Showing posts with label News. Show all posts
Showing posts with label News. Show all posts

Thursday, 13 August 2020

अयोध्या: मस्जिद निर्माण के लिए दान मांगेगा सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड, खोलेगा बैंक अकाउंट


श्री राम जन्मभूमि ट्रस्ट ने राम मंदिर निर्माण में श्रद्धालुओं से सहयोग लेने के लिए क्यू आर कोड सार्वजनिक किया है. तो सुन्नी वक्फ बोर्ड ने भी निर्णय ले लिया है कि वो धन्नीपुर गांव में मिली भूमि पर मस्जिद, अस्पताल और इंडो इस्लामिक कल्चरल सेंटर के लिए चंदा जमा करेगा. इसके लिए बोर्ड कुछ ही दिनों में दो अकॉउंट भी खोल देगा, जिसमें चंदे की राशी दान की जा सकेगी.

2 अकाउंट में जमा होगी मिलने वाली रकम

सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा गठित किए गए इण्डो-इस्लामिक कल्चरल फाउण्डेशन दो बैंक अकाउंट खोलने वाला है. इनमें से एक बैंक खाता केवल मस्जिद के निर्माण के लिए धन एकत्रित करने के लिए होगा. जबकि दूसरे बैंक अकाउंट में मस्जिद परिसर में बनने वाले अस्पताल और रिसर्च सेंटर के लिए धन जमा किया जाएगा.

25 अगस्त को खुल जाएगा अकाउंट

जुटाए जाने वाले धन की सारी जानकारी ऑनलाइन रखने के लिए एक पोर्टल भी बनवाया जाएगा. इस काम के लिए कंपनी भी निर्धारित की जा चुकी है. इस पोर्टल के लिए iicf.com के नाम से डोमेन भी आवंटित करवा लिया गया है. उम्मीद है कि 25 अगस्त तक खुल फाउंडेशन को दोनों बैंक अकाउंट खुल जाएंगे. 

बड़ी खबर: अब बिना PUC गाड़ी चलाने पर लगेगा 10,000 तक जुर्माना


यदि आपके पास वैलिड प्रदूषण नियंत्रण (PUC) प्रमाणपत्र नहीं है, तो अब गाड़ी लेकर सड़क निकलना आपको बेहद महंगा पड़ सकता है। दरअसल, बिना PUC के गाड़ी चलाने पर आपको 10 हजार तक का जुर्माना चुकाना पड़ सकता है। दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार के परिवहन विभाग ने प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों के खिलाफ एक विशेष अभियान आरंभ किया है। इस अभियान के तहत, ऐसे काफी सारे वाहनों के चालान काटे गए जिनके पास वैध पीयूसी प्रमाणपत्र नहीं था।
परिवहन विभाग के एक अधिकारी ने निजी न्यूज़ चैनल को बताया कि, 'हमने दिल्ली में 40 टीमें तैनात की हैं, जो PUC प्रमाणपत्र देखेंगी और प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों का चालान बनाएंगी। ये टीमें दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति द्वारा चिन्हित किए गए 13 पॉल्यूशन हॉटस्पॉट पर फोकस करेंगी। इनमें आनंद विहार, आरके पुरम, जहांगीरपुरी, विवेक विहार, मायापुरी सहित अन्य स्थान शामिल हैं।' उन्होंने आगे कहा कि इन हॉटस्पॉट्स पर हमारी प्रवर्तन टीम की संयुक्त टीमें, DPCC अधिकारी और दिल्ली के ट्रैफिक पुलिसकर्मी लोगों के वाहनों से डीजल और पेट्रोल के नमूने भी ले रहे हैं ताकि उसमें मिलावट और अशुद्धियों की पड़ताल की जा सके।
1 सितंबर, 2019 से दिल्ली में लागू हुए संशोधित मोटर वाहन अधिनियम के तहत वैध PUC प्रमाणपत्र के बगैर वाहन चलाने पर 1,000 रुपये लगने वाले जुर्माने को 10,000 रुपये तक बढ़ा दिया गया था। जुर्माने में दस गुना इजाफे की वजह से दिल्ली के तक़रीबन 1,000 PUC केंद्रों में अचानक भीड़ बढ़ गई थी और परिवहन विभाग ने उस एक माह में 14 लाख PUC प्रमाणपत्र जारी किए थे।

आपके घर भी पहुँच सकता है रहस्यमयी बीजों का पैकेट, सरकार ने जारी की चेतावनी


कृषि मंत्रालय ने रहस्यमयी बीजों के पैकेट को लेकर तमाम राज्यों को चेतावनी जारी की है।  दरअसल पूरी दुनिया में लोगों को मिस्ट्री बीजों के पैकेट प्राप्त हो रहे हैं. भारत में भी लोगों को इस प्रकार के पैकेट मिले हैं. कृषि मंत्रालय के अनुसार, इन बीजों को रोपने से बायोडायवर्सिटी को खतरा पैदा हो सकता है. बताया जा रहा है कि ये बीज मौजूदा फसल को तबाह कर सकते हैं. राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए भी ये बीज बड़ा खतरा पैदा कर सकते हैं. कई देशों को इस किस्म के पैकेट से एग्री टेररिज्म की आशंका जाहिर किया है.
कृषि मंत्रालय ने स्पष्ट कहा है कि ‘अमेरिकी कृषि विभाग (USDA) ने इनके पैकेट पर दिए गए आंकड़ों को घोटाला (ब्रशिंग स्कैम)’’ और ‘‘कृषि तस्करी’’ बताया है. USDA ने यह भी बताया है कि अनचाहे बीज पार्सल में विदेशी आक्रामक प्रजाति के बीज या रोगजनकों या रोग को पेश करने की कोशिश हो सकती है, जो पर्यावरण, कृषि पारिस्थितिकी तंत्र और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा उत्पन्न कर सकते हैं.
इन आशंकाओं के चलते सरकार ने रहस्यमय बीजों के पैकेटस को लेकर अलर्ट जारी किया है. सरकार ने स्पष्ट कहा है कि रहस्यम बीजों का पौधारोपण नहीं होने दे. पूरी दुनिया में लोगों को रहस्य में बीजों के पैकेट मिल रहे हैं. भारत, अमेरिका, जापान के लोगों को पैकेट मिले है. पैकेट में विभिन्न तरह के पौधों के बीज है. ज्यादातर पैकेट चीन से भेजे गए है.

यूपी राज्यसभा चुनाव: भाजपा उम्मीदवार जयप्रकाश निषाद ने भरा पर्चा, निर्विरोध चुना जाना तय


समाजवादी पार्टी नेता बेनी प्रसाद वर्मा के देहांत के बाद रिक्त हुई राज्यसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव के लिए भाजपा प्रत्याशी जयप्रकाश निषाद ने गुरुवार को सीएम योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति में अपना नामांकन दाखिल कर दिया. राज्यसभा उपचुनाव के लिए नामांकन दायर करने का आज ही अंतिम दिन है. जयप्रकाश निषाद का निर्विरोध चुना जाना निश्चित माना जा रहा है. आगामी 24 अगस्त को वोटिंग होगी.
बता दें कि राज्यसभा सदस्य के रूप में जयप्रकाश निषाद का कार्यकाल 5 मई 2022 तक रहेगा. वह गोरखपुर क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष हैं. निषाद बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर 2012 में चौरीचौरा असेंबली सीट से विधायक चुने गए थे. वह सपा में भी रह चुके हैं. जयप्रकाश 2018 में भाजपा में आ गए थे. उत्तर प्रदेश में 2022 विधानसभा चुनाव से पहले विपक्षी दल ब्राह्मण वोटों को रिझाने की कोशिश में लगे हैं.
इसके लिए बकायदा भगवान परशुराम की प्रतिमा लगाने को लेकर भी सपा और बसपा में जुबानी जंग शुरू हो गई है. इस बीच भाजपा ने जयप्रकाश निषाद पर दांव खेलकर पूर्वांचल में अति पिछड़ों में पकड़ सशक्त करने के की रणनीति को आगे बढ़ाया है. आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में निषाद समुदाय की आबादी 14 फीसद के आसपास है, जो गोरखपुर और आसपास की कुछ विधानसभा सीटों पर खासा असर रखते हैं.

15 अगस्त को लाल किले पर खालिस्तानी झंडा फहराने का प्लान, दिल्ली में मचा हड़कंप


एक दिन बाद आने वाले 15 अगस्त को लेकर इंटीलिजेंस ब्यूरो ने बड़ा अलर्ट जारी किया गया है. इसमें कहा गया है कि अमेरिका में रहने वाले सिख फॉर जस्टिस के आकाओं में से एक गुरुवतपंत सिंह पन्नू ने 14, 15 और 16 अगस्त को लाल किले पर खालिस्तान का ध्वज फहराने वाले सिख को सवा लाख डालर देने का ऐलान किया है.
खालिस्तानी आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस के आतंकी गुरुवतपंत सिंह पन्नू का एक वीडियो सामने आया है. हाल ही में गुरुवतपंत सिंह पन्नू को भारत सरकार से डिजिनेटेड टेरररिस्ट घोषित किया गया है. गुरुवतपंत सिंह पन्नू ने घोषणा की है कि जो 15 अगस्त को खालिस्तान का झंडा लाल किले पर फहराएगा, उसे सवा लाख डॉलर का इनाम दिया जाएगा.
पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI के साथ मिलकर गुरुवतपंत सिंह पन्नू रेफरेंडम 2020 का अभियान भी चला रहा है. इस वीडियो के बाद जांच एजेंसियां अलर्ट पर हैं. आपको बता दें कि रेफरेंडम 2020 को लेकर निरंतर दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में लोगों को गुरुवतपंत सिंह पन्नू का ऑटोमेटिक कॉल्स आ रहा है, जिसकी जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) कर रही है. आपको बता दें कि हाल ही में पन्नू का एक और वीडियो सामने आया था, जिसमे दिल्ली को खालिस्तान बनाने की बात कही गई थी। 

गजब की टेक्नोलॉजी से बना है ये हेलमेट, बिना लगाए नहीं होगी आपकी बाइक स्टार्ट, देखें VIDEO

 

सड़क दुर्घटनाओं में ज्यादातर लोगों की मौत दोपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट न पहनने से होती हैं. 2015 से 2016 के बीच 45,500 लोगों की मौत एक्सीडेंट से हुई है. जिसमें से 60% लोग वो हैं जिन्होंने हेलमेट नहीं लगाया था. इन मौतों का आंकड़ा देखते हुए लगता है कि अगर कोई ऐसा हेलमेट आ जाए जिसकों बिना पहने गाड़ी ही ना चले तो एक्सीडेंट में जान गवाने वालों की संख्या में भारी कमी आ जाएगी. आज हम एक ऐसे छात्र के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने ये कारनामा कर दिखाया है.
बीटेक के छात्र हिमांशु गर्ग ने एक ऐसा हेलमेट बनाया है, जिसे पहने बगैर बाइक स्टार्ट ही नहीं होगी. हेलमेट को उतारते ही इंजन खुद ब खुद बंद हो जाएगा. बल्केश्वर के लोहिया नगर निवासी हिमांशु गर्ग आरबीएस कॉलेज का छात्र है. उसने बताया कि मार्च 2014 को उसकी मां जयमाला की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी. वह हेलमेट नहीं लगाए थीं. इसके बाद ही उसने सोच लिया था कि वह कुछ ऐसा कर दिखाएगा, जिससे लोगों की जिंदगी बचाई जा सके. एक साल के प्रयोग के बाद उसने इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस और पल्स सेंसर से लेस एक हेलमेट तैयार किया है.
हिमांशु ने बताया कि हेलमेट की एक डिवाइस को बाइक और स्कूटर के इंजन से जोड़ने पर यह काम करने लगता है. हेलमेट पहनने पर ही बाइक स्टार्ट होगी. अगर, गाड़ी स्टार्ट होने के बाद हेलमेट उतार देंगे तो इंजन खुद ही बंद हो जाएगा. इसके अलावा हेलमेट में ऐसी तकनीक भी है जिसके माध्यम से शराब पीने पर भी गाड़ी स्टार्ट नहीं होगी. मोबाइल चार्ज भी कर सकेंगे. अगर, इस टेकनीक का इस्तेमाल दो पहिया वाहन बनाने में किया जाए तो लोगों को काफी फायदा मिलेगा.

इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर थ्री व्हीलर खरीदने वालों के लिए बड़ी खबर- सरकार ने आसान किए रजिस्ट्रेशन के नियम


इलेक्ट्रिक व्हीकल को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने बिना प्री-फिटेड बैटरी के इलेक्ट्रिक व्हीलक के रजिस्ट्रेशन की अनुमति दी है. यानी इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर और थ्री-व्हीलर व्हीकल की बिक्री और रजिस्ट्रेशन बिना बैटरी के भी हो सकेगा. इलेक्ट्रिक व्हीकल की कुल लागत में बैटरी की कीमत 30 से 40 फीसदी होती है. सरकार के फैसले से इन वाहनों की अपफ्रंट कॉस्ट कम हो जाएगी.
मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के परिवहन सचिवों को लिखे पत्र में स्पष्ट किया है कि टेस्ट एजेंसी द्वारा जारी किए गए प्रकार अनुमोदन प्रमाण पत्र के आधार पर बिना बैटरी के वाहनों को बेचा और पंजीकृत किया जा सकता है. इसके अलावा, रजिस्ट्रेशन के उद्देश्य के लिए मेक / टाइप या बैटरी के किसी अन्य विवरण को निर्दिष्ट करने की आवश्यकता नहीं है. हालांकि, इलेक्ट्रिक व्हीकल के प्रोटोटाइप और बैटरी को केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 के नियम 126 के तहत निर्दिष्ट परीक्षण एजेंसियों द्वारा अनुमोदित किया जाना आवश्यक है.
सरकार देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल को बढ़ाने के लिए एक इकोसिस्टम बनाने का प्रयास कर रही है. वाहनों के प्रदूषण और तेल आयात बिल को कम करने के लिए व्यापक राष्ट्रीय एजेंडा को प्राप्त करने के लिए संयुक्त रूप से काम करने का समय आ गया है. यह न केवल पर्यावरण की रक्षा और आयात बिल को कम करेगा बल्कि उभरते हुए उद्योग को अवसर प्रदान करेगा.
इलेक्ट्रिकल टू व्हीलर और थ्री व्हीलर वाहनों को बढ़ावा देने के लिए मंत्रालय ने वाहन लागत से बैटरी की लागत को अलग करने की सिफारिश की थी. इस तरह दोपहिया और तिपहिया इलेक्ट्रिक वाहनों को बाजार में बिना बैटरी के बेचा जा सकता है. इससे इलेक्ट्रिकल 2 व्हीलर और 3 व्हीलर्स की अपफ्रंट कॉस्ट ICE 2 और 3W से कम हो जाएगी. बैटरी को अलग से OEM या एनर्जी सर्विस प्रोवाइडर द्वारा उपलब्ध कराया जा सकता है.

ऑटो रिक्शा चालक मोहम्मद हबीब ने 1.4 लाख रुपये से भरा बैग यात्री को लौटाया

 

ईमानदारी की एक ऐसी मिसाल सामने आई है जिससे साबित होता है कि देश-दुनिया में ईमानदारी और सच्चाई आज भी जिंदा है। हैदराबाद में ऑटो रिक्शा चालक मोहम्मद हबीब ने कोरोना महामारी के बीच ईमानदारी की मिसाल पेश करते हुए 1.4 लाख रुपये से भरा बैग यात्री को वापस कर दिया।
दरअसल, हर दिन की तरह दो बच्चों के पिता मोहम्मद हबीब अपने परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिए अपना ऑटो रिक्शा लेकर घर से निकले। सिद्दीम्बर बाजार क्षेत्र के पास दो महिलाओं को छोड़ने के बाद वह लगभग 2.30 बजे तक तडबन लौट आए। जब वह पानी की बोतल के लिए यात्री की सीट के पीछे देखा तो वहां पर उन्हें एक बैग दिखाई दिया। इस बैग के अंदर क्या हो सकता है, यहीं सोचकर वह वापस वहां गए जहां उन्होंने पिछली यात्रियों को छोड़ा था। वहां पहुंचने के बाद उन्होंने बैग खोला तो उसे देखकर वह दंग रह गए, क्योंकि उसमें बहुत सारे पैसे रखे हुए थे।
इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, ऑटो रिक्शा चालक मोहम्मद हबीब ने बताया कि, “चूंकि यात्रियों का पता लगाने के लिए उसमें कोई चीज नहीं था, इसलिए उन्होंने स्थानीय पुलिस स्टेशन से संपर्क करना सबसे अच्छा समझा।” मोहम्मद हबीब अपनी पत्नी, बेटी और बेटे के साथ हसन नगर में रहता है।
कालापत्थर पुलिस स्टेशन में पुलिस अधिकारियों को जब बैग खोला तो उसमें उन्हें 1.4 लाख रुपये मिले। स्टेशन हाउस अधिकारी (SHO) एस सुदर्शन के अनुसार, आयशा नाम की यात्री ऑटो रिक्शा में अपना बैग भूल गई थी और हबीब के पुलिस स्टेशन पहुंचने से पहले उसने इस मामले को लेकर पुलिस से संपर्क किया था।
एसएचओ ने कहा, “यात्री बैग को भूल गए थे और ड्राइवर ने इसे नहीं देखा था। जब उसने बैग देखा तो उसके बाद वह यात्री को खोजने की बहुत कोशिश की, लेकिन जब वह नहीं मिले तो उसके बाद वह लगभग 4 बजे तक हमारे पास आया। बैग खोने वाली महिला भी तब तक पुलिस स्टेशन पहुंच गई थी।” उन्होंने कहा, “इस मामले में उस समय तक कोई शिकायत नहीं लिखी गई थी। दोनों ने एक-दूसरे को पहचान लिया और नकदी से भरा बैग यात्री को सौंप दिया गया।”
ईमानदारी की मिसाल पेश करने वाले हबीब को महिलाओं ने 5,000 रुपये से सम्मानित किया। वहीं, एसएचओ ने हबीब को शाल और माला पहनाकर सम्मानित किया। हबीब ने कहा, “वे अपना पैसा पाकर बहुत खुश थे। उन्होंने मुझे बहुत धन्यवाद दिया।”

Life Insurance Policy पर भी मिलता है आसानी से लोन, ऐसे करें ऑनलाइन अप्लाई


कोरोना वायरस के चलते वैसे ही लोगों को कई तरह की आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में बहुत से लोग लोन लेकर अपना समय काट रहे हैं, क्योंकि उनके पास आय के साधन फिलहाल पूरी तरह से खत्म हो गए हैं. अगर आप लोन लेने की सोच रहे हैं और आपके पास पहले से किसी भी कंपनी की लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी है तो फिर इसका फायदा उठाकर कम ब्याज पर लोन लिया जा सकता है. इंश्योरेंस कंपनियों के अलावा बैंक और एनबीएफसी पॉलिसी के बदले लोन देते हैं.
लाइफ इंश्योरेंस कंपनी एलआईसी भी अपने ग्राहकों को पॉलिसी के बदले लोन की सुविधा दे रही है. इसमें ब्याज दर सिर्फ नौ फीसदी है. इसके लिए आप ऑनलाइन भी अप्लाई कर सकते हैं.
इंश्योरेंस पॉलिसी के बदले लोन की अमाउंट पॉलिसी के और उसकी सरेंडर वैल्यू पर निर्भर होती है. लोन का अमाउंट पॉलिसी की सरेंडर वैल्यू का 80 से 90 फीसदी तक हो सकती है. हालांकि, इसमें कुछ शर्तें होती हैं. इतना कर्ज आपको उसी स्थिति में मिलेगा जब आपके पास मनी बैक या एंडाउमेंट पॉलिसी है.
सबसे अच्छी बात है कि यह लोन आपको चुकाने की जरूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि, पॉलिसी मैच्योर होने पर लोन का अमाउंट कंपनी काट लेगी और बचे हुए पैसे आपको वापस कर दिए जाएंगे. ऐसे में आपको सिर्फ लोन का ब्याज चुकाना होगा. कुछ इंश्योरेंस कंपनियां लोन की रकम तय करने के लिए यह देखती हैं कि आपने कितना प्रीमियम चुकाया है. ऐसे में वह चुकाए गए प्रीमियम का 50 फीसदी तक कर्ज देने को तैयार होती हैं.
इंश्योरेंस पॉलिसी पर लोन के लिए ज्यादा डाक्यूमेंट्स की जरूरत नहीं होती है. इसमें अप्लाई फार्म के साथ आपको लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी के सभी जरूरी ओरिजिनल डॉक्यूमेंट जमा करने होते हैं. लोन का अमाउंट प्राप्त करने के लिए एक कैंसिल चेक अप्लाई फार्म के साथ लगाना होगा. यह चेक नाम, अकाउंट नंबर आईएफसी कोड की सही जांच के लिए लगाया जाता है. इंश्योरेंस पॉलिसी के बदले लोन लेने पर एक Letter of contract पर भी हस्ताक्षर करना होता है.

मुंबई में मिला दुर्लभ प्रजाति की व्हेल शार्क का शव, मछुआरों के जाल में फंस गई थी


मुंबई में एक शार्क का शव मिलने से राज्य सरकार सकते में है. बुधवार 12 अगस्त को शहर के सैसन डॉक में एक व्हेल शार्क का शव पाया गया, जिसके बाद राज्य सरकार का फिशरीज डिपार्टमेंट और मैंग्रोव सेल हरकत में आ गए. दोनों विभाग मिलकर इस घटना की जांच कर रहे हैं, कि खतरे में पड़ी इस प्रजाति की मछली की मौत कैसे हुई.
वहीं एक रिपोर्ट के मुताबिक, यह शार्क मछुआरों के जाल में फंस गई थी और इस दौरान उसने जाल से बाहर निकलने की कोशिश की लेकिन असफल रही और उसकी मौत हो गई.
बताया जा रहा है कि यह शार्क 8 मीटर लंबी और करीब 2 हजार किलो वजनी है. ये प्रजाति शार्क मछलियों में सबसे लंबी होती हैं और इन्हें एन्डेंजर्ड स्पेशीज यानी विलुप्ति की कगार पर मौजूद प्रजातियों में रखा गया है.
भारत में व्हेल शार्क को वाइल्डलाइफ एक्ट 1972 के तहत संरक्षित प्रजातियों में शामिल किया गया है और इनके शिकार या पकड़ने को गैरकानूनी माना गया है.
व्हेल शार्क का दुनियाभर में काफी शिकार होता रहा है. इनके शिकार के पीछे बड़ा कारण है इनसे मिलने वाला लिवर ऑइल. इसका इस्तेमाल कई तरह की दवाईयों के निर्माण में होता है. खास तौर पर कैंसर के मरीजों के बनाई जाने वाली दवाओं में इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता है.

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं, अभी वेंटिलेटर पर ही रहेंगे


पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की हालत स्थिर बताई जा रही है. सेना के अस्पताल ने बयान जारी कर बताया कि मुखर्जी की हालत अभी स्थिर है और अभी उन्हें वेंटिलेटर पर ही रखा जा रहा है. पूर्व राष्ट्रपति कोरोनावायरस से संक्रमित पाए गए हैं. सोमवार को उनके मस्तिष्क की सर्जरी की गई थी. जिसके बाद से वह वेंटिलेटर पर हैं.
आर्मी रिसर्च एंड रेफरल हॉस्पिटल ने आज सुबह प्रणब मुखर्जी के स्वास्थ्य के बारे में बयान जारी करते हुए कहा, 'श्री प्रणब मुखर्जी की हालत स्थिर है. वह अचेतन अवस्था में हैं और उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया है.' प्रणब मुखर्जी के बेटे अभिजीत मुखर्जी और बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने आज सुबह पूर्व राष्ट्रपति से जुड़ी सभी अफवाहों व फर्जी खबरों का खंडन किया.
अभिजीत मुखर्जी ने बुधवार को कहा था कि रक्त प्रवाह के लिहाज से उनके पिता की हालत स्थिर है. उन्होंने ट्वीट के जरिए यह जानकारी दी थी. उन्होंने लिखा, 'आप सबकी प्रार्थनाओं से अब मेरे पिता हेमोडाइनेमिकली स्थिर हैं. मैं आप सबसे गुजारिश करता हूं कि अपनी प्रार्थनाएं जारी रखें और मेरे पिता के जल्दी ठीक होने के लिए दुआएं कीजिए.'
दो दिन पहले प्रणब मुखर्जी की इमरजेंसी ब्रेन सर्जरी की गई थी. दिल्ली के आर्मी हॉस्पिटल में उनका इलाज चल रहा है. अस्पताल ने बुधवार सुबह उनका हेल्थ बुलेटिन जारी करते हुए कहा था कि प्रणब मुखर्जी हेमोडाइनेमिकली स्थिर हैं और वेंटिलेटर पर है.

घर के अंदर छिपा बैठा था इतना बड़ा किंग कोबरा, मुंह पकड़ा तो झपटा और फिर... देखें भयानक Video


अगर आप कोबरा या किसी अन्य सांप को देखकर डर जाते हैं तो यह वीडियो आपके रोंगटे खड़ा कर सकता है. उत्तराखंड में एक घर के अंदर एक बड़ा सा किंग कोबरा जाकर बैठ गया. वीडियो में वन विभाग की रैपिड रिस्पांस टीम द्वारा नैनीताल के एक घर से अजगर को पकड़ा गया है. यह अजगर टेबल के नीचे छिपा बैठा था. इस वीडियो को देखकर आप भी हैरान रह जाएंगे. सोशल मीडिया पर यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है.
क्लिप को ट्विटर पर भारतीय वन सेवा के अधिकारी आकाश कुमार वर्मा द्वारा साझा किया गया था, जिन्होंने इसका श्रेय DFO नैनीताल को दिया. वीडियो में देखा जा सकता है कि टेबल के नीचे कोबरा बैठा है. सांप पकड़ने वाला पहुंचता है और स्टिक के जरिए उसको पकड़ लेता है फिर छत पर लाता है और बोरे में डाल देता है. एक वक्त ऐसा आया, जहां कोबरा पकड़ने वाले के गले से लिपट गया. लेकिन रेस्क्यू टीम ने सही सलामत उसको रेस्क्यू कर लिया. आकाश ने इस वीडियो को 11 अगस्त को शेयर किया था
वर्मा ने किंग कोबरा के बारे में एक अपडेट भी पोस्ट किया. इस वीडियो में सांप पकड़ने वाला जंगल में कोबरा को छोड़ रहा है. वीडियो में देखा जा सकता है कि जैसे ही शख्स बोरी खोलता है तो अजगर तेजी से जंगल की ओर निकल रहा है.



दिल्ली में 'नदी' बनीं सड़कें, बैलगाड़ी पलटी, छपाक से गिर गए लोग - देखें Video


राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में रातभर बारिश के बाद बृहस्पतिवार सुबह भी बारिश जारी रही, जिससे शहर के कई हिस्सों में पानी भर गया. नार्थ दिल्ली के ज़ख़ीरा अंडरपास और तुगलकाबाद अंडरपास बारिश के पानी से भर गया. वहां लोगों को अंडरपास पार करने में काफी परेशानी हो रही है. तुगलकाबाद अंडरपास में इतना पानी भर गया कि लोगों को पार करने के लिए बैगगाड़ी करनी पड़ी. बैलगाड़ी का भी संतुलन बिगड़ा और लोग नीचे गिर गए.
नार्थ दिल्ली के ज़ख़ीरा अंडरपास में भी जलभराव के कारण कार डूबने से बाल-बाल बची, कार चालक को समय रहते पानी के अंदर फंसे कार से लोगो ने बचाया नही तो मिंटो ब्रिज अंडरपास जैसा हादसा हो सकता था. रात भर हुई बारिश के कारण सुबह जखीरा अंडरपास के नीचे काफी पानी जमा हो गया जिसमें एक डीटीसी की बस ओटो,ट्रैक्टर और कार जलभराव के बीच फंस गया. कार ,पानी में फसे ऑटो को तो लोगो ने निकाल दिया है जबकि बस अभी भी फसी हुई है.
भारत मौसम विज्ञान विभाग ने दिल्ली में आज भी बारिश जारी रहने का पूर्वानुमान व्यक्त किया है. आईएमडी के अनुसार सुबह साढ़े पांच बजे तक पालम वेधशाला में 86 और सफदरजंग मौसम केन्द्र में 42.4 मिमी बारिश दर्ज की गई.

सड़क किनारे बच्चे ने की जसप्रीत बुमराह जैसी बॉलिंग, क्रिकेटर ने दिया ऐसा रिएक्शन... देखें Video


टीम इंडिया के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह अपने एक्शन और तेजी गेंदबाजी के लिए फेमस हैं. कई नए बॉलर्स के लिए वो प्रेरणा हैं. दुनिया भर के बच्चे जसप्रीत बुमराह की अनूठी गेंदबाजी की नकल करने की कोशिश करते हैं. भारत, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और पाकिस्तान के बच्चे भारत के सुपरस्टार के एक्शन करने से वायरल हुए.
पिछले साल जसप्रीत बुमराह ने अपनी गेंदबाजी शैली की नकल करते हुए एक ऑस्ट्रेलियाई लड़के की एक क्लिप देखने के बाद रिएक्ट किया था. बुधवार को जसप्रीत बुमराह की जैसी गेंदबाजी कर रहे बच्चे का वीडियो सामने आया. जिसको देखकर जसप्रीत बुमराह हैरान रह गए. उन्होंने बच्चे की तारीफ की. वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है.
बच्चे का बॉलिंग एक्शन बुमराह की गेंदबाजी से इतना मिलता-जुलता था कि वो खुद देखकर हैरान रह गए. उनको इंटरनेट पर बच्चे का वीडियो दिखा और रिएक्ट किया. उन्होंने बच्चे को प्रोत्साहन दिया और ट्वीट को रि-ट्वीट किया.
वीडियो में देखा जा सकता है कि बच्चा सड़क किनारे खड़ा है और जसप्रीत बुमराह के एक्शन की कॉपी करते हुए बॉलिंग कर रहा है.यह वीडियो काफी वायरल हो रहा है. जसप्रीत बुमराह ने लिखा, 'बच्चे का भविष्य उज्ज्वल दिखता है. लगे रहो.'इस वीडियो को 11 अगस्त को शेयर किया गया था

Wednesday, 12 August 2020

अध्यापक के निधन के बाद भी मिलता रहा वेतन, इतना भी नहीं किया गया इंक्रीमेंट


देश के सबसे बड़े राज्य यूपी में सरकार शिक्षा व्यवस्था को दुरुस्त करने को लेकर निरन्तर कोशिश कर रही है, किन्तु सरकार के नुमाइंदे ही गवर्मेंट की छवि धूमिल करने पर आमादा हैं. हाल ही प्राप्त हुआ मामला यूपी के पीलीभीत जनपद का है, जहां दो वर्ष पूर्व एक अध्यापक का निधन हो गया था. इसके बाद भी एजुकेशन डिपार्टमेंट उन्हें वेतन प्रदान करता रहा. केवल इतना ही नहीं मृतक अध्यापक का इन्क्रीमेंट भी लगा दिया गया.
वही केस सामने आने के पश्चात् एजुकेशन डिपार्टमेंट में हंगामा मचा हुआ है. अफसर लीपापोती में लगे हुए हैं. दरअसल, पूरा केस यह है कि दो वर्ष पूर्व भगवान को प्यारे हो चुके गुरुजी को एजुकेशन डिपार्टमेंट दो वर्ष तक निरंतर वेतन देता रहा. इतना ही नहीं, खंड एजुकेशन ऑफिसर अपनी कुंभकरण की नींद में सोए रहे, तथा भगवान को प्यारे हो चुके गुरु जी का इंक्रीमेंट भी लगा दिया गया. यह बात जब मीडिया के सामने आई, तो डिपार्टमेंट में अफरा-तफरी मच गई. सभी अफसर केस को दबाने में लग गए.
बता दे की पीलीभीत के बिलसंडा ब्लॉक के प्राथमिक स्कूल में अरविंद कुमार ने 5 नवंबर 2015 को शिक्षक कार्य का पद ग्रहण किया, तथा 1 वर्ष पश्चात् 22 मई 2016 को शिक्षक की मृत्यु हो गई. किन्तु मई 2016 में शिक्षक की मौत के पश्चात् भी एजुकेशन डिपार्टमेंट भगवान को प्यारे हो चुके, गुरु जी को नवंबर 2018 तक उनकी सैलरी पूर्व की तरह ही देता रहा. केवल इतना ही नहीं खंड शिक्षा अफसर ने इंक्रीमेंट भी लगा दिया. वही अब पुरे मामले की जाँच की जा रही है.

पीएम मोदी का बड़ा ऐलान, करदाताओं को मिलेगा इनाम


पीएम नरेंद्र मोदी गुरूवार को ईमानदारी से टैक्स चुकाने वालों के लिए 'पारदर्शी कराधान - ईमानदार का सम्मान' नामक एक मंच का आरंभ करने का निर्णय किया है. वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए से होने वाले इस कार्यक्रम में केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण और वित्त एवं कॉरपोरेट काम राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर भी मौजूद रहेंगे.
पीएम दफ्तर की तरफ से ए​क विशेष बयान जारी किया गया है. जिसमें कहा गया कि आयकर महकमें के अफसरों एवं पदाधिकारियों के अलावा विभिन्न वाणिज्य मंडलों, व्यापार संघों एवं चार्टर्ड अकाउंटेंट संघों के साथ-साथ जाने-माने करदाता भी इस कार्यक्रम में सम्मिलित होंगे. बयान में कहा गया, 'पीएम पारदर्शी कराधान - ईमानदार का सम्मान के लिए जो प्लेटफॉर्म लॉन्च करेंगे वह प्रत्यक्ष कर सुधारों की यात्रा को और भी आगे ले जाएगा.'
बता दे कि केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने हाल के सालों में प्रत्यक्ष टैक्स में कई प्रमुख या बड़े बदलाव किए हैं. बीते साल कॉरपोरेट कर की दर को 30 प्रतिशत से घटाकर 22 प्रतिशत कर दिया गया  है. वही, नई विनिर्माण इकाइयों के लिए इस दर को और भी ज्यादा घटाकर 15 प्रतिशत कर दिया गया. 'लाभांश वितरण कर' को भी हटा दिया गया. वही, बयान में बताया गया कि कर सुधारों के तहत टैक्स की दरों में कमी करने और प्रत्यक्ष कर कानूनों के सरलीकरण पर फोकस रहा है. आयकर विभाग के कामकाज में दक्षता और पारदर्शिता लाने के लिए भी सीबीडीटी द्वारा कई पहल की गई हैं.लंबित कर विवादों का हल प्रदान करने के मकसद से आयकर महकमें ने प्रत्यक्ष कर 'विवाद से विश्वास अधिनियम, 2020' भी प्रस्तुत किया है. जिसके मुताबिक वर्तमान में विवादों को निपटाने के लिए ऐलान किए जा रहे है.

सुशांत केस में CBI जांच पर बोले शरद पवार- 'मुझे मुंबई पुलिस पर भरोसा है 50 साल से जानता हूं...'


एक्टर सुशांत सिंह राजपूत अब इस दुनिया में नहीं है. वहीं उनके केस में दिन पर दिन नए खुलासे हो रहे हैं. ऐसे में हाल ही में सुशांत के केस में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी  चीफ शरद पवार ने कहा कि, 'मुझे मुंबई पुलिस पर पूरा भरोसा है. मैं मुंबई पुलिस को 50 साल से जानता हूं. जो भी चीजें हो रही हैं और जो भी चर्चाएं की जा रही हैं, वह सही नहीं है. यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना है कि किसी ने आत्महत्या कर ली, लेकिन कोई किसानों की खुदकुशी की चर्चा नहीं कर रहा है.'
जी दरअसल हाल ही में एनसीपी चीफ शरद पवार ने अपनी चुप्पी तोड़ी है. सुशांत केस में उन्होंने कहा कि, 'इन सब चीजों के बाद भी अगर कोई सुशांत केस की सीबीआई जांच की मांग करता है तो मैं उसका विरोध नहीं करूंगा.' जी दरअसल डिप्टी सीएम अजित पवार के बेटे पार्थ पवार की तरफ से सीबीआई जांच की मांग पर शरद पवार ने बात की. इस दौरान उन्होंने कहा कि 'वह अपरिपक्व हैं, मैं उनके बयान पर कोई भी प्रतिक्रिया नहीं देना चाहता हूं.' वैसे अगर आपको याद हो तो शरद पवार से पहले एनसीपी नेता माजिद मेमन ने भी सुशांत केस में मीडिया की ओर से उठाए जा रहे इस सवालों पर ही कई सवाल खड़े किए हैं. उन्होंने कहा था कि, 'सुशांत अपने जीवनकाल के दौरान उतने प्रसिद्ध नहीं थे, जितने कि अपनी मौत के बाद हो गए.'
उन्होंने यह भी कहा था, 'प्रधानमंत्री और अमेरिकी राष्ट्रपति से कहीं ज्यादा इस समय मीडिया सुशांत को स्पेस दे रहा है. जब कोई अपराध जांच चरण में होता है, तो गोपनीयता को बनाए रखना पड़ता है. महत्वपूर्ण साक्ष्य एकत्र करने की प्रक्रिया में हर पहलू को सार्वजनिक करना सच्चाई और न्याय के हित पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है.' वैसे आप जानते ही होंगे सुशांत का केस दिन पर दिन तेज गति से बढ़ता चला जा रहा है. इस केस में जांच जारी और अब इस केस की जांच सीबीआई द्वारा की जा रही है. खबरें हैं सीबीआई जल्द इस केस के बड़े राज और असली पहलु को खोलकर रख देगी.

अस्पताल में एडमिट पति से मिलने के लिए पत्नी वही पर करने लगी बर्तन धोने की नौकरी


दरअसल इस किस्से में एक शख्स की तबीयत खराब थी, तो उसे अस्पताल में दाखिल करवाया गया. वहीं जब इस दौरान उनकी वाइफ उनसे मिल नहीं सकती थी वाइफ ने एक नया तरीका निकाला. जी दरअसल जब युवक अस्पताल में एडमिट हुआ तो लॉकडाउन लग गया और उसके बाद मरीजों से बाहर से शख्स को नहीं मिलने दिया गया.
ऐसे में युवक की पत्नी ने अपने पति से मिलने के लिए एक तरकीब निकाली. जी दरअसल वह अस्पताल में बर्तन धोने की जॉब करने लगी. वैसे अगर आप सोच रहे हैं यह बहुत आसान है तो आप गलत सोच रहे हैं क्योंकि यह बिलकुल आसान नहीं था. आइए बताते हैं पूरा किस्सा. जी दरसल एक खबर के मुताबिक, यह मामला अमेरिका के फ्लोरिडा का है. इस मामले में Mary Daniel ने अपने पति स्टीव को 104 दिनों से नहीं देखा था और Mary का पति स्टीव नर्सिंग होम में हैं.
इस दौरान Mary ने पहले अस्पताल में बतौर वॉलंटियर काम करने को लेकर बात की लेकिन इस दौरान जब बात नहीं बानी तो वह बर्तन धोने को तैयार हो गई. जी हाँ, इस किस्से में मिली जानकारी के मुताबिक कि 7 साल पहले स्टीव को अल्जाइमर हुआ था और यह डायग्नोस होने के बाद मैरी ने स्टीव से और खुद से ये वादा किया था कि 'वो अपने पति से कभी अलग नहीं होंगी.' इस बारे में Mary ने एक वेबसाइट से बात की. उन्होंने कहा, ‘स्टीव मुझसे महज 8 किलोमीटर दूर है लेकिन मैं उससे मिल नहीं सकती.’ मैरी ने हालांकि सोशल मीडिया पर कई तरह के पोस्ट किए, गर्वनर से भी गुहार लगाई कि वो बस अपने पति के पास होना चाहती हैं ताकि उसे अच्छा लगे और वो जल्द ठीक हो जाए. लेकिन कुछ नहीं हुआ.'
आगे Mary ने बताया 'फिर एक दिन नर्सिंग होम से कॉल आया. वहां एक पार्ट टाइम डिशवॉशर की जरूरत थी. मैंने तुरंत हां भर दी. पहले मेरी टर्निंग हुई. अब मैं हफ्ते में दो दिन अपनी जॉब के साथ-साथ नर्सिंग होम में भी जॉब करती हैं. मैं अपने पति के लिए वो सबकुछ कर रही हूं जो मैं करने में सक्ष्म हूं. आज कई लोग अपनों से दूर अकेले दुनिया को अलविदा कह रहे हैं, इससे बुरा भला क्या होगा.' इस किस्से को सुनकर ऐसा लग रहा है मानो प्यार दुनिया में सबसे खूबसूरत है.

स्वतंत्रता दिवस : तिरंगे से जुड़ीं 9 ख़ास बातें, जरूर जाने इसे फहराने के कायदे-कानून


हर साल भारत अपना स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त को मनाता है. इस दिन लाल किले से देश के प्रधानमंत्री तिरंगा फहराते हैं और देश को संबोधित करते हैं. तिरंगे को लहराते हुए देखते ही हर भारतीय का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है. तिरंगे को लेकर कई तरह के नियम भी बनाए गए हैं, आइए उनके बारे में जानते हैं...

1- सूर्योदय के बाद और सूर्यास्त के पहले ही तिरंगा फहराया जाता है.

2- तिरंगा हवा में बिलकुल सीधा लहराता है. इसे झुकाया नहीं जा सकता है. आदेश के बाद जरूर तिरंगे को आधा झुकाया जा सकता है.

3- तिरंगे को बहुत आदर प्रदान किया जाता है. न तो तिरंगा पानी में डूबाया जा सकता है और न ही इसे जमीन पर रखा जा सकता है. वहीं मौखिक या शाब्दिक रूप से इसका अपमान करने पर 3 साल की जेल या जुर्माने का प्रावधान भी है.

4 - हमारा राष्ट्रीय ध्वज सदा आयताकार होना चाहिए. वहीं इसकी लंबाई और चौड़ाई का अनुपात 3:2 होना अनिवार्य है.

 5 - कॉटन, सिल्क या फिर खादी के तिरंगे मान्य होते हैं. हालांकि कई बार कागज के तिरंगे भी देखें जाते हैं.

6 - जब भी आप तिरंगा फहराए तो इसके लिए एक उंचें स्थान का चयन करें. अपने आस-पास ऊँचें स्थान पर तिरंगा फहराना बेहतर होगा.

7 - तिरंगा फहराते समय ध्यान रहें कि तिरंगा फटा हुआ या फिर मैला-कुचैला न हो.

8 - यदि तिरंगा फटा हुआ या मैला या उपयोग लायक न हो तो उसे एकांत में अग्नि की मदद से जला देना चाहिए. आप चाहे तो तिरंगे को किसी पवित्र नदी में जल समाधि भी दें सकते हैं. ऐसा करने से तिरंगे की गरिमा को ठेस नहीं पहुंचती है.

9 - तिरंगे को हम वस्त्र के रूप में धारण नहीं कर सकते हैं. साथ ही अंडरगार्मेंट्स, रुमाल या कुशन आदि के रूप में तिरंगे का इस्तेमाल अपमानजनक और अपराध है. 

जूतों में छिपकर बैठा था सांप, ऐसे बनाया एसपी को शिकार


मंगलवार की दोपहर एक गंभीर घटना क्रम घटा है. जिसमें पन्ना के एसपी मयंक अवस्थी को सांप ने काट लिया. घटना उस वक्त हुई जब एसपी निवास से दफ्तर जा रहे थे, और उन्होंने जूते पहनने के लिए उठाए. सांप जूते के अंदर बैठा था. इसके बाद उन्हें जबलपुर रैफर किया गया, यहां उनकी हालत सामान्य है. किन्तु चिकित्सकों ने उन्हें 48 घंटे आब्जर्वेशन में रहने की बात कही है. उम्मीद की जा रही है, कि जल्द ही उनकी स्थिति सामान्य हो जाएगी. 
माना जा रहा कि सर्प उनके जूते में बैठा था. मोजो को जूते से निकालने के लिए उन्होंने जैसे ही जूते में हाथ डाला, तो उन्हें लगा कि भीतर कुछ है. उसके पश्चात उन्होंने जूते के भीतर देखा तो एक छोटा सांप बैठा था. हाथ डालते ही वह फुंफकारने लगा. जूते के भीतर एसपी का हाथ सांप से टच हुआ था. सांप नजर आने के बाद उन्हें लगा कि डस लिया है. क्योंकि एसपी के हाथ में जलन होने लगी है. उसके पश्चात तुरंत उन्होंने अपने स्टाफ को जानकारी  दी.
बता दे कि एसपी अवस्थी ने तुरंत जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन को सूचना दी. उसके पश्चात पन्ना जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन डॉ. वीएस उपाध्याय उनके निवास पर पहुंचे. यहां एसपी की पड़ताल प्रारंभ की गई. शुरुआती जांच में उन्हें सांप काटने के कोई लक्षण नहीं मिले. घंटेभर डॉक्टरों का दल एसपी की हेल्थ की देखरेख कर रहा है. जिसके पश्चात उन्हें टेस्ट के लिए जबलपुर रैफर कर दिया गया.