Sunday, 14 April 2019

क्या आप Reliance Jio के यूजर्स हैं ? जानिये क्या हैं 19 और 52 रुपये के प्लान


यूजर्स की इन समस्याओं के लिए कंपनी ने Jio Sachet प्लान लॉन्च किया है.

जिओ सचेत प्लान 19 रुपये और 52 रुपये का है. प्रीपेड प्लान की बात करें तो  आधिकारिक वेबसाइट  jio.com के मुताबिक, 9999 रुपये तक के प्लान हैं. सभी प्लान में हाई स्पीड डाटा दिया जाता है. कम से कम रोजाना 1.5 जीबी हाई स्पीड डाटा से रोजाना 5 जीबी तक डाटा ऑफर किया जा रहा है. हालांकि, हाई स्पीड डाटा लिमिट समाप्त होने के बाद स्पीड घटकर 64kbps रह जाती है. ऐसे में सचेत प्लान से एक्स्ट्रा डाटा का फायदा उठाया जा सकता है.

नए और पुराने Jio यूजर्स के लिए बंपर ऑफर, 299 के रिचार्ज पर 10 हजार का फायदा

19 रुपये का प्लान।
19 रुपये के सचेत प्लान की वैलिडिटी 1 दिन की है. इसमें 150 MB  हाई स्पीड डाटा मिलता है. वॉयस कॉलिंग मुफ्त है और इसके अलावा 20 SMS मिलते हैं. Jio Apps का कंप्लीमेंट्री सब्सक्रिप्शन भी मिलता है.

52 रुपये का प्लान।
इस प्लान की वैलिडिटी 7 दिनों की है. 150 MB डाटा रोजाना मिलता है. अनलिमिटेड लोकल और एसटीडी कॉलिंग मुफ्त है. इसके अलावा 70 SMS भी मिलते हैं. Jio Apps का कंप्लीमेंट्री सब्सक्रिप्शन अलग से मिलता है.

जुकाम के अलावा इस चीज में भी काफी काम आती है विक्स!


आज हम विक्स को लेकर बात करे तो आपको ये बता दें कि हम इसे केवल सिरदर्द या दर्द वाली जगह ही लगाते हैं। जिसे हमे काफी राहत महसूस होती है। इसके सिवा कुछ लोगों को तो ये भी पता नहीं तो है कि विक्स के और भी कई फायदे होते है।

बता दें कि हम विक्स को माथे पर रगड़कर शांति पा लेते हैं, तो इसे पैरों की तलों में भी लगाने से सर्दी का प्रभाव शीघ्र ही जाता है।वैसे, विक्स अनेक मामलों में वैकल्पिक उपचार करने में सक्षम है।

ये चेहरे पर झुर्रियों को हटाने में भी काफी सहायता कर सकता है। चेहरे पर तनाव के कारण आए चिन्ह को ये काफी सरलता से मिटा देता है। विक्स की विशेष बात ये है कि यदि आपके हाथों में शरीर के किसी मजबूत भाग में छोटा सा कट बन गया हो एवं  उसमें से रक्त निकलना बंद न हो रहा हो तो आप विक्स में कुछ नमक मिलाकर कट वाली जगह पर लगा लें।

ऐसा करने से शीघ्र ही रक्त रिसाव बंद हो जाएगा। इसके संग ही विक्स की सहायता से आप फंगस से लड़ सकते हैं।

राजा से बचने के लिए यहां की महिलाएं अपने शरीर के साथ कर लेती हैं ये काम


छत्तीसगढ़ की आदिवासी महिलाएं अपने शरीर के हिस्सों पर गोदना गुदवाती है. ऐसा करना उनकी परंपरा है।

राजा से बचने के लिए गोदना छत्तीसगढ़ के बैगा जनजाति की लड़कियां जैसे ही 10 साल की उम्र पार करती है उनके शरीर पर गोदना गुदवा दिया जाता है. कहा जाता है कि उनका एक राजा हैवान था. वो रोज अलग-अलग महिलाओं को हवस का शिकार बनाता था और उनके साथ संबंध बनाने के बाद पहचान के लिए उनके शरीर पर गोदना गुदवा देता था. राजा की इस हरकत से खुद को बचाने के लिए महिलाओं ने राजा के तरीके को ही अपना हथियार बना दिया और अपनी बेटियों और बहूओं के शरीर पर गोदना गुदवना शुरू कर दिया, ताकि राजा की नजरें उनपर न पड़े.

लड़कियों के पैर, जांघ, दर्दन, पीठ, छाती और फिर चेहरे पर गोदना गोदा जाता है. उम्र के मुताबिक शरीर के हिस्सों का चयन किया जाता है. आज भी है प्रथा छत्तीसगढ़ के बैजा जनजाति की महिलाएं आज भी अप नी इस प्रथा को लेकर चल रही है.

इस शख्स के कान में था छिपकली का घर, देखकर डॉक्टर भी रह गए हैरान


आज हम आपको कुछ ऐसा बताने जा रहे हैं जिसे जानकर आप भी हैरान रह जायेंगे. कई बार इंसानों के साथ कुछ ऐसा हो जाता है जो हर किसी के लिए हैरानी भरा होता है. आइये आपको भी बता दें इसके बारे में.

दरअसल, चाइना में हुई ये चौंकाने वाली घटना-चाइना में एक शख्स के साथ ये हैरान कर देने वाली घटना हुई जब वो सोकर उठा तो उसने अपने कानों में असहनीय दर्द महसूस किया क्या आप सोंच सकते है ये दर्द क्यों हो रहा था. जब वो डॉ़क्टर से मिला तो उसके पैरों के नीचे से जमीन फिसल गई क्योंकि उसके कान में एक छिपकली घर बनाकर रह रही थी यही कारण था वो बेचारा आदमी सिर दर्द और कान की जलन से तड़प रहा था. ये सुनकर आप भी चौंक गए होंगे कि लेकिन ये सच है.

इसके बाद, छिपकली निकालने से पहले दिया गया एनेस्थीसिया इससे पहले की डॉक्टर छिपकली को कान से बाहर निकालते उसे एनेस्थीसीया दिया जाना जरूरी था क्योंकि छिपकली अभी भी जिंदा थी. हालांकि ये काम सिर्फ 5 मिनट का ही था पर जोखिम से भरा हुआ था. छिपकली के बाहर निकलने पर पूंछ थी गायब जब डॉक्टर ने छिपकली बहार निकाली तो सब चौंक गए क्योंकि छिपकली के उसकी पूंछ बाहर नहीं आई, सभी ये उम्मीद कर रहे थे कि छिपकली के पहले से ही पूंछ कटी हुई हो.

72 घंटे तक शख्स के कान में घुसा रहा ऐसा जीव, दर्द से तड़पता देख डॉक्टरों के भी उड़े होश



अक्सर घरों में आपने छोटे-छोटे जीव जंतु देखे होंगे जो घर के कोनों में जहां जगह मिल जाए वहीं अपना घर बना लेते हैं। लेकिन अगर आपको ये पता चले कि छोटे जीव इंसानों के शरीर में भी अपना घर बना सकते हैं तो आप चौंक जाएंगे। आपने कान से मकड़ी, कॉकरोच निकलने की खबरें तो पढ़ी और सुनी होंगी लेकिन एक शख्स के साथ अजीबो-गरीब घटना घटी जिसके बारे में जानकर आपके होश उड़ जाएंगे।


आपको जानकार हैरानी होगी कि दक्षिणी चीन के गुआंगजो शहर में एक शख्स के कान में तेज दर्द के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां कान के अंदर की हालत देखकर डॉक्टरों के होश उड़ गए। चीन में रहने वाले इस शख्स के लिए नींद एक बुरे और खतरनाक सपने की तरह साबित हुई है।

बताया जा रहा है कि यह शख्स झपकी लेने के लिए लेटा और तबी अचानक उसके कान में तेज खुजली हुई तो वह चौंककर उठ गया। उसे अहसास हुआ कि उसके कान के अंदर कुछ चल रहा है और वह अंदर काफी तेजी से रेंग रहा है। उसे लगा कि कॉकरोच हो सकता है।

 लेकिन इस शख्स के कान में जब भयंकर दर्द होने लगा और दर्द बर्दाश्त से बाहर हुआ तो शख्स डॉक्टर के पास पहुंचा और जब इनके कान के दर्द की हकीकत पता चली कि इनके कान में जिंदा छिपकली घुस हुई है। जबकि, इस शख्स को पिछले 3 दिनों से कान में हल्का दर्द था पर इन्होंने नजरअंदाज करता रहा।

सबसे हैरानी की बात तो यह है कि छिपकली जितना बड़ा जीव इनके कान में तीन दिन से रह रहा था और इन्हें पता भी नहीं चला। छिपकली ने इनके कान का तो बुरा हाल कर ही दिया था साथ ही इनके कान के परदे को भी चट कर गयी थी और इस वजह से कान के साथ-साथ इन्हे जबरदस्त सिरदर्द भी होने लगा था।

डॉक्टरों ने बताया कि छिपकली कान में घुस तो गयी पर वापस पलटने की जगह न होने के कारण बाहर नहीं निकल पायी और कान में ही अटक गयी। कान से इस छिपकली को बाहर निकालने के लिए डॉक्टरों ने एक ऑपरेशन किया जो बेहद जोखिम भरा था।

इस व्यक्ति को पहले एनेस्थीसीया दिया गया और फिर इस जिंदा छिपकली को इनके कान से निकाला जा सका। छिपकली निकलने के बाद इस शख्स को कुछ राहत तो मिली पर एक कान से सुनना बिल्कुल बंद हो चुका है।

बिना संबंध बनाए 49 बच्चों का पिता बना ये डॉक्टर, डोनेट स्पर्म का करता था इस्तेमाल


नीदरलैंड में एक डॉक्टर के बारे में बेहद चौंकाने वाला मामला सामने आया है। जब से आईवीएफ तकनीक का इजाद हुआ है नि:संतान दंपतियों को भी संतान सुख प्राप्त होने लगा है। लेकिन यहां एक डॉक्टर ने दान किए शुक्राणुओं (स्पर्म) को अपने शुक्राणुओं में बदल देता था। और तो और ये डॉक्टर आईवीएफ तकनीक से करीब 49 बच्चों का पिता बन चुका है।


दरअसल, इस पूरे मामले का खुलासा बीते शुक्रवार को कराई गई डीएनए जांच में हुआ। यह जांच डच कोर्ट के आदेश पर एक सामाजिक संगठन द्वारा निजमेगन शहर में कराई गई। यह संगठन इस क्लीनिक में पैदा हुए बच्चों और उनके माता-पिता का नेतृत्व करता है।

हालांकि, डॉक्टर जन करबात की 2017 में मौत हो गई है और मौत से पहले डॉक्टर ने माना था कि वह 60 बच्चों का पिता बन चुके हैं। उसका क्लीनिक भी अनियमितताओं और अन्य गैरकानूनी काम करने के चलते 2009 में ही बंद कर दिया गया।


यह पूरा मामला इसी साल फरवरी में डच कोर्ट द्वारा संज्ञान में लाने के बाद सामने आया। कोर्ट ने अभिभावकों को बच्चों के डीएनए से डॉक्टर करबात के डीएनए टेस्ट से मिलान करने की इजाजत दी थी।


अपनी मौत से पहले डॉक्टर करबात  ने एक विवादित बयान भी दिया था। डॉक्टर ने कहा था कि वो 60 से ज्यादा बच्चों का पिता बन चुका है। डच मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, करबात ने बाद में यह भी स्वीकार किया था कि उसने कई डोनर के स्पर्म को मिक्स कर दिया था।

डॉक्टर के परिवार पर मुकदमा किया गया था, तब जाकर उन्होंने डॉक्टर के डीएनए रिपोर्ट को शेयर किया। करबात के बच्चों में से एक एरिक लेवर ने कहा कि वह करबात की इस हरकत से नाराज नहीं था। डॉक्टर ने उसकी मां के साथ धोखा किया था, इसलिए उसने यह केस दर्ज कराया। मेरी मां एक बच्चा चाहती थी और मेरे पिता इसमें सक्षम नहीं थे।






99 साल के जीवन में महिला को नही हुई कोई परेशानी, मरने के बाद खुला सबसे बड़ा राज


अमेरिका की रहने वाली एक महिला 99 साल तक जिंदा रही और इस दौरान उसे कोई भी परेशानी नहीं हुई. वहीं बाद में जब महिला की मौत हो गई तो उसके बारे में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ. बाद में यह खबर आई कि उसके सारे अंग गलत जगहों पर थे.

बता दें कि मृत महिला का नाम रोज मेरी बेंटले है, जो अपने जमाने में एक अच्छी तैराक भी हुआ करती थी. वहीं बेंटले अपने पति के साथ एक फीड स्टोर यानी पशुओं के चारे की दुकान चलाती थी.

महिला के शरीर को मेडिकल के छात्रों के एक समूह को दिया था, ताकि वह मानव शरीर की संरचना को ठीक प्रकार से समझ सकें और इस दौरान जब महिला के शरीर की जांच की गई तो पता चला कि उसके सभी अंदरुनी अंग अपनी जगहों पर नहीं थे, सरे अंग अपने जगह से अलग-लग थे. यह नजारा देखकर सभी छात्र काफी हैरान रह गए.

प्राप्त मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, महिला के अंग गलत जगह पर होने के साथ-साथ उसके कुछ अंगों के आकार सामान्य से भी काफी बड़े बताए गए. हैरानी वाली बात यह रही कि महिला के दाहिने फेफड़े में तीन के बजाय दो लोब थे. जबकि महिला के दिल में एक बड़ी नस गायब थी, जो सामान्य तौर पर दाईं ओर होती है. जो कि जाँच में बाईं ओर पाई गई. वहीं इस महिला का बेंटले का पाचन तंत्र भी उल्टा था.

वीडियो में देखें दुनिया की सबसे अनोखी चोरी


आज हम आपको एक ऐसी अजीब चोरी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे जानकर आप दांतों तले उंगलियां दबाने पर मजबूर हो जाएंगे. यहां चोर अपने साथ चोरी करने के लिए क्रेन लेकर आए और पूरा एटीएम ही वे उखाड़ ले गए. यदि आपको इसका यकीन नही हो रहा है तो आप इसका वीडियो भी देख सकते हैं...

बता दें कि यह मामला उत्तरी आयरलैंड का है और प्राप्त खबरों के मुताबिक, काउंटी लंदनडेरी स्थित एक दुकान के बाहर चोर पहुंचे और उन्होंने कपड़े से अपना मुंह ढक रखा था. चोर एटीएम को चुराने के लिए उन्होंने अपने साथ एक क्रेन मशीन लेकर आए थे. जहां उन्होंने बाद में इसका भी उपयोग किया. खास बात यह है कि  आयलैंड में इस साल चोर एटीएम उखाड़ने की 8 घटनाओं को अंजाम दे चुके हैं.

फिलहाल सोशल मीडिया पर पुलिस ने हाल ही में घटना से जुड़ा एक वीडियो भी जारी किया है और इसमें मुंह ढके चोरों को क्रेन की मदद से एटीएम उखाड़ते हुए आप देख सकते हैं।

पानी छूते ही थर-थर काँप उठती है यह महिला


आपको हम जिस महिला के बारे में बताने जा रहे हैं उसे असल में पानी से काफी डॉ लगता है और उसे यह एलर्जी पानी से गई है. वहीं कार्डिफ वेल्स की रहने वाली 26 वर्षीय चेरेल फारूगिया जब भी पानी के संपर्क में आती हैं तो उन्हें बेहद दर्दनाक खुजली होने लगती है और उनके शरीर पर लाल चकत्ते पड़ने लगते. बताया जा रहा है कि चेरेल के शरीर पर ये एलर्जी सबसे ज्यादा छाती, पीठ और हाथों के ऊपरी हिस्से में देखने को मिलती है.

खबर है कि जब तक वे नि:संतान थी, तब तक उन्हें ऐसी कोई एलर्जी नहीं थी जब से उन्होंने अपनी बेटी को जन्म दिया उसके बाद से उन्हें ये एलर्जी होने लगी. इसके कारन उन्हें काफी पैदा भी सहन करनी पड़ती है. इस बीमारी को एक्वाजेनिक अर्टिकेरिया कहा जाता है और इस समस्या में किसी भी रूप में पानी के संपर्क में आने से स्किन पर खुजली होने लगती है और स्किन लाल पड़ने लग जाती है. चेरेल ने एक साक्षात्कार में खा था कि बेटी के जन्म के बाद से ही मुझे ये दर्दनाक समस्या हो गई थे और ये एलर्जी चेरेल को कांटे की तरह चुभती थी.


300 फीट की ऊंची पहाड़ी पर लटका हुआ है ये अनोखा होटल, जानिए खासियत


आज हम आपको एक ऐसे होटल के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप दंग रह जाएंगे। दरअसल, हम जिस होटल की बात कर रहे है वो स्काईलॉज होटल है जिसे पैरू, साउथ अमेरिका की सैक्रेड वैली पर बनाया गया है।

इस होटल का आकार कैप्सूल जैसा हैं। ये 24 फीट लंबा, 8 फीट चौड़ा एवं 8 फीट ऊंचा है। इसमें 4 बेड, एक बाथरूम तथा डाइनिंग रूम भी तैयार किया गया है।

जानकारी के मुताबिक, ये होटल लगभग 300 फीट की ऊंची पहाड़ी पर लटका हुआ है परन्तु फिर भी पर्यटक की यह पहली पसंद बना हुआ है। बता दें कि यहां तक पहुंचने के 2 तरीके हैं पहला जिपलाइन की जहां 2 पर्वतों को एक-दूसरे से जोड़ने हेतु मजबूत तार लगाए जाते हैं।

जिसे पार कर शख्स पर्वत के एक कोने से अन्य कोने तक पहुंच सकता है। दूसरा पर्वत के तट पर बनी 1300 फीट मेटल की सीढ़ी से। इस होटल को पूरी तरह ट्रांसपेरेंट रखा गया है। जहां से आप पर्वतों के सुंदर दृश्यों का लुफ्त उठा सकते है।