Showing posts with label News. Show all posts
Showing posts with label News. Show all posts

Monday, 17 June 2019

4 गोलगप्पे की कीमत उड़ा देगी आपके भी होश, खाने के पहले सोचेंगे सौ बार


आज हम बात कर रहे हैं दिल्ली की ही एक जगह की. दिल्ली में एक जगह ऐसी भी है जहां 10-20 रुपये में बिकने वाले गोलगप्पों की कीमत 750 रुपये है. पानी-पूरी का यह स्पेशल रेस्टोरेंट नई दिल्ली एयरोसिटी में है. यहां गोलगप्पे की एक प्लेट का रेट 750 रुपये है, जिसमें सिर्फ चार गोलगप्पे मिलते हैं. यानी एक गोलगप्पा आपका करीब 187 रुपये का पड़ेगा. अब शायद ही कोई ऐसे गोल गप्पे खता होगा.

वैसे आपको बता दें, तो इन गोलगप्पों का रेट 600 रुपये है, लेकिन 18 प्रतिशत जीएसटी लगने के बाद गोलगप्पे की एक प्लेट का रेट 708 रुपये हो जाता है. इसके ऊपर रेस्टोरेंट अलग से कुछ चार्ज लेता है जिसके बाद इसकी कीमत 750 रुपये हो जाती है. वैसे तो यह गोलगप्पा दिखने में एकदम साधारण है. गोलगप्पे के अंदर भरा स्टफ आलू, खट्टी-मीठी चटनी, छोले और दही होती है. इसके साथ ही जायके के लिए कैवियर इनिटेशन दिया जाता है, जो उसके स्वाद को थोड़ा अलग बनाने का काम करता है.

नासा का दावा, चाँद से लाइ हुई मिटटी और पत्थर से खुले ब्रम्हांड के कई राज़


आज से तक़रीबन 50 वर्ष पूर्व नासा के मिशन अपोलो 11में सवार अंतरिक्ष वैज्ञानिक नील आर्मस्ट्रांग द्वारा एकत्रित की गई चांद की मिट्टी और पत्थर के नमूनों ने ब्रह्मांड की हमारी समझ को बदलने में हमारी काफी सहायता की है।

अब उन्होंने कहा है कि इन सभी नमूनों ने ब्रह्मांड को समझने में हमारी काफी सहायता की है। नासा के एक खगोल वैज्ञानिक सैमुअल लॉरेंस ने इस बात का दावा  किया है। नासा के खगोल वैज्ञानिक सैमुअल लॉरेंस के अनुसार चांद पर मिले ये पत्थर पृथ्वी पर सबसे मूल्यवान चीजों में से एक हैं। ह्यूस्टन के जॉनसन स्पेस सेंटर में कार्य करने वाले लॉरेंस ने मीडिया को दिए एक साक्षात्कार में बताया कि, 'चांद पर मिलने वाला पत्थर सौरमंडल के रोसेटा स्टोन हैं। यह खगोल विज्ञान का आधार है।

हालांकि लोगों को इस बात की प्रशंसा करनी चाहिए कि अपोलो मिशन से आए नमूनों का अध्ययन करना सौरमंडल और हमारे चारों तरफ के ब्रह्मांड को समझने के लिए कितना अहम् था। खगोल विज्ञान में कई खोज जो हम कर पाए न सिर्फ चंद्रमा बल्कि बुध, मंगल ग्रह और कुछ क्षुद्र ग्रहों पर भी, ये सभी शोध सीधे अपोलो मिशनों के दौरान प्राप्त हुए कुछ नतीजों से संबंधित हैं।'

Sunday, 16 June 2019

स्कूलों का कर्ज चुकाने के लिए 2 बहनों ने किया ऐसा काम, सोशल मीडिया पर हुई वायरल


नार्थ कैरोलिना में रहने वाली दो बहनें 13 साल की हेली और 11 साल की हन्ना हैगर नींबू पानी का स्टाल लगाकर 41 हजार डॉलर (करीब 28 लाख रुपए) जुटाने की कोशिश कर रही हैं. कई बार ऐसा होता है कि पढ़ने की चाह रखने वालों के पास इतने पैसे नहीं होते कि वो पढ़ सके. उसी के कारण इन दोनों बहनों को ये कदम उठाना पड़ा. इनका मकसद जिले के स्कूलों के उस कर्ज को चुकाना है जो बच्चों के खाने का इंतजाम करते हैं.
हेली और हन्ना की मां एरिन हैगर का कहना है कि पहले यह दोनों बहने अपने दादा के अस्पताल के लिए पैसा जुटाना चाहती थीं, लेकिन जब उनकों पता चला कि जिले के तमाम स्कूल सरकार के 28 लाख के कर्जदार हैं. उसके बाद उन्होंने इस कर्ज को चुकाने का बीड़ा उठाया. जिले के स्कूलों की बात की जाए तो कुल रकम 28 लाख रुपए है. इस बारे में हैगर का कहना है कि अपने बच्चों का पेट भरने के लिए स्कूल सरकार के कर्जदार बन गए. बच्चों के पास खाने के पैसे नहीं थे. स्कूलों ने उन्हें खाना तो दिया पर इस प्रक्रिया में उन पर भारी भरकम कर्ज हो गया.
वहीं इन दोपनो बहनों की मां कहती हैं कि कब तक रकम जुटेगी, वे खुद भी नहीं जानतीं. फेसबुक पर चलाई मुहिम के बाद लोग मदद के लिए आगे आए जिससे उन्हें भी मदद मिलेगी. किसी ने कप डोनेट किए तो किसी ने कोई दूसरी चीज. नींबू पानी के स्टाल पर वे स्नैक भी बेचती हैं, जिससे ज्यादा से ज्यादा रकम जुटा सकें. इसी तरह से वो रकम जुटाने में लगे


RBI ने बैकों को दिया झटका, इस लापरवाही पर लगेगा भारी जुर्माना


बैंकों को कड़े निर्देश रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने एटीएम में कैश की किल्लत को देखते हुए जारी किए हैं. आरबीआई ने सभी बैंकों को इसको लेकर दिशानिर्देश जारी किया है. सूत्रों के मुताबिक RBI का कहना है कि अगर अब किसी एटीएम में 3 घंटे से ज्यादा कैश नहीं रहेगा तो बैंक पर जुर्माना लगाया जाएगा. जो कि भारतीय लोगो के लिए (RBI) की और से उठाया गया महत्वपूर्ण कदम साबित हो सकता है.
कुछ ही दिनो में अब जब भी एटीएम पैसा निकालने जाएंगे तो वहां नो कैश का बोर्ड नहीं देखने को मिलेगा. कई बार देखा गया है कि जिस एटीएम में पैसे कम निकाले जाते हैं वहां पैसा खत्म होने के बाद कई दिनों तक या ये कहें कि कई हफ्तों तक पैसा नहीं डाला जाता है. इन्हीं समस्याओं को देखते हुए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने इस मामले में कड़ा रुख अपनाया है. जिससे बैंको के रवयै मे सुविधार होने की उम्मीद है.
आपकी जानकारी के लिए बता दे कि बैंकों के पास एटीएम में कितना कैश है उसकी जानकारी के लिए पूरा सिस्टम है. दरअसल, एटीएम में जो सेंसर लगा होता है उसके जरिए बैंकों को रियल टाइम बेसिस पर एटीएम में कितना कैश बचा है, कब तक खाली होने जा रहा है और कितनी रकम डालनी है, इसकी पूरी जानकारी रहती है. रिजर्व बैंक यह चाहता है कि जब बैंकों को एटीएम में कैश के बारे में सारी जानकारी पता है, तो बैंक एटीएम में कैश ना डालने को लेकर बहानेबाजी क्यों कर रहे हैं.छोटे कस्बों और ग्रामीण इलाकों में एटीएम में पैसे की कमी की समस्या सबसे ज्यादा है. ग्राणीण इलाकों से इसको लेकर लगातार शिकायतें मिल रही थीं.  रिजर्व बैंक ने इसी के आधार पर यह सख्त कदम उठाया है. बहुत समय से ग्राहको द्वारा ऐटीएम मे कैंश न मिलने की शिकायत की जा रही थी.


भारत ने अमेरिका को दिया बड़ा झटका, आज से 26 अमेरिकी प्रोडक्ट हो जाएंगे महंगे


भारत ने अमेरिका को तगड़ा झटका देते हुए 28 अमेरिकी उत्पादों पर एडिशनल कस्टम ड्यूटी बढ़ा दी है. आज से इन सभी उत्पादों पर नई कस्टम ड्यूट लागू हो जाएगी. इस सूची में बादाम, अखरोट और दालें भी शामिल हैं. भारत का यह कदम अमेरिकी निर्यातकों को बड़ा झटका दे सकता है, क्योंकि अब उन्हें 28 उत्पादों पर ज्यादा ड्यूटी चुकाना करना होगा.
इससे भारतीय बाजार में ये तमाम अमेरिकी उत्पाद महंगे हो जाएंगे. कई दफा समय सीमा बढ़ाने के बाद आखिरकार भारत ने 29 अमेरिकी उत्पादों पर अतिरिक्त सीमा शुल्क लगाने का निर्णय लिया है. अपने 30 जून 2017 के नोटिफिकेशन को संशोधित करते हुए सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्ट टैक्स एंड कस्टम्स ने शनिवार को बताया है कि संयुक्त राज्य अमेरिका में बने या निर्यात किए जाने वाले 28 उत्पादों पर अतिरिक्त ड्यूटी लगाई जाएगी. इससे पहले 29 प्रोडक्ट्स पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाई जानी थी, किन्तु इसमें से एक उत्पादों को अलग कर दिया है. अमेरिकी उत्पादों पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाने से देश को तक़रीबन 217 मिलियन अमेरिकी डॉलर का अतिरिक्त राजस्व मिलेगा.
अमेरिका ने गत वर्ष मार्च में स्टील पर 25 फीसदी और एल्युमीनियम उत्पादों पर 10 प्रतिशत आयात शुल्क लगाया था. भारत अमेरिका में इन वस्तुओं के मुख्य निर्यातकों में से एक है, जिस वजह से अमेरिका के इस कदम से भारत के राजस्व पर प्रभाव पड़ा. इसके जवाब में ही भारत ने अब 28 अमेरिकी प्रोडक्ट्स पर अतिरिक्त सीमा शुल्क लगाने का फैसला लिया है.


इस कपल ने बाथरूम में रचाई शादी, वजह कर देगी हैरान


आज हम शादी को लेकर बात करे तो आपको ये बता दें कि विवाह प्रत्येक किसी की जिंदगी का खास दिन होता है। दरअसल, आजकल बाथरूम में शादी करने की खबर इंटरनेट पर काफी वायरल हो रही है।
बता दें कि, ब्रायन स्कूल्ज एवं मारिया स्कूल्ज ने बाथरूम में विवाह किया है। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि दूल्हे की माता को बाथरूम में सांस लेने में दिक्कत हुई तथा उनको बाथरूम में ही ऑक्सीजन देने का निर्णय लिया गया।
ब्रायन के मुताबिक, हम अदलात के बाहर बैठे थे तथा भीतर जाने का इंतजार कर रहे थे। तभी उनकी माता का कॉल आया और उन्होंने कहा कि उनको सांस लेने में दिक्कत हो रही है। उस समय उनकी माता बाथरूम में ही थी।
देखा कि उनका चेहरा पीला हो चुका था, पसीना आ रहा था एवं वो किसी संग बात भी नहीं कर पा रही थी। मोनमाउथ काऊंटी के अधिकारियो ने ब्रायन की माता को बाथरूम में ही ऑक्सीजन देने का निर्णय लिया।
इसके सम्बन्ध में मॉनमाउथ काउंटी पुलिस कार्यालय ने फेसबुक पर लिखा- जोड़ी माता को लेकर बहुत दुखी थी एवं विवाह को 45 दिन हेतु टालने का निर्णय ले रही थी क्योंकि उन्हें शादी का लाइसेंस लेने में 45 दिन का समय लगता।
अधिकारी महिला को बाथरूम से बाहर नहीं लाना चाहते थे। इसलिए उन्होंने बाथरूम में ही विवाह कराने का निर्णय लिया। न्यायाधीश कैटी गुमर बाथरूम में विवाह हेतु मान गई।



गरीबों की मदद के लिए युवक ने किया ऐसा काम, जानकर रह जाएंगे दंग!


आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। दरअसल, हांगकांग में निवास करने वाले 24 वर्ष के वोंग चिंग-किट अपनी लेम्बोर्गिनी कार से उतरता है।

फेसबुक लाइव वीडियो प्रारम्भ करता है एवं कुछ सेकेंड परिचय देकर छत से लाखों उड़ा डालता है। इंटरनेट पर शख्स का आसमान से उड़ते हुए नोटों का ये वीडियो काफी वायरल हो रहा है।

कहा जा रहा है कि ये आदमी गरीबों लोगों की सहायता हेतु उसने 20 हजार पाउंड लगभग 18 लाख के नोट हवा में उड़ा दिए। रिपोर्ट के अनुसार, शख्स ऐसा करके लोगों की नजर में हीरो बनना चाहता था। रिपोर्ट्स की माने तो आदमी ने अपना पैसा क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन में लगा दिया है।

इस घटना के पश्चात इस युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। किन्तु उसने अपनी गिरफ्तारी को अपने फेसबुक पेज पर लाइव दिखाया। इस वीडियो संग एक फोटो भी शेयर कि गई जिसमें नोटों को नीचे गिरते हुए दिखाया गया। वहीं, युवक का बताना है कि वो अमीरों को लूटकर गरीब लोगों की सहायता करना चाहता है।

बिना आधार कार्ड के नही कर सकते यहां शादी, ये है कारण


आज हम बात कर रहे हैं उत्तराखंड के अल्मोडा में स्थित गोलू देवता के प्रसिद्ध मंदिर की जहाँ अब शादी करने के लिए आधार कार्ड जरूरी है। बता दें, इस मंदिर में प्रतिवर्ष करीब 400 शादियां होती हैं, यानी शादियों के सीजन में रोजना करीब छह शादियां यहां होती हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए  मंदिर प्रशासन ने अब यहां होने वाली शादियों से पहले व्यक्ति की पहचान सुनिश्चित करने के लिए आधार कार्ड जरूरी कर दिया है।

नाबालिग शादियों को रोकने के मकसद से मंदिर प्रशासन ने यह कदम उठाया है। स्थानीय मान्यताओं के अनुसार, इस मंदिर में शादी करने से विवाहित जोड़े पर गोलू देवता का आशीर्वाद रहता है। गोलू देवता को कुमाऊं क्षेत्र में न्याय के देवता के रूप में पूजा जाता है। मंदिर के पुजारी और कोषाध्यक्ष हरी विनोद पंत ने बताया कि हर साल यहां बड़ी संख्या में शादियां संपन्न कराते हैं, तो ऐसे में विवाहित जोड़े का नाम और अड्रेस को जांचना मुश्किल हो जाता है। इसलिए आधार कार्ड जरूरी किया गया।

OMG! जयपुर में दंपती ने खुद को कार से बांधकर लगाया ताला


राजस्थान की राजधानी जयपुर में बुधवार को ठगी का शिकार एक दंपती का हाई वोल्टेज ड्राम सामने आया है. यहां एक चिटफंड कंपनी से जुड़े ठगी के आरोपी से अपने पैसे वापस लेने के लिए दंपती ने उसकी कार से खुद का बांधकर ताला लगा लिया. यह घटना जयपुर के चित्रकूट थाने के पीछे प्रताप स्टेडियम की है. काफी देर चले इस ड्रामा की खबर जब पुलिस को लगी तो वहां पहुंची टीम ने कार मालिक का पता लगाया. कार जनकपुरी पांन्च्यावाला निवासी सत्येन्द्र सिंह की निकली. पूछताछ में सामने आया कि आरएमसीएल कम्पनी के चिटफंडी ने धन दोगुना करने के नाम पर आठ लाख रुपए लिए थे. पीड़ित ने अपनी दुकान गिरवी रखकर रुपए दिए थे और उनमें से दो लाख रुपए उसे वापस भी मिल गए लेकिन शेष छह लाख नहीं लौटाए गए. पैसे लौटाने के नाम पर वह दंपती को झांसा देता रहा लेकिन बुधवार को जब उसकी कार देखी तो दंपनी ने पैसा वसूली के लिए यह कदम उठाया. पति-पत्नी के साथ उनका एक बच्चा भी इस वीडियो में उनके साथ नजर आ रहा है


जाफराबाद के दरिया में फंसा 'आकेर' जहाज, देखें वीडियो


गुजरात के अमरेली में जाफराबाद के दरिया में आकेर नाम के एक जहाज के फंसने की खबर सामने आ रही है. बताया जा रहा है कि पानी का बहाव तेज़ होने की वजह से जहाज दरिया में चला गया. खबर है कि बढ़ती लहरों के चलते देर रात तक जहाज डूब सकता है. एंकर पर जहाज को बांधकर जहाज के साभी लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है. दरिया में उठ रही लहरों की वजह से जहाज को किनारे पर लाना मुश्किल लग रहा है.


भारत के इस राज्य में लगती है महिलाओं की मंडी, किराये पर खरीद कर बनाए बीवी


आज हम आपको भारत देश में स्थित ऐसी एक ऐसी ही जगह के बारे में बताने जा रहे हैं जहां महिलाओं को किराये पर लाकर अपनी बीवी भी बनाया जाता हैं और यह एक रिवाज बताया जा रहा है. तो आइये जानते हैं इसके बार में।

भारत देश का मध्य प्रदेश सुप्रसिद्ध समृद्ध राज्य है. भारत देश के मध्य प्रदेश राज्य के शिवपुरी नाम के स्थान पर ‘धड़ीचा प्रथा’ काफी प्रचलित है और हर साल शिवपुरी नामक इस जगह पर एक मंडी लगती है. बता दें कि  जहां लड़कियों को किराए पर देने की प्रथा भी है. वहीं 1 साल के लिए किसी भी महिला को यहां आप अपनी बीवी के तौर पर किराए पर रख सकते हैं और लड़कियों की कीमत 15,000 से 25,000 रुपए तक की होती है.

फिर वो व्यक्ति अगर चाहे तो उस लड़की को 1 साल से ज्यादा समय तक के लिए भी रख सकता है उसके लिए उसे ज्यादा पैसे देने पड़ते है. मध्य प्रदेश में यह प्रथा कई वर्षों से चली आ रही है. इतना ही नहीं इस पूरी प्रक्रिया के लिए 10 रुपए से लेकर 100 रुपए तक के स्टांप पेपर पर सौदेबाजी की पूरी लिखा-पढ़ी भी होती है.

तिरुमला मंदिर में एक श्रद्धालु ने चढ़ाए स्वर्ण आभूषण, कीमत जानकर चकरा जाएगा आपका दिमाग


तिरुपति का तिरुमला मंदिर बड़ी संख्या में मिलने वाले चढ़ावे के लिए हमेशा ही सुर्ख़ियों में बना रहता है। भगवान वेंकटेश्वर को चढ़ाए जाने वाले चढ़ावे में शनिवार को सोने के दो नए 'कति-वरधा' हस्तम चढ़ाए गए हैं। इन्हें एक कपड़ा व्यापारी ने अपनी मन्नत पूरी होने पर चढ़ाने का निर्णय लिया है। बता दें कि तिरुपति बालाजी मंदिर की बहुत मान्यता है और प्रति वर्ष बड़ी संख्या में लोग यहां दर्शन के लिए आते हैं।

उल्लेखनीय है कि कति-वरिधा हस्तम सोने के आभूषण होते हैं जो भगवान के हाथों में पहनाए जाते हैं। विशेष बात यह है कि इनकी कीमत करीब 2.25 करोड़ रुपये है। तमिलनाडु के थेनी जिले के कपड़ा व्यापारी थंगा दुराई ने 6 किलो के वजन के स्वर्ण आभूषण मंदिर को दान देने का फैसला लिया है। उन्होंने अपनी एक मन्नत पूरी होने पर आभूषण चढ़ाने का निर्णय लिया है।

प्रेस वालों से बात करते हुए थंगा दुराई ने बताया है कि, 'मैं अपने बचपन से भगवान वेंकटेश्वर के इस पवित्र धाम में आता रहा हूं।

Saturday, 15 June 2019

गर्मी से बचने के लिए बस ड्राइवर ने अपनाया ये तरीके


सिंगापुर में छत पर गार्डन वाली बसें शुरू की गई है. गर्मी को देखते हुए लोग ना जाने क्या क्या उपाय करते हैं. ऐसे ही एक बस ड्राइवर ने कमाल का काम किया है जिसे जानकर आप भी हैरान रह जायेंगे. बता दें, इन बसों से काफी ठंडक मिलती है और कहीं हद तक गर्मी कम लगती है. बता दें, इससे बस के अंदर का तापमान 5 डिग्री तक कम रहता है.
प्रोजेक्ट एडवाइजर डॉ. चेन लुआंग के मुताबिक, ग्रीन बसों में एयर कंडीशनर नहीं चलाना पड़ता, इसलिए फ्यूल भी कम खर्च होता है. अनुमान के मुताबिक, दिन भर में एक बस में करीब 15-20% फ्यूल खर्च घट जाता है. बस की छत पर और अंदर की ओर सेंसर लगाए गए हैं, इससे तापमान का अंतर पता चल जाता है. जीडब्ल्यूएस लिविंग आर्ट सिंगापुर ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल और एनपी पार्क्स के निर्देशन में यह प्रोजेक्ट चलाया जा रहा है. इसके अलावा एक ग्रीन रूफ की कीमत करीब 10 हजार रुपए है. फिलहाल सिंगापुर पब्लिक ट्रांसपोर्ट की 10 बसों में 4 लाख रुपए खर्च कर ग्रीन रूफटॉप बनाया गया है.
पहले तीन माह तक इस प्रोजेक्ट की मॉनिटरिंग की जाएगी, फिर जरूरी सुधार कर 400 बसों पर ग्रीन रूफ लगाई जाएंगी.गार्डन ऑन द मूव अभियान के तहत इन्हें चलाया जा रहा है. इन बसों की छत पर 1.8 गुणा 1.5 मीटर साइज के दो ग्रीन पैनल लगाए गए हैं. इसमें पानी सोखने वाले रेशों की लेयर रहती है. इनका वजन महज 40 किलो तक ही है. इनमें ज्यादा पानी भी नहीं देना पड़ता, साल में दो या तीन बार मैंटेनेंस की जरूरत पड़ती है. 


फल को बम बना कर लूटेरों ने दो बार लूट लिया बैंक


इजरायल जैसे देश में एक लुटेरे ने एवोकैडो नाम के एक फल को पेंट कर उसी पूरी तरह ग्रेनेड की शक्ल दे दी और लोगों को डराकर बैंक में दो बार डकैती को अंजाम दे दिया. एवोकैडो फल को ग्रेनेड की तरह इस्तेमाल कर आरोपी ने सबसे पहले बेदौं नाम के गांव में बियरशीबा शॉपिंग मॉल की पोस्टल बैंक की शाखा में पहुंचा और ग्रेनेड फेंकने की धमकी देने लगा. उसने कैशियर को एक नोट दिखाया जिसमें लिखा था कि जितना भी कैश हो वो उसे दे दिया जाए. जब कैशियर ऐसा करने से झिझकने लगा तो दूसरे हाथ में फल को ग्रेनेड की तरह दिखाकर बदमाश ने कहा, पैसे जल्दी बैग में डालो वरना इस ग्रेनेड को यहीं फेंक दूंगा.
हैरानी की बात ये है कि पेंट किए गए एवोकैडो को ग्रेनेड समझकर कैशियर ने तुरंत रुपये बैग में डाल दिए जिसे लेकर आरोपी वहां से भाग निकला. स्थानीय रिपोर्ट के मुताबिक बदमाश ने बैंक से करीब 3 लाख 9 हजार रुपये लूट लिए थे. बाद में बैंककर्मियों को पता चला कि जिस ग्रेनेड का डर दिखाकर वो बैंक लूटने आया था असल में वो एवोकैडो फ्रूट था.


इस दूल्हे ने पेश की मिसाल, बिन पैसे की रचाई शादी!


शादियों में दहेज के चलन के बीच अगर कोई बिन पैसे की शादी करे तो यह किसी सपने से कम नहीं। ऐसी मिसाल बेगूसराय जिला के मटिहानी थाना अंतर्गत चाक पुनर्वास निवासी सीआरपीएफ के रिटायर्ड इंस्पेक्टर शंकर मिश्र के पुत्र अनुज कुमार मिश्र ने प्रस्तुत की है।
अनुज ने शादी में  ना केवल दहेज लेने से इंकार कर दिया बल्कि कपड़ा, ज्वेलरी और आशीर्वाद के तौर पर मिलने वाले गोरलगाई लेने से मना कर दिया। अनुज का चयन पिछले वर्ष रेलवे में सहायक स्टेशन मास्टर पद पर हुआ है।
इसके पहले वह नियोजित शिक्षक थे और 13 जून को बीहट निवासी शिक्षिका के साथ परिणय सूत्र में बंधे हैं। शादी में उन्होंने ससुरालवालों से एक पैसा भी नहीं लिया। शादी धूमधाम से संपन्न हुई।
बाराती और घराती उस समय हैरत में पड़ गए जब तिलकोत्सव के दौरान उन्होंने कन्या पक्ष के लोगों से गोरलगाई के रूप में भी हाथ जोड़कर पैसे लेने से इंकार कर दिया। अनुज की दहेजमुक्त शादी की चर्चा आसपास के गांवों में हो रही है। लोग उसके निर्णय की प्रशंसा कर रहे हैं।


सोती हुई औरत संग हुआ ऐसा, अब मर्दों की आवाज...


चीन में जीवन बिताने वाली चेन नाम की एक महिला एक ऐसे रोग से जुझ रही है जिसके अंतर्गत उसे सिर्फ औरतों की ही आवाज सुनाई देती है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, नींद लेती हुई महिला के कान में अचानक कुछ ऐसा हुआ, तत्पश्चात उसे अब पुरुषों की आवाज ही नहीं सुनाई देती।
औरत के मुताबिक, अकस्मात रात में चेन के कानों में कुछ घंटी सी बजी एवं थोड़ी देर के पश्चात उल्टी भी आने लगी, तत्पश्चात हियरिंग लॉस की समस्या हो गई। चिकित्सक ने औरत को बताया उन्हें लो-फ्रीक्वेंसी की आवाज नहीं सुनाई देंगी।
इस रोग को ‘रिवर्स-स्लोप हियरिंग लॉस’ का नाम दिया गया है। चिकित्सकों के अनुसार, ये एक बहरापन है, जो आंशिक तौर पर होता है। चूंकि मर्दों की आवाज लो-फ्रीक्वेंसी की होती है एवं वहीं, औरतों की आवाज हाई-फ्रीक्वेंसी की होती है। यही वजह है कि औरत केवल महिलाओं की ही आवाज सुन सकती हैं।
इस रोग की वजहों की जांच करें तो अधिक चिंता, खराब जीवनशैली, नींद के कम होने से सुनने की क्षमता कम हो जाती है। चिकित्सकों का बताना है दवा के साथ-साथ स्वयं का बेहतर ख्याल से भी ऐसे रोग ठीक हो सकते है।


वरमाला के दौरान दुल्हन संग हुआ ऐसा, जानकर उड़ जाएंगे होश


दिल्ली के शकरपुर क्षेत्र में विवाह के दौरान अजीब वाक्या सामने आया है। यहां देर रात वरमाला के वक्त किसी शख्स ने खुशी में गोली चला दी और ये गोली दुल्हन को जा लगी। घटना के पश्चात आनन-फानन में उसे नजदीक के ही अस्पताल ले जाया गया, जहां प्राथमिक इलाज लेने के पश्चात उसे अस्पताल से वापस लाया गया।
कहा जा रहा है कि दुल्हन को ये गोली पैर में लगी। अस्पताल से वापस आकर उसने घायल हालत में ही विवाह की बाकी की रस्म पूर्ण की। बता दें कि, मंडावली में निवास करने वाली पूजा की शादी भारत उर्फ गोलू संग शकरपुर मौजूद स्कूल ब्लॉक में प्राचीन शिव मंदिर में हुई है।
भारत गीता कॉलोनी में जीवन बिताता है। रात में लगभग 12 बजे जैसे ही दुल्हन-दूल्हा वरमाला हेतु स्टेज पर पहुंचे। तभी किसी आदमी ने खुशी में गोली चला डाली जिससे वो गोली जो सीधी दुल्हन के पैर में जा लगी। घटना की सूचना मिलने के पश्चात पुलिस मौके पर पहुंची।
पुलिस ने लड़की वालों की शिकायत पर आईपीसी की धारा 326 तथा आर्म्स एक्ट-25 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस ने संभावना व्यक्त की है कि गोली हर्ष फायरिंग में चलाई गई हो एवं किसी रिश्तेदार ने ही ये गोली चलाई हो। पुलिस जांच-पड़ताल में जुट गई है। पुलिस सर्वप्रथम उस गोली की खोज में है।
पुलिस के मुताबिक, गोली मिलने के पश्चात आरोपी तक पहुंचने तक आसानी होगी और तत्पश्चात ही तय होगा कि क्या यह फायरिंग खुशी में की गई थी या फिर जानबूझकर किसी ने दुल्हन या फिर दूल्हे को शिकार बनाया।


कर्ज नहीं चुकाने पर औरत को खंभे से बांधकर पीटा, देखिए वीडियो


आज हम आपको एक ऐसी घटना के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। दरअसल, ये घटना बेंगलुरु में घटित हुई है जिसने सभी के होश उड़ा दिए। कर्ज नहीं चुकाने पर एक औरत की खंभे से बांधकर पिटाई की गई।

इर्द-गिर्द के लोग खड़े होकर तमाशा देखते रहे। बता दें कि कोलेगल क्षेत्र के चमाराजानगर में राजामनी नाम की एक औरत छोटा सा होटल चलाती हैं तथा बेंगलुरु में चिट-फंड का कारोबार भी करती हैं।

मीडिया के मुताबिक, उन्होंने किसी से 50 हजार लिए थे। किन्तु वो पैसे नहीं लौटा सकी। कोड़िगेहली में महिला को बिजली के खंभे से बांधा एवं चप्पलों से पीटकर पैसे मांगे गए।

देश में खुला पहला डायनासोर म्यूजियम, ये होगा खास


डायनासोर दुनिया से काफी साल पहले लुप्त हो चुके हैं. लेकिन उनके बारे में पढ़ना और जानना कई लोगों को अच्छा लगता है. इसी को देखते हुए डायनासोर का म्यूजियम भी बनाया गया है जिसके बारे में आपको बताने जा रहे हैं. जानकारी के लिए बता दें, गुजरात के बालासिनोर में देश का पहला और दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा डायनासोर और फॉसिल पार्क जल्द ही आम जनता के लिए खोल दिया जाएगा.

डायनासोर के 6.5 करोड़ साल के इतिहास को बताने के लिए यह देश का पहला आधुनिक म्यूजियम होगा. यहां डायनासोर के रहन-सहन, खान-पान और उनकी जीवन से जुड़ी सभी जानकारी दी जाएगी. राज्य के पर्यटन मंत्री जवाहर चावड़ा ने हाल ही में पार्क का दौरा किया. गुजरात के पर्यटन विभाग ने 128 एकड़ में यह पार्क बनाया है. 36 साल पहले यहीं डायनासोर के जीवाश्म पाए गए थे. बालासिनोर से 11 किलोमीटर दूर रैयोली गांव पेलियोन्टोलॉजिस्ट का सालों से शोध का केंद्र रहा है. पेलियोन्टोलॉजिस्ट का मानना है कि डायनासोर की लगभत सात प्रजातियां यहां रहती थीं.

यहां डायनासोर के 10 हजार अंडों के अवशेष पाए गए थे. इसे दुनिया में डायनासोर का तीसरा सबसे बड़ा जीवाश्म स्थल भी माना जाता है।

किसी स्वर्ग से कम नहीं है पत्थरों से भरा ये समुद्र का किनारा


आज हम आपको एक ऐसी जगह के बारे में बताएंगे जो खूबसूरत होने के साथ-साथ रहस्यमयी भी नजर आती है। दरअसल, रूस में उपस्थित उसरी बीच पर एक वक्त में काफी लोग बैठकर अल्कोहल का सेवन करते थे तथा फिर शराब पीने के पश्चात खाली बोतलों को यहां पर फेंक डालते थे।

जिसकी वजह से इस समुद्र का तट पूरी तरह से कांच की बोतलों से ढक चुका था। तत्पश्चात सरकार ने इस बीच को खतरनाक घोषित कर दिया एवं यहां पर लोगों के घूमने पर रोक लगा दी।

सालों तक यहां पर कांच की बोतलें पड़े-पड़े टुकड़ों में तब्दील हो गई तथा फिर ये कीमती पत्थरों में बदल गई। तत्पश्चात यहां की सरकार ने इस स्थान से कांच के टुकड़ों को डम करवा डाला।

आपको इस बीच पर पड़े ये रंग-बिरंगे सुंदर पत्थर किसी रहस्य से कम नजर नहीं आते हैं। इन पत्थरों की वजह से ये जगह स्वर्ग के समान प्रतीत होती है तथा यहां पर इन पत्थरों को देखने हेतु पर्यटक की काफी भीड़ लगी रहती है।