आकार हर इंसान के शरीर में अलग-अलग होता है। अगर पथरी का आकार छोटा है तो वह पेशाब के रास्ते से बाहर निकल जाती है। लेकिन अगर पथरी का आकार बड़ा हो तो वह पेशाब के रास्ते से बाहर नहीं निकल पाती। इस परेशानी से मुक्ति के लिए लोग ऑपरेशन का सहारा लेते हैं। लेकिन आज हम आपको कुछ ऐसे आयुर्वेदिक तरीके बताने जा रहे हैं जिनकी मदद से बिना ऑपरेशन के भी पथरी का इलाज कराया जा सकता हैं। तो आइये जानते हैं इन आयुर्वेदिक तरीकों के बारे में।

१.  तुलसी के रस के साथ पानी पीना

तुलसी पूरी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है। किडनी के लिए भी इसका सेवन बेहद उपयोगी माना जाता है।  यह हमें हाइड्रेटेड रहने में मदद करता है और यह रोगमुक्त जीवन के लिए शरीर में पानी के स्तर को बनाए रखता है। यह पाचन और अवशोषण की प्रक्रिया को बढ़ावा देता है।गुर्दे की पथरी से पीड़ित लोगों को मूत्र के माध्यम से इन पत्थरों को बाहर निकालने के लिए बहुत सारा पानी पीना चाहिए। सर्वोत्तम प्रभावों के लिए, तुलसी के रस के साथ पानी पीता चाहिए, क्योंकि तुलसी को शरीर में तरल पदार्थ, खनिज और यूरिक एसिड संतुलन बनाए रखने के लिए बेहतर माना जाता है।

२  .नारियल पानी

नारियल का पानी पीने से पथरी में फायदा होता है। पथरी होने पर नारियल का पानी पीना चाहिए। नारियल पोषक तत्वों से भरा है और स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है। नारियल पानी जो एक कच्चे हरे नारियल के अंदर मौजूद होता है, स्वास्थ्य के लिए बेहद अच्छा होता है और अगर किसी को किडनी में पथरी है तो इसका सेवन करना चाहिए। यह गुर्दे की पथरी के आयुर्वेदिक उपचार का एक अच्छा रूप है और पथरी को गलाने में मदद करता है और अंत में मूत्र के माध्यम से बाहर निकाल देता है।

३  .जौ का पानी

किडनी की पथरी के लिए भी यह अचूक औषधि है। एक गिलास जौ के पानी का रोजाना सेवन करने से किडनी की पथरी शरीर से बाहर निकल जाती है और आपकी किडनी स्वस्थ रहती है।

नीम

४  .नीम आयुर्वेद में सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला पेड़ है। इसीलिए पथरी के उपचार के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। इसके लिए आप नीम के पत्तों का सुखाकर इसे जला लें और इसकी राख तैयार कर लें। इस राख को रोगी नियमित रूप से दिन में 3 बार पानी के साथ सेवन करें।

लेमन जूस के साथ ऑलिव ऑयल

५  .नींबू भी गुर्दे में पथरी को रोकने में काफी फायदेमंद साबित होता है। नींबू का रस और खाद्य तेल का संयोजन थोड़ा अजीब लग सकता है लेकिन यह एक बहुत प्रभावी किडनी स्टोन का आयुर्वेदिक उपचार है। जो लोग अपने गुर्दे से पत्थरों को हटाने की इच्छा रखते हैं, उन्हें प्राकृतिक रूप से इस तरल को रोजाना पीना चाहिए जब तक कि पथरी निकल न जाए। नींबू का रस पत्थरों को तोड़ने में मदद करता है जबकि जैतून का तेल उनके लिए स्नेहक के रूप में कार्य करता है ताकि बिना किसी परेशानी से स्‍टोन बाहर निकल सके। गुनगुने पानी में आधा नीबू का रस डालकर रोजाना पी सकते हैं।


प्रेगनेंसी के दौरान शरीर में होती है इन तीन चीजों की कमी, आप भी जरूर जानें


किसी भी महिला के लिए गर्भावस्था वो समय होता है जब वो शारीरिक और मानसिक रूप से कई बदलावों से गुजरती है। इसलिए जब भी कोई स्त्री अपने माँ बनने की खबर सुनती है तो उनकी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहता क्योंकि आने वाला शिशु उनके जीवन का सबसे अहम् हिस्सा होता है। लेकिन गर्भवती होने के तुरंत बाद महिलाओं के शरीर में बहुत सी चीजों की कमी होने लगती हैं। इन कमी के बारे में सभी महिलाओं को सही जानकारी होनी चाहिए ताकि महिलाएं खुद का ख्याल रख सके। आज जानने की कोशिश करेंगे उन चीजों के कमी के बारे में जिन चीजों की कमी गर्भवती होने के बाद महिलाओं के शरीर में होती हैं। तो आइये इसके बारे में जानते हैं विस्तार से की गर्भवती होने के बाद शरीर में होती है इन तीन चीजों की कमी।
१  .कैल्शियम की कमी

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को पर्याप्त कैल्शियम की जरूरत होती है, क्‍योंकि जब कोई महिला गर्भवती हो जाती हैं तब उनके शरीर में कैल्शियम की कमी होती हैं। क्यों की गर्भ में भूर्ण के विकास के लिए कैल्शियम की ज़रूरत सबसे अधिक होती हैं। जिसके कारण महिलाओं के शरीर में कैल्शियम की कमी हो जाती हैं। जिसकी आपूर्ति करना जरूरी होता है। जब शरीर को पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम नहीं मिलता, तो वह हड्डियों से कैल्शियम लेने लगता है। ऐसा होने पर आहार के माध्यम से कैल्शियम की भरपाई आवश्यक हो जाती है। इसलिए सभी महिलाओं को गर्भवती होने के बाद कैल्शियम युक्त आहार का सेवन करना चाहिए ताकि शरीर में होने वाले कैल्शियम की इस कमी को दूर किया जा सके।

२  .पानी की कमी

गर्भवती महिलाओं के शरीर में जब भूर्ण का निर्माण होने लगता हैं तब महिलाओं के शरीर में पानी की कमी हो जाती हैं। जिसके कारण महिलाओं को उल्टी और मितली की समस्या होती हैं। साथ ही साथ महिलाओं के पेट में गैस बनने लगते हैं। इसलिए गर्भवती होने के बाद महिलाओं को भरपूर पानी का सेवन करना चाहिए ताकि शरीर में होने वाले पानी की कमी को रोका जा सके।

३  .आयरन की कमी

जब कोई महिला गर्भवती होती है तो गर्भवती होने के बाद महिलाओं के शरीर में आयरन की कमी हो जाती हैं। यदि खून में हीमोग्लोबिन की कमी हो, तो आयरन की गोलियां खाने की सलाह दी जाती है। महिलाओं को इसकी अधिक जरूरत होती है। आयरन की जरूरत हीमोग्लोगिन बनाने के लिए होती है।  क्यों की गर्भवती होने के बाद जब महिलाओं के गर्भ में भूर्ण का विकास होने लगता हैं तब उसे ब्लड की ज़रूरत होती हैं। जिसके कारण शरीर में आयरन की कमी हो जाती हैं। इसलिए गर्भवती होने के बाद सभी महिलाओं को प्रतिदिन आयरन युक्त आहार का सेवन करना चाहिए ताकि आयरन की इस कमी से छुटकारा मिल सके।


Friday, 21 June 2019

योग दिवस के खास मौके पर कुत्तों ने भी किया योग, देखें वीडियो


आज पूरी दुनिया योग दिवस मना रही है. देश के हर राज्य में योग मनाया जा रहा है. इस दिन सभी आम इंसान से लेकर बड़े बड़े नेता राजनेता, अभिनेता भी योग कर रहे हैं. योग दिवस में भाग लिया और योगाभ्यास कर पूरी दुनिया को स्वस्थ रहने का संदेश दिया. इस दौरान सबसे दिलचस्प बात यह है कि मानव के सबसे अच्छे दोस्त कहे जाने वाले कुत्तों ने भी योग दिवस पर योगाभ्यास में हिस्सा लिया. इसी में आर्मी के कुछ डॉग्स भी इसमें हिस्सा ले चुके हैं जिनका वीडियो वायरल हो रहा है.
आपको  बता दें, यह कुत्ते हैं आर्मी के, जिन्हें सेना के जवानों ने ट्रेनिंग दी है. ये खास कुत्ते योग का हर आसन कर ले रहे हैं. जानकारी के लिए बता दें कि कुत्तों का भी योगासन होता है जिन्हें डोगा आसन के नाम से जाना जाता है. इसकी शुरूआत पहली बार साल 2002 में न्यूयार्क में की गई थी. आर्मी डॉग्स अपने ट्रेनर यानी की सेना के जवानों के साथ योग करते दिखे. यानि अपने डॉग को फिट रखने के लिए आप भी उसे ये योग करवा सकते हैं. इनका वीडियो भी काफी वायरल हो रहा है.
दरअसल, पशु प्रशिक्षण स्कूल के भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के कर्मियों ने अरुणाचल प्रदेश में लोहित घाटी के नदी तट पर अपने प्रशिक्षित घोड़ों व कुत्तों के साथ योग का आसन किया. इस दौरान वीडियो में कुत्तों को अपने प्रशिक्षकों के साथ आसन करते हुए दिखाया गया है. वहीं जवान घोड़ों पर सवार होकर योग के विभिन्न आसन करते दिखे. इसके अलावा पीएम मोदी ने रांची के प्रभात तारा मैदान में करीब 50 हजार लोगों के साथ योगाभ्यास किया. इसके साथ ही उन्होंने पूरे राष्ट्र को योग के प्रति जागरूकता का संदेश भी दिया.


Sunday, 9 June 2019

एक सूअर इस किसान को बना गया मालामाल, मिली ऐसी चीज़



वैसे तो लगभग हर किसी ने सोने के अंडे देने वाली मुर्गी की कहानी पढ़कर हर किसी के मन में ख्वाहिश आती है. एक शख्स के पास ऐसी मुर्गी तो नहीं आई, लेकिन ऐसा सुअर जरूर मिल गया जो उसे करोड़पति बना गया. उसके पास से कुछ ऐसी चीज़ मिली जिससे करोड़पति हो गया.

दरअसल, सुअर के पेट से शख्स को ऐसी चीज मिली जिसकी दुनिया में काफी मांग है और इसकी कीमत भी लाखों-करोड़ों में है. जब वो इसे लेकर शंघाई गया और वहां इसकी कीमत जानी तो हैरान रह गया. शंघाई में उसे मालूम चला कि पत्थर दिखने वाली इस चीज को Bezoar कहते हैं. 4 इंच के Bezoar की कीमत तकरीबन 4 करोड़ रुपये थी. ये सुनकर तो जैसे उसके होश ही उड़ गए.

इसके बारे में आपको बता दें, Bezoar कुछ जानवरों के अंदर मिलने वाली एक चीज है जो बड़े काम आती है. इससे कई तरह की दवाईयां बनती हैं।

Monday, 3 June 2019

सावधान! ज्यादा चाय पीने के शौकीन जरूर देख ले ये खबर वरना...


अधिक चाय पीने से कई समस्याएं होती है। चाय के ज्यादा सेवन से कई तरह के नुकसान भी झेलने पड़ सकते हैं।

1. दिल की बीमारियां

अधिक चाय पीने से दिल की धड़कन बढ़ जाती है और दिल की बीमारियां होने की संभावना काफी बढ़ जाती है।

2. आंतें खराब करे

अधिक चाय पीने से आंतें खराब होने का खतरा बढ़ जाता है। जिसके कारण खाने को पचाने में समस्या का सामना करना पड़ता है।

3. अनिद्रा की समस्या

अधिक चाय पीने से अनिद्रा की समस्या उत्पन हो जाती है। साथ ही पूरी नींद न होने पर दिमाग भारी हो जाता है। ऐसे मे चाय का सेवन कम मात्रा में करे।

4. एसिडिटी

अधिक चाय पीने से पेट में एसिडिटी की समस्या बढ़ जाती है। साथ ही अधिक चाय पीने से मुंह में छाले भी हो जाते हैं।


The Great Khali


द ग्रेट खली एक ऐसा नाम है जिसने देश विदेश के कई पहलवानों के छक्के छुड़ा दिये और पहलवानी के क्षेत्र में अपने देश का नाम रोशन किया |  दलीप सिंह राणा से जन्म लेकर पैदा हुए , खली ने भारत में एक ऐसा मुकाम प्राप्त किया जिसे कोई पहलवान नही कर पाया था | साधारण गाँव में जन्मे इस महाबली खली ने  professional wrestling में हिस्सा लेकर अपने करियर को एक नया मुकाम दिया | वर्तमान में खली का नाम इतना चर्चित है की उनको देखने के लिए लोगो को भीड़ उमड़ पडती है | आइये आपको उस महाबली खली का जीवन परिचय बताते है जिसने एक साधारण गाँव में जन्म लेकर देश का नाम रोशन किया |

दलीप सिंह राणा का जन्म 27 अगस्त 1972 को हिमाचल प्रदेश के धिरियाना गाँव के एक पंजाबी हिन्दू राजपूत परिवार में हुआ था | दलीप सिंह राणा के पिता का नाम ज्वाला रमा और माँ का नाम तांडी देवी है | दलीप सिंह राणा का परिवार एक बहुत गरीब परिवार था जिसमे उनके पिता को अपने सात बच्चो का पेट भरना बड़ा मुश्किल था | अपने सात भाई बहनों में दिलीप सिंह राणा बिलकुल अलग था क्योंकि वो अपने भाई बहनों से सबसे मजबूत कद काठी का था | कम उम्र में ही वो अपने वो अपने भीमकाय शरीर की वजह से हमेशा गाँव वालो में जिज्ञासा का विषय बना रहता था |

अब गरीब परिवार होने की वजह से दिलीप ज्यादा पढ़ नही पाया और अपने माता पिता की आर्थिक मदद करने के लिए उसने काम ढूँढना शूरू कर दिया | अब पढ़े लिखे नही होने की वजह से उसको मजदूरी करने के अलावा ओर कोई काम नही मिल सकता था | शुरुवात में वो अपने गाँव में ही मजदूरी किया करता था | उसको अधिकतर भारी भरकम पत्थरों को उठाने का काम दिया जता था क्योंकि उसकी कद काठी की वजह  से लोग उसको वही काम देना पसंद करते थे | इसके बाद जब उन्हें ज्यादा पैसा कमाने की आवश्कयता पड़ी तो वो अपने गाँव से शिमला के लिए रवाना हो गया और वहा पर मजदूरी करने लग गया |

उनके गाँव के लोग खली के बारे में बताते है कि खली की कद काठी इतनी विशाल थी कि उनको रास्ते में गुजरता देख लोग उन्हें ताकते रह जाते थे | अपनी विशाल कद काठी की वजह से उनके पैरो की नाप के जूते तक बाजार में नही मिल पाते थे इसलिए वो बाजार में मोची से अपने नाप के जूते बनवाकर पहनते थे | खली को देखकर कई लोग उन्हें चिढाते भी थे जिसे देखकर कभी कभी उनको खुद पर भी गुस्सा आता था लेकिन वो अपने शरीर को लेकर कुछ नही कर सकते थे |

खली को मजदूरी में जो पैसा मिलता था वो उनके परिवार के लिए पर्याप्त नही था क्योंकि उनकी कमाई का अधिकांश हिस्सा तो खुद उनके खाने में ही चला जाता था | कई बार उन्हें घर पर भेजने के लिए एक रुपया तक नही बच पाता था | ऐसा करते करते जब कई साल बीत गये और अब उनकी किस्मत बदलने वाली थी | एक दिन शिमला में पंजाब के एक पुलिस अफसर ने खली को देखा , जो उस समय शिमला में के जगह पर सिक्यूरिटी गार्ड था  , तो वो उसकी कद काठी को देखकर दंग रह गये |  उस पुलिस ऑफिसर ने खली को पंजाब आकर पुलिस में भर्ती होने का प्रस्ताव दिया

1993 में खली को पंजाब पुलिस में नौकरी मिल गयी |  उस समय खली अपने भाई के साथ पंजाब आकर बस गये थे | इसके बाद खली के भाई को भी पंजाब पुलिस में नौकरी लग गयी थी | अब जालन्धर में ही उनकी कद काठी को देखते हुए उन्हें स्थानीय जिम में wrestler बनने के लिए तैयार किया गया | उन दिनों wrestling अमेरिका में बहुत पोपुलर था लेकिन भारत का कोई भी wrestler वहा पर टिक नही पाया था इसलिए उनको प्रोफेशनल wrestler की ट्रेनिंग दी गयी थी |

अब wrestler की ट्रेनिंग मिलने के बाद दलीप सिंह राणा को सन 2000 में अमेरिका के All Pro Wrestling में भेजा गया |  तब उसने World Championship Wrestling के साथ एक कॉन्ट्रैक्ट साइंड किया था | उसने 8 महीने वहा बिताये और उसके बाद उसे World Wrestling Federation द्वारा New Japan Pro Wrestling में भेजा गया जहा उनके साथ दुसरे भीमकाय पुरुष Giant Silva की टीम में रखा गया | उन दोनों ने मिलकर जापान के कई पहलवानों को धुल चटा दी थी | इसके बाद 2006 तक वो  All Japan Pro Wrestling में शामिल रहे जब तक कि उनको WWE से बुलावा नही आ गया |

2 जनवरी 2006 को दिलीप सिंह World Wrestling Entertainment में शामिल होने वाले भारत के पहले professional wrestler बने | दिलीप सिंह का पहला ही मुकाबला WWE में कई सालो से राज करने वाले Undertaker से हुआ था लेकिन इस मुकाबले में किसी की जीत नही हुयी थी | इसके बाद से उनको The Great Khali नाम दिया गया | रिंग में उन्होंने सबसे पहली मात Funaki. को दी थी | इसके बाद खली ने एक से बढकर एक WWE के पहलवानों को धुल चटाई जिसके कारण दुसरे पहलवानों में खली का खौफ छा गया था | खली ने 2007,08 में World Heavyweight Champion का ख़िताब भी अपने नाम कर लिया था |

अपनी Wrestling के दम पर उन्होंने कई मुकाबले जीते और कई पुरुस्कार अपने नाम किये | उनकी इस प्रसिधी की वजह से वो मालामाल हो गये और उन्होंने इनमे से अधिकतर पैसो से अपने गाँव का आर्थिक विकास किया था | अपनी लोकप्रियता के चलते उनको कई हॉलीवुड और बॉलीवुड फिल्मो के ऑफ़र आये और उन्होंने कई फिल्मो में भी अभिनय किया लेकिन ज्यादा सफल नही रहे | फिल्मो में  नही चल पाने का सबसे बड़ा कारण उनकी आवाज थी क्योंकि एक तो वो हिंदी और अंग्रेजी सही तरीके से बोल नही पाते है और दूसरा उनकी आवाज बहुत भारी है जिसके कारण उनकी हर फिल्म में उनकी आवाज को डब करना पड़ा था | खली की पत्नी का नाम हरमिंदर कौर है और हाल ही उनके एक पुत्री का जन्म हुआ है |

The Great खली रोज शाम को 10 लीटर दूध , 20 उबले हुए अंडे , 5 ग्लास मिक्स जूस और 5 ग्लास अनार का जूस पीता था

Body Building North India Championship 1997-98 में खली ने मि .यूपी रहे अर्णव बेनर्जी और मो.सगीर को बाइसेप्स से लटकाकर व्यायाम करवाया था

एक बार खली किसी मेहमान के यहाँ रुका तो वो 10 मिनट के अंदर 40 रोटिया , 4 किलो सब्जी और 8 कटोरे दाल पी गया तो उन मेहमान की पत्नी ने उनके पति से कहा “इनको वापस लेकर कभी मत आना

रिंग में भी वो माँ काली बोलकर फाइट करता था इसलिए विदेशी रेसलर ने उनका नाम खली रख दिया | खली वैसे माँ काली का परमभक्त है

एक बार खली जब होटल में खाना खाकर वापस अपने कमरे में लौट रहा था तब उसका पैर 40 प्लेटो पर पड़ गया और वो सभी प्लेटे एक सेकंड में चकनाचूर हो गयी


Saturday, 1 June 2019

घरेलु तरीकों से जड़ से खत्म करें अनचाहे मस्से


शरीर और मस्से आपके लुक को ख़राब कर देते हैं. ये बचपन से ही होते हैं जो आसानी से जाते नहीं है. कुछ लोग इसके लिए  भी सर्जरी का इस्तेमाल करते हैं. मस्सों से निजात पाने के लिए आज युवा हर उपाय अपनाने को तैयार है. कभी कभी मस्से का वायरस एक आदमी से दूसरे आदमी की त्वचा पर आकर मस्सा बना देते हैं. इन्हें अगर जड़ से खत्म करना है तो कुछ घरेलु तरीके अपनाने होंगे जिनके बारे में हम बताने जा रहे हैं.

अगरबत्ती

मस्से को समाप्त करने के लिए एक अगरबत्ती जला लें और अगरबत्ती के जले हुए गुल को मस्से का स्पर्श कर तुरन्त हटा लें. ऐसा 8-10 बार करें, ऐसा करने से मस्सा सूखकर झड़ जाएगा.

गुलाब जल

गुलाब जल सुरज की धूप में कुछ देर रखे और हल्का गरम होने पर इसे रुई के फोहे से चेहरे पर लगाए. गुलाब जल के प्रयोग से त्वचा के रोमछिद्रों में जमा चिकनाई निकलती है जिससे स्किन सॉफ होती है. जिन्हें बार बार मस्से निकलते है उनके लिए ये उपाय काफी असरदार है.

शहद

शहद जिसमें कि एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं,का प्रयोग भी मस्से/मस्सा हटाने के लिए किया जा सकता है.रोज़ शहद की कुछ मात्रा अपने मस्सों पर लगाएं.

आलू

आलू का प्रयोग करने से भी मस्से कुछ दिनों में समाप्त हो जाते हैं. इसके लिए आलू को छीलकर उसकी फांक लें और उसे मस्सों पर रगडि़ए. फिर देखिए आपके मस्से कैसे गायब होते हैं.


भांग पीने के ये लाभ जानकर आप रह जाएंगे हैरान!


आज हम भांग को लेकर बात करे तो आपको ये बता दें कि होली के दिन लोग भांग को ठंडाई में मिलाकर सेवन करते है। दरअसल, भांग के सेवन से डोपामीन हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है।
बता दें कि भांग का उपयोग दवा के रूप में भी होता है। इसमें अनेक औषधीय गुण पाए जाते हैं। विश्व में इसका उपयोग काफी तेजी संग बढ़ रहा है क्योंकि यह सस्ता मिल जाता है एवं अधिक नशीला होता है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन बताता है कि भांग के ठीक उपयोग के कई लाभ हैं। भांग आपके सीखने एवं याद करने की क्षमता बढ़ाती है। भांग का उपयोग अनेक मानसिक बीमारियों में भी की जाती है।
जिन्हें एकाग्रता की कमी होती है, उन्हें चिकित्सक इसके सही मात्रा के उपयोग की सलाह देते हैं। जिन्हें बार-बार यूरिन का रोग होता है, उन्हें भांग के उपयोग की सलाह दी जाती है।
किन्तु आपकी जानकारी हेतु बता दें कि इसको बहुत अधिक मात्रा में लेने से आपको नुकसान भी भुगतना पड़ सकता है। यदि इसे काफी अधिक मात्रा में लिया जाता है तो दिमाग  ठीक से काम करना बंद कर सकता है। चिंता में वृद्धि हो जाती है।
हार्ट अटैक की संभावनाएं एवं ब्लडप्रेशर में वृद्धि हो जाती है, आंखें लाल होने लगती है। सांस लेने की दिक्कतें बढ़ सकती है। इसके संग ही औरतों को गर्भधारण करने में भी दिक्कत हो सकती है।


Wednesday, 29 May 2019

थक गए है मोटापे का इलाज कराके तो इस एक चीज सेवन देगा आपको तत्काल फायदा


आजकल मोटापा सबसे बड़ी समस्या बनता जा रहा है मोटापा हर बीमारी की जड़ है।
ऐसे में लोग कई उपाय अपनाते है लेकिन मोटापा है की कम होने का नाम नहीं लेता और मोटापे की वजह से एनर्जी लेवल में भी कमी आ जाती है और महंगी दवाइयों का सेवन शरीर को नुकशान पहुंचाता है।
इसलिए अगर आप मोटापे और गिरते एनर्जी लेवल से परेशान है तो आप एक कप ग्रीन कॉफी का सेवन करे ये एक कप ग्रीन कॉफी आपके मोटापे को तत्काल खत्म करेगी।
क्योंकि इसमें मौजूद तत्व शरीर के मोटापे को घटाने में मदद करते है बल्कि सेहत को भी फायदा पहुंचाते है ग्रीन कॉफी मिनरल्स और विटामिन से भरपूर होती है ग्रीन कॉफी पीने से शरीर की चर्बी कम होती है जिससे आप अपने वजन को बढ़ने से रोक सकते है।
ग्रीन कॉफी में क्रोनॉलोजीकल एसिड काफी मात्रा में होता है, जिससे अगर आप रोजाना ग्रीन कॉफी पीते हैं तो शरीर में मेटाबॉलिज्म ठीक रहता है, इसकी सही मात्रा होने से शरीर में ऊर्जा बनी रहती है और थकावट का एहसास नहीं होता।